रविवार, 27 मार्च 2016

I वाक I द्वारा दिवजोत सम्मान समारोह 2015

image

कोलकाता की साहित्यिक- सांस्कृतिक संस्था I वाक I द्वारा 19 मार्च 2016 को भारतीय सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद, हो ची मिन्ह सरणी के व्याख्यान हाल में दिवजोत सम्मान समारोह 2015 का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जयपुर से पधारे हिंदी के सुपरिचित कवि -आलोचक शैलेन्द्र चौहान थे। इस अवसर पर शैलेन्द्र चौहान के सम्मान में बोलते हुए कथाकार -कवि जसबीर चावला ने कहा कि शैलेन्द्र जी की कविताएं लोक जीवन का जीवंत, पर संश्लिष्ट चित्र प्रस्तुत कराती हैं। उनकी कविताओं के चरित्र अपनी साधारणता में भी असाधारण होते हैं। कथाकार अभिज्ञात के अनुसार शैलेन्द्र आस्वाद के नहीं अपितु आश्वस्ति के रचनाकार हैं। उनकी कविताओं में वैज्ञानिक विचार सहजता से गुंथकर जनसामान्य की बेहतरी के प्रति संघर्षरत दिखते हैं। इस अवसर पर शैलेन्द्र चौहान के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर एक फोल्डर भी जारी किया गया। स्थानीय कथाकार सेराज खान बातिश के कथा संग्रह 'अनपढ़ आंधी' पर चर्चा भी संपन्न हुई। इसमें सर्वश्री राज्यवर्धन, जितेंद्र धीर, अभिज्ञात, गीता दुबे, जितेंद्र जितांशु आदि वक्ताओं ने अपने विचार व्यक्त किये। डॉ जसबीर चावला ने बुद्धकीय प्रबंधन पर अपने विचार रखे। तदुपरांत दिवजोत सम्मान से रचनाकारों को सम्मानित किया गया। द्वितीय सत्र में समारोह के मुख्य अतिथि श्री शैलेन्द्र चौहान के सम्मान में कविता पाठ संपन्न हुआ। कविता पाठ में शैलेन्द्र चौहान एवं अन्य स्थानीय कवियों अभिज्ञात, गीता दुबे, राज्यवर्धन, शहीद फरोगी, क़मर अशरफ आदि  ने अपनी कविताओं का पाठ किया। 

image

डॉ जसबीर चावला 

18/235,टर्फ व्यू 

249,आचार्य जगदीश चंद्र बसु रोड 

कोलकाता -70002

Email : jasbirchawlachd@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------