शुक्रवार, 29 अप्रैल 2016

हिंदी में हाइकु – हाइकु 2002 / डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

हिंदी में हाइकु-लेखन इधर काफी मात्रा में हुआ है. इसमें बहुत-कुछ निरर्थक और कविता विहीन भी है. पर इसका यह अर्थ नहीं है कि हिंदी हाइकु का सम्...

व्यंग्य / एक सरकारी पर्यावरण प्रेम / अशोक गौतम

ऑफिस के कुटेशन के नए नवेले कूलर ने जब दूसरे दिन ही गर्मी के आगे आत्मसमर्पण कर सूरज से अधिक आग उगलनी शुरू की तो उन्हें एकाएक याद आया कि पर्य...

घड़ी की टिकटिक / गोवर्धन यादव

रफ़्तार घडी की. समय कभी किसी के लिए नहीं रुकता. वह चलता रहता है निरन्तर. हालांकि मानव ने प्रागैतिहासिक युग से ही उसकी नाक में नकेल डालने की ...

कृष्णा मुंशी / मधुरिमा प्रसाद

१५ - कृष्णा मुंशी कुछ ऐसे भी सत्य होते हैं जो सीधी नज़रों से देखने पर तो व्यंग्यात्मक लगते हैं ज़माने को हंसी का मसाला देते हुए दिखलायी पड़ते ह...

प्रेमचंद युग में खींच ले जाती कहानियाँ –सिन्धी कहानियाँ

१९-१२-२०१४ की शाम रशियन कल्चरल सेंटर दिल्ली में सुश्री उर्मिल के कार्यक्रम में देवी नागरानी जी से भेंट हुई थी । उस दिन आपने उपरोक्त पुस्तक म...

गीता दुबे का कहानी संग्रह - एक फ्रेंड रिक्वेस्ट का लोकार्पण

मन को स्पर्श करती कथाएँ मंगलवार शाम बिष्टुपुर स्थित सेंटर फॉर एक्सीलेंस में गीता दुबे की पहली कहानी संग्रह 'एक फ्रेंड रिक्वेस्ट' का...

किसी काम के नहीं चिल्लाने-झल्लाने वाले - डॉ. दीपक आचार्य

पूरी दुनिया के तमाम आदमियों को दो भागों में बांटा जा सकता है। एक वे हैं जो वाकई तल्लीनता से काम करते हैं और चुपचाप अपने कामों में लगे रहते ...

संतुलन रखें धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष में - डॉ. दीपक आचार्य

  पुरुषार्थ चतुष्टय मनुष्य के जीवन का मूलाधार है और इसी के अनुरूप पूरी जीवन यात्रा चलती है। पुराने जमाने में इंसान की औसत आयु सौ वर्ष मान कर...

सम्मान नहीं, दण्ड दें - डॉ. दीपक आचार्य

सामाजिक परिवर्तन और समग्र राष्ट्रीय उत्थान के लिए पुरस्कार, सम्मान और अभिनंदन अपनी जगह हैं और इनसे उन लोगों को प्रोत्साहन प्राप्त होता है जो...

बुधवार, 27 अप्रैल 2016

हिंदी में हाइकु (२) : स्वरूप और सम्भावनाएं / डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

जापानी काव्य की एक विधा है- हाइकु. यह शायद संसार में लघुतम कविता का रूप है. प्रसिद्ध जापानी हाइकुकार यशुदा ने इसे ‘एक श्वासी कविता’ कहा है....

मंगलवार, 26 अप्रैल 2016

ईबुक - साहित्यिक पत्रिका संवेदन

स्तरीय साहित्यिक पत्रिका संवेदन का  अंक पढ़ें नीचे दिए गए विंडो पर. पुस्तक प्रकट होने में थोड़ा समय लगेगा, अतः कृपया धैर्य बनाए रखें और इंतज...

काव्य संग्रह / सौरभ / श्रीप्रकाश

सौरभ श्रीप्रकाश काव्य संग्रह   प्रकाशक / लेखक की अनुमति के बिना इस पुस्तक को या इसके अंश को संक्षिप्त, परिवर्धित कर प्रकाशित करना या फ़ि...

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------