रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

जिन्दगी की जद्दोजहद : अवशेष प्रणय

image

समीक्षक : आरिफा एविस

‘अवशेष प्रणय’ राजा सिंह द्वारा लिखा गया कहानी संग्रह है जिसमें आधुनिक दौर के इन्शान की कहानियां हैं जो किसी भी गली-मोहल्ले की कहानियां कहला सकती हैं. इन कहानियों को पढ़ते-पढ़ते ये हमारी तुम्हारी कहानी कब बन जाती है इसका पता भी नहीं चलता. यह लेखक की सफलता मानी जा सकती है.

भारत ही नहीं पूरी दुनिया में बेरोजगारी एक ऐसा अभिशाप है. जिससे न जाने कितनी जिंदगियां बर्बाद कर दी है . बेरोजगार युवा की घर और समाज में क्या स्थिति होती है? एक बेरोजगार को किन-किन मानसिक पड़ताड़नाओं से गुजरना पड़ता है? लेखक ने उन बेरोजगार युवाओं की सामाजिक एवं मनोवेज्ञानिक स्थिथि का सजीव चित्रण किया है अपनी कहानी “बेरोजगार” में- “वह करीब-करीब हर दूसरे-तीसरे दिन इम्प्लॉयमेंट एक्सचेंज नौकरी की खोज में या किसी प्राइवेट फर्म में इंटरव्यू देने और वापस खाली हाथ या आश्वासनों का ढेर लिए घर वापस आ जाता है. बेचारा नौकरी के लिए परेशान है. बेचारा शब्द सुनना व महसूस करना दोनों ही उसे काफी खलते हैं.” “...बाप का रुखा बोलना किन्ही माईनों में गलत भी नहीं था. रिटायर्ड पोस्ट ऑफिस क्लर्क जिसे मिडिल पास होने पर ही नौकरी मिल गयी थी, उसका बेटा बी.ए. फर्स्ट डिविजन से पास होने पर भी बेकार है.”

‘उलझती जिन्दगी’ एक मध्यम वर्गीय परिवार की कहानी है जो दिल्ली शहर के एक इलाके में रहता है. एक बड़े परिवार का दो पिंजड़ेनुमा कमरों में रहना और घर आई नई नवेली दुल्हन का पति को अलग रहने का आग्रह करना, और फिर अलग रहने पर भी संतुष्ट न होकर झगड़ा करके घर चले जाना. और फिर कभी लौटकर न आने की कहानी है. लेखक ने इस कहानी के माध्यम से शहरी जीवन के इस भागदौड़ भरी जिन्दगी में नौकरी और परिवार में तालमेल बिठाने की कोशिश में टूटते परिवार की दर्दनाक स्थति को दिखाया है.

प्रेम निस्वार्थ होता है. प्रेम में जब स्वार्थ पैदा हो तो रिश्तों में दरार होना स्वाभाविक है. कहानी ‘आखिरी खत’ में एक लेखक अपने लेखन के शौक को पूरा करने के लिए नौकरी को छोड़ देने की बात पर सभी नाराज हो जाते हैं और प्रेमिका की दलील भी कुछ इस तरह होती है- “राज, नौकरी छोड़नी तुम्हारी अस्थिर मनोवृत्ति का परिचायक है. और जो व्यक्ति अपने भविष्य को इस तरह ठोकर मार सकता है, वह मुझे नाउम्मीदियों के सिवा दे भी क्या सकता है?” जिसके बाद उसकी शादी किसी और से हो जाती है और रह जाता है लड़के का शिकायत भरा खत.

इन्सान को जिन्दगी के हर मोड़ पर विभिन्न परिस्थितियों से गुजरना पड़ता है. इन परिस्थितियों से संघर्ष के दौरान इन्सान के मन सैकड़ों सवाल उठते हैं. लेखक राजा सिंह ने अपने कहानी संग्रह में उसी आम इन्सानी जिन्दगी की जद्दोजहद को दर्शाने की कोशिश की है. लेखक राज सिंह कुछ हदतक इस में कामयाब भी हुए हैं. कुछ कहानियों में कहीं-कहीं पर भटकाव साफ़ नजर आता है. लेकिन कहानियों की जमीन बहुत मजबूत है इसलिए लेखक पाठक के दिल में आपनी जगह बनाने में कामयाब हो जाता है.

अवशेष प्रणय : राजा सिंह | प्रकाशक : राष्ट्रीय पुस्तक सदन | कीमत 350 रुपये

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget