विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

एक औरत अजनबी / लघुकथा / अशोक बाबू माहौर

 

माँ ने अपनी कलाई घुमाई,दर्द कतई नहीं था। माँ को ऐसा लग रहा जैसे किसी ने जादू से पुराना दर्द गायब कर दिया हो और वह चमत्कार को नमस्कार करने लगी।

      "माँ मुझे बहुत भूख लगी है,खाना बना दो न,। "छोटे बच्चे ने जिद्द ठानी।

      "अलोक भैया माँ को क्यों परेशान करते हो ?देखो कितना दर्द है उनकी कलाई में। "नंदनी ने कहा।

अलोक अपनी जगह पर ठहर गया। वह बहन की बात भी टाल नहीं सकता और माँ को भी कराहते देख नहीं सकता। माँ ने अपनी कलाई का उपयोग किया अलोक के लिए खाना बनाया। यह सब देख नंदनी बोल उठी।

       "माँ अब आपकी कलाई में दर्द नहीं है,ये सब कैसे हुआ। "

       "छोड़ बेटी क्यों पूछती है ?"

       "नहीं,नहीं बताओ न माँ। "

दोनों बच्चे अडिग खड़े माँ से पूछने के लिए किन्तु माँ बताने से इंकार करती रही आखिर ऐसी कौन सी  दवाई थी जो वर्षों पुराना दर्द चुटकियों में हर ले गई। अंत में माँ को बताना ही पड़ा।

       "बता दूँगी बच्चों पहले आप स्कूल से पढ़ के जाओ। "

       " ठीक है माँ। "

यह कहकर बच्चे स्कूल चले गए। शाम का समय ठंडी हवाएं हलचल मचातीं। खिड़कियों के परदे उड़े जा रहे। किवाड़ चरचराते कभी अंदर,बाहर हो रहे। माँ ने धक्का मारकर कुण्डी लगा दी। थोड़ी सी चाय बनाई सामने रखे कप में परोस दी तथा कुर्सी पर विराजमान हो गई।

        "माँ अब बताओ न,आपने सुबह कहा था पहले पढ़ के आओ। "नंदनी धीमे स्वर में बोली।

        "बताती हूँ बेटी। "

        "रात जब मैं चारपाई पर लेटी थी। एक अजीब सा सपना आया,सपने में एक औरत अजनबी आई। वह शायद डॉक्टर थी ऐसा मुझे महसूस हो रहा था। " माँ ने चाय की चुस्की ली।

        "आगे क्या हुआ ?" अलोक बोल उठा।

        "बताती हूँ तुम मेरी जान के पीछे ही पड गए। "

        "उस अजनबी औरत ने मुझे देखा,नब्ज देखी कलाई टटोली,'आप ठीक हो जाएँगी। ' मेरा मन विचलित हुआ कही उन हकीमों की तरह रूपए न ऐंठ ले,इसलिए मैंने डर से कहा -'पहले नंदनी के पापा से पूछ लूँ कल आना। किन्तु वह औरत नहीं मानी पहले मुझे रुलाती रही बाद में हँसी के गोल गप्पे भी खिलाए। झट से मेरी कलाई पकड़ी झटके से दीवाल में दे मारी। मैं दर्द से कराह उठी आँसू तेज बह उठे। मैं औरत पर आग बबूला हो उठी। पता नहीं वह कहाँ गायब हो गई। सुबह जब मेरी आँख खुली तो दर्द गायब था। धन्यवाद उस अजनबी औरत का जिसने मुझे ठीक किया। "

         "माँ ये तो चमत्कार हो गया। "नंदनी बीच में ही बोली।

         "हाँ बेटी चमत्कार तो है पर वह औरत थी कौन ?"

         "कोई भी हो दर्द तो ठीक हो गया। " अलोक ने कहा।

         "नहीं बेटा जरूर कोई दिव्य देवी होगी,तभी तो सपने को हकीकत में बना दिया।" माँ ने समझाते कहा।

सुबह माँ ने मेवा मिष्ठानों के साथ देवी देवताओं की पूजा की। पंडित जी को बुलाकर हवन भी कराया। गरीबों को भोजन खिलाया तथा वस्त्र भी बाँटे।

 

                             -परिचय-

image

अशोक बाबू माहौर

जन्म-10 :01 :1985 

साहित्य लेखन,विभिन्न साहित्यक विधाओं में संलग्न।

रचनाकार,स्वर्गविभा,हिन्दीकुंज,अनहद कृति, पुरवाई, पूर्वाभास  साहित्य शिल्पी साहित्य कुंज आदि हिंदी की साहित्यिक पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित।

ई-पत्रिका अनहद कृति की तरफ से 'विशेष मान्यता सम्मान २०१४-१५' से अलंकृति।

संपर्क-ग्राम-कदमन का पुरा,तहसील-अम्बाह,जिला-मुरैना (मध्य प्रदेश) 476111 

मो-09584414669 

ईमेल-ashokbabu.mahour@gmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget