रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

बाल कलम / जानवर हमारे मित्र / सार्थक देवांगन

image

एक छोटा सा गांव था । वहां के दो बच्चे जिनका नाम चून्नू और मून्नू था , वो जंगल की तरफ घूमने निकले । दोनों बच्चे फल-फूल लेकर जा रहे थे। तभी उनकी मुलाकात उनके मित्र और उनके दादाजी से हुई। दादाजी ने पूछा कि,बच्चों आज तुम लोग विद्यालय नहीं गए ? बच्चों ने कहा – नहीं दादाजी आज हमारी छुट्टी है ।

फिर दादाजी और बच्चे जाकर एक पेड के नीचे बैठकर फल खाने लगे , तभी एक बंदर आया और एक बच्चे के हाथ से सेब छीनकर ले गया । तब वह बच्चा रोने लगा , फिर बच्चे ने उस बंदर को मारने के लिए पत्थर उठा लिया । मित्र के दादाजी ने उसे रोका और कहा कि हमें जानवरों को नहीं मारना चाहिए। बच्चों ने पूछा क्यों दादाजी ? दादाजी ने कहा क्योंकि बंदर भी जीव है उसे भी दर्द होता है , और फिर जानवर हमारे लिए उपयोगी और मददगार भी तो होते है । बच्चों ने कहा कैसे ? फिर दादाजी ने बताया कि जिस सेब को तुम खाने जा रहे थे वह सड़ा हुआ था , जिसे बंदर ने तुमसे छीनकर तुम्हारी ही रक्षा की । इस तरह जानवरों का महत्व बच्चों को समझाया और कहा ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌कि वादा करो कि कभी जानवरों को नहीं मारोगे और ना ही मारने दोगे । बच्चों ने कहा – हां दादाजी हम आपकी बात मानेंगे। फिर दादाजी और बच्चे वापस गांव चले गये। और तभी से बच्चों ने कभी जानवरों को नहीं मारा ।

फिर दो दिन बाद वह बच्चे फिर से जंगल की तरफ गये । बच्चों ने देखा कि वहां पर एक कुत्ते का बच्चा गड्ढे में गिर गया है । उन्होंने उस कुत्ते के बच्चे को बाहर निकाला और उसके चोट पर मरहम पट्टी की । जिन - जिन लोगों को जानवरों को मारते हुए देखा तब , उनको अपने साथ घटी घटना को बताते हुए कहा कि ये हमारे रक्षक हैं , आप लोग हमें वादा करो कि जानवरों को नहीं मारोगे । गांव में और भी बहुत से लोग थे , जिन्हें जानवरों का महत्व पता नहीं था । उन्हें बताने के लिए वो अपने गांव के सरपंच के पास गये और कहा कि सरपंच जी हमारे गांव में कई लोग जानवरों का महत्व नहीं जानते है । सरपंच जी ने कहा हां ये तो है । बच्चों ने कहां तो हमें यहीं बात पूरे गांव वालों को बताना है । सरपंच जी ने कहा पर कैसे बच्चों ने कहा क्यों ना हम गांव में सभी लोगों को इकट्ठा कर के उन्हें बताये कि जानवरों का क्या महत्व है । सरपंच ने कहा ठीक है फिर बच्चों ने घर ‌- घर जा कर बताया कि आज दोपहर को सभी लोगों को चौराहे के पास आना है । सभी लोग वहां आये फिर सरपंच जी भी आए । लोगों ने कहा - क्या हुआ सरपंच जी , आपने हमें क्यों बुलाया ? सरपंच जी ने गांव वालों को बच्चों के साथ घटी घटना को बताते हुए , जानवरों का महत्व समझाया और कहा कि अब से कोई भी जानवरों को नहीं मारेगा । गांव वालों ने उस दिन से किसी भी जानवर को नुकसान नहीं पहुंचाया ।

सार्थक देवांगन

११ वर्ष

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget