विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

मेरा जुर्म क्या है ? / कहानी / सुशांत सुप्रिय

 

 

आइए , इंस्पेक्टर साहब । मुझे शुबहा था कि आप लोग मेरे घर भी ज़रूर आएँगे । इलाक़े में जितने मुसलमान हैं , उन में से ज़्यादातर के दरवाज़ों पर आप पहले ही दस्तक दे चुके हैं । ख़ैर , यह भी बता दीजिए कि मेरा जुर्म क्या है ? क्या कहा ? आपको मुझ पर भी शक है ? तो आइए और मेरे घर की तलाशी भी ले लीजिए , हालाँकि मैं पहले ही बता दूँ कि मैं एक ग़रीब दर्ज़ी हूँ । शहर में हुए बम-धमाकों से मेरा कोई लेना-देना नहीं ।

जनाब , उधर तसबीह लिए बैठे बुज़ुर्गवार मेरे वालिद हैं । नहीं-नहीं , उनका भी शहर में हुए बम-धमाकों से कुछ भी वास्ता नहीं । पुलिसवालों को अपने घर में घुस आया देखकर जैसे कोई भी आम इंसान सहम जाता है , वैसे ही वो भी सहम गए हैं ।

जी, जनाब ! ये दोनों बच्चे मेरे ही हैं । मदरसे में पढ़ते हैं । आप लोगों को देखकर डर गए हैं । उस कोने में मेरी बच्ची है जो बुर्क़े में खड़ी अपनी माँ की टाँगों से चिपकी हुई है । घर में किसी को समझ नहीं लग रही है कि हमारे यहाँ पुलिस क्यों घुस आई है । पर आप अपना काम कीजिए , जहाँ चाहे तलाशी लीजिए ।

क्या कहा , जनाब ? आप अलमारी खोलकर देखना चाहते हैं ? शौक़ से देखिए । हर घर में जो आम चीज़ें होती हैं , बस वैसी ही कुछ चीज़ें अलमारी में रखी हैं । वह हमारी ऐल्बम है , साहब । आप जानना चाहते हैं कि उसमें यह फ़ोटो किसकी है ? यह मेरा छोटा भाई है हुज़ूर जो मुज़फ़्फ़रनगर में हुए दंगों में मारा गया था । नहीं-नहीं , आप ग़लत समझ रहे हैं । वह दंगाई नहीं था । वह पुलिस-फ़ायरिंग में नहीं मारा गया था । वह बेचारा तो शहर के कॉलेज में पढ़ता था । दंगाइयों ने उसे फ़साद के समय छुरा मार दिया था । मेरे वालिद इस सदमे से अपनी आवाज़ खो बैठे । वो आपके सवालों के जवाब नहीं दे पाएँगे । आप अपने सारे सवाल मुझसे पूछिए ।

अच्छा , आप जानना चाहते हैं कि कोने में पड़े ट्रंक में क्या है ? जनाब , एक ग़रीब दर्ज़ी के यहाँ आपको क्या मिलेगा ? कुछ पुराने कपडे-लत्ते हैं । एक-दो पुरानी दरियाँ हैं । एक-दो फटे हुए कम्बल हैं , जो सर्दियों में काम आते हैं ।

आइए , आइए , आप खुद ही तलाशी ले लीजिए । हुज़ूर , वह क़ुरआन शरीफ़ है और अब जो किताबें आपने उठा रखीं हैं वो मेरे बच्चों की किताबें हैं । आप किताबें खोल कर देख रहे हैं ? देखिए , देखिए । किताबों में और कुछ नहीं है । ये किताबें उर्दू में क्यों हैं ? साहब , हमारे यहाँ तो उर्दू में लिखी किताबें ही मिलेंगी । उर्दू हमारी मादरी ज़बान है । ये किताबें आपने ज़ब्त कर ली हैं ? क्यों हुज़ूर ? क्या उर्दू किताबें घर में रखना जुर्म है ? क्या कहा ? आपको उर्दू नहीं आती और आप किसी उर्दू के जानकार से ये किताबें पढ़वाएँगे । कहीं इसमें मुल्क के ख़िलाफ़ कुछ न लिखा हो , इसलिए ? आप ख़्वामख़ाह शक कर रहे हैं । लाइए , मैं ही पढ़ देता हूँ । ये ऊपर वाली तो अलिफ़ , बे वाली किताब है । नीचे वाली किताब में कुछ नज़्में हैं । क्या कहा ? आपको मेरी बात पर यक़ीन नहीं ? जैसी आपकी मर्ज़ी , साहब । अब मैं आपको कैसे यक़ीन दिलाऊँ ?

नहीं , नहीं , जनाब ! मैंने कहा न , वो मेरी बीवी है । बुर्क़े में क्यों है ?

जनाब , हमारे यहाँ घर की औरतें ग़ैर-मर्दों के सामने बुर्क़े में ही रहती हैं । ये हमारा रिवाज है । नहीं , आप उसका चेहरा नहीं देख सकते । माफ़ कीजिएगा , मैं इस बात की इजाज़त आपको नहीं दूँगा । क्या कहा ? आपको मेरी बीवी पर शक है ? आप उसकी तलाशी लेना चाहते हैं ? इसके लिए आप ज़नाना कांस्टेबल ले कर आइए ।

अरे , आप तो नाराज हो गए । मेरी बात का बुरा मत मानिए , इंस्पेक्टर साहब । मोहल्ले वाले पहले ही गली में खड़े हैं । इलाक़े में आपकी तलाशी की मुहिम की वजह से लोगों में पहले ही ज़बरदस्त ग़ुस्सा भरा है । अगर मोहल्ले के लोगों को पता चला कि घर की औरत की बेइज़्ज़ती हुई है तो इसी बात पर यहाँ दंगा हो जाएगा , जो मैं नहीं चाहता । नहीं-नहीं , हुज़ूर । मैं आप को डरा नहीं रहा , सिर्फ़ हालात से वाक़िफ़ करवा रहा हूँ । क्या कहा ? आप लेडी-पुलिस बुला रहे हैं ? ज़रूर बुलाइए , साहब । इसमें मुझे क्या एतराज़ हो सकता है ।

हाँ , इंस्पेक्टर साहब , यह हिन्दोस्तान का झंडा है । क्या कहा , जनाब ? हमने अपने घर में मुल्क का परचम क्यों रखा है ? साहब , क्या अपने मुल्क का परचम अपने घर में रखना जुर्म है ? यह झंडा मेरा भाई ले कर आया था । उसे क्रिकेट का बहुत शौक़ था । जब भी हिन्दोस्तान की टीम का कोई मैच शहर में होता था , वह मुल्क का परचम ले कर मैच देखने ज़रूर जाता था । जब हमारी टीम जीत रही होती थी , तब मेरा भाई शान से अपने मुल्क का झंडा स्टेडियम में लहराता था ।जब से भाई दंगे में मारा गया , यह परचम घर में यूँ ही पड़ा हुआ है । क्या करूँ , जनाब , जब भाई की याद आती है तो रोना आ जाता है ।

क्या कहा , साहब ? झंडे को इस तरह मोड़कर कोने में रखना झंडे की बेइज़्ज़ती है ? उसका अपमान है ? इस बात के लिए आप मेरे ख़िलाफ़ कार्रवाई कर सकते हैं ? इंस्पेक्टर साहब , मैं तो एक ग़रीब दर्ज़ी हूँ । मुझे मुल्क के क़ायदे-क़ानून की बारीकियाँ नहीं पता । पर हमारे यहाँ सभी अपने मुल्क के परचम की इज़्ज़त करते हैं । देश के झंडे की बेइज़्ज़ती की बात हम सोच भी नहीं सकते । जनाब , एक बात पूछूँ ? आप की वर्दी कैसे फट गई है ? इस पर कालिख़ और दाग-धब्बे कैसे लग गए हैं ? आपको नई वर्दी की सख़्त ज़रूरत है । आप जब वर्दी सिलवाएँ तो मेरे पास आइएगा । मैं आपके लिए एक उम्दा वर्दी सिल दूँगा । नहीं, नहीं , साहब । आप ग़लत समझ रहे हैं । मैं आपको रिश्वत नहीं दे रहा । अल्लाहतआला ने हाथ में कुछ हुनर दिया है । किसी के काम आ सकूँ तो अच्छा लगता है ।

क्या कहा , जनाब ? मैं बहुत बोलता हूँ ? नहीं हुज़ूर , बोलते तो हमारे मुल्क के लीडर हैं । बहुत बोलते हैं , बस करते कुछ नहीं हैं ।

आप भीतर के कमरे की तलाशी लेना चाहते हैं ? शौक़ से लीजिए । हम आप से क्या छिपाएँगे ? हमारे पास है ही क्या छिपाने के लिए ?

एक बात पूछूँ , इंस्पेक्टर साहब ? जब भी कभी शहर में दहशतगर्द कोई बम-धमाका कर देते हैं , तब आप और आपकी पुलिस हम लोगों के इलाक़ों में तलाशी की मुहिम शुरू कर देती है । हर याकूब , नफ़ीस और अशफ़ाक जैसों के घरों में तलाशी ली जाती है । पर इंस्पेक्टर साहब , धमाकों के बाद आप ओंकारनाथ , हरिनारायण और श्यामसुंदर जैसों के घरों की तलाशी लेने कभी नहीं जाते । ऐसा क्यों है , साहब ? क्या आप ' समझौता एक्सप्रेस ' और ' मालेगाँव ' धमाकों की असलियत नहीं जानते ? क्या आपकी निगाह में केवल एक ही मज़हब के लोग दहशतगर्द होते हैं ?

नहीं, नहीं , इंस्पेक्टर साहब ! नाराज़ मत होइए । अगर मेरी बातें आपको बुरी लगी हों तो माफ़ी चाहता हूँ । मेरी बीवी भी कहती है कि मैं खरी बात मुँह पर कह देता हूँ । यह भी नहीं देखता कि किससे बात कर रहा हूँ । वह देखिए , मेरी बीवी उधर कोने में से मुझे इशारा कर रही है कि मैं चुप हो जाऊँ ।

ठीक है , जनाब ! आपने मेरे घर में उथल-पुथल मचा दी है , पर मैं चुप रहूँगा । आपके सिपाहियों के बूटों और डंडों की आवाज़ से सहमकर मेरे दोनों बेटे थर-थर काँप रहे हैं , पर मैं चुप रहूँगा । सिपाहियों को देखकर मेरी छोटी बच्ची का डर के मारे फ़्राक में ही पेशाब निकल गया है , पर मैं चुप रहूँगा । आप पुलिसवालों को घर में घुस आया देखकर मेरे बूढ़े वालिद सहम गए हैं और उनकी आँखों में भरा

धुँधलका कुछ और बढ़ गया है । डर के मारे उन्हें दिल का दौरा पड़ सकता है , पर मैं चुप रहूँगा । अपने घर में आपको तलाशी लेता देखकर मेरा बी. पी . भी बढ़ गया है । मुझे साँस लेने में तकलीफ़ हो रही है , पर मैं चुप रहूँगा । आपकी तलाशी की मुहिम से मेरी बीवी घबराई हुई और सकते में है । वह बेचारी समझ नहीं पा रही कि हमने कौन-सा जुर्म किया है जिसकी वजह से पुलिस हमारे घर में घुस आई है । बुर्क़े के भीतर से झाँकती उसकी सहमी आँखों में डर भरा है , पर मैं चुप रहूँगा । कुछ नहीं कहूँगा , क्योंकि आपके सामने मेरी औक़ात ही क्या है ! आप मुझे पकड़कर न जाने कौन-कौन से जुर्म में कौन-कौन-सी दफ़ाओं के तहत जेल में बंद कर सकते हैं । आप हवालात में मेरी पिटाई करके मुझसे कुछ भी क़ुबूल करवा सकते हैं । मैं ग़रीब आदमी हूँ । मामूली दर्ज़ी हूँ । किसी को नहीं जानता । मेरी तो कोई ज़मानत भी नहीं करवाएगा । इन्हीं सब वजहों से मैं चुप रहूँगा । आप मेरे घर में भूचाल ला दीजिए । आप मेरी छोटी-सी दुनिया में अफ़रा-तफ़री मचा दीजिए । तो भी मैं चुप रहूँगा । तुम ठीक कहती हो बच्चों की अम्मा । अब मैं चुप रहूँगा । कोई शिकायत नहीं करूँगा। आम आदमी चुपचाप सहते रहने के सिवा कर ही क्या सकता है ?

क्या हुआ , इंस्पेक्टर साहब ? हमारे घर की तलाशी में आपको कुछ नहीं मिला ? यक़ीन मानिए , आप हमारे मन की तलाशी लेंगे तो भी ख़ाली हाथ ही लौटेंगे । हमारे मन में अब कोई उम्मीद नहीं बची । हमारी आँखों में अब कोई सपने नहीं बचे हैं ।

क्या कहा , जनाब ? मुझ जैसों को ' टाडा ' या ' पोटा ' में बंद कर देना चाहिए ? आप साहब हैं । पुलिस अफ़सर हैं । आप कुछ भी कह सकते हैं । कुछ भी कर सकते हैं । पर आपकी ऐसी बातें मुझे चुप भी तो नहीं रहने देतीं । मुज़फ़्फ़रनगर-दंगों और दादरी-कांड में शामिल दरिंदों के ख़िलाफ़ आप ' टाडा ' या ' पोटा ' क्यों नहीं लगाते ? ' लश्कर ' या ' हूजी ' के दहशतगर्दों की तलाश के नाम पर आप हम जैसे बेक़सूर आम लोगों के घरों पर छापे मारते हैं । अँधाधुँध गिरफ़्तारियाँ करने लगते हैं । हम पर क्या बीतती है , कभी आपने सोचा है ?

इंस्पेक्टर साहब , आप मुझ पर बिना सबूत के शक क्यों कर रहे हैं ? मेरा जुर्म क्या है ? क्या यह कि मैं इस मुल्क में एक ग़रीब , कम पढ़ा-लिखा मुसलमान हूँ ? या यह कि मेरा नाम अब्दुल्ला है , रामनारायण नहीं ?

------------०------------

परिचय

 

-----------

नाम : सुशांत सुप्रिय

जन्म : 28 मार्च , 1968

शिक्षा : अमृतसर ( पंजाब ) , व दिल्ली में ।

प्रकाशित कृतियाँ :# हत्यारे , हे राम , दलदल ( तीन कथा - संग्रह ) ।

# अयोध्या से गुजरात तक , इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं

( दो काव्य-संग्रह ) ।

सम्मान : भाषा विभाग ( पंजाब ) तथा प्रकाशन विभाग ( भारत सरकार ) द्वारा रचनाएँ

पुरस्कृत । कमलेश्वर-कथाबिंब कहानी प्रतियोगिता ( मुंबई ) में लगातार दो

वर्ष प्रथम पुरस्कार ।

अन्य प्राप्तियाँ :# कई कहानियाँ व कविताएँ अंग्रेज़ी , उर्दू , पंजाबी, उड़िया, मराठी,

असमिया , कन्नड़ , तेलुगु व मलयालम आदि भाषाओं में अनूदित । व प्रकाशित । कहानियाँ कुछ राज्यों के कक्षा सात व नौ के हिंदी

पाठ्यक्रम में शामिल । कविताएँ पुणे वि. वि. के बी. ए.( द्वितीय

वर्ष ) के पाठ्य-क्रम में शामिल । कहानियों पर आगरा वि. वि. ,

कुरुक्षेत्र वि. वि. , व गुरु नानक देव वि. वि. , अमृतसर के हिंदी

विभागों में शोधार्थियों द्वारा शोध-कार्य ।

# अंग्रेज़ी व पंजाबी में भी लेखन व प्रकाशन । अंग्रेज़ी में काव्य-संग्रह

' इन गाँधीज़ कंट्री ' प्रकाशित । अंग्रेज़ी कथा-संग्रह ' द फ़िफ़्थ

डायरेक्शन ' और अनुवाद की पुस्तक 'विश्व की श्रेष्ठ कहानियाँ'

प्रकाशनाधीन ।

ई-मेल : sushant1968@gmail.com

मोबाइल : 8512070086

----------०----------

 

प्रेषकः सुशांत सुप्रिय

A-5001 ,

गौड़ ग्रीन सिटी ,

वैभव खंड ,

इंदिरापुरम ,

ग़ाज़ियाबाद -201010

( उ. प्र . )

मो: 8512070086

ई-मेल : sushant1968@gmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget