विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

ईमानदार राजनीति पर भारी बेईमान मौसम / व्यंग्य / अमित शर्मा

[अमित शर्मा (CA): पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सेक्रेटरी। वर्तमान में एक जर्मन एमएनसी में कार्यरत। समसामयिक विषयों पर व्यंग लेखन . ]

 

आजकल गर्मी और आईपीएल के साथ साथ “सम-विषम” (ऑड-इवन) और पुतले लगाए जाने का भी मौसम हैं ताकि कलेजे से बीड़ी जला सकने वाले इस मौसम में चौके-छक्के , सूनी सड़कें और अपने पसंदीदा पुतले देखकर आपकी रूह को बिना “रूह -अफजा” पिए ही ठंडक पहुँचे। इसी मौसम में “गतिमान एक्सप्रेस”  भी लांच हो चुकी हैं लेकिन फिर भी सूखाग्रस्त इलाकों में ट्रेन से पानी अपनी गति से ही पहुँच रहा हैं . सूखाग्रस्त इलाकों में पानी पहुँचाने के चक्कर में सरकार इतनी ज़्यादा व्यस्त हो गयी की सूखाग्रस्त इलाके में सेल्फी लेती अपनी मंत्री की आँखों में ही पानी की सप्लाई करना भूल गई। अगर पानी ना पहुँचा पाई तो कम से कम एक “सेल्फी स्टिक” तो ज़रूर पहुँचानी चाहिए थी क्योंकि हर कोई तो प्रधानसेवक जी जितना सेल्फी लेने में कुशल नहीं हो सकता हैं। इतनी पहुँची हुई मंत्री तक कुछ ना पहुँच पाना इस  (मन की ) बात का द्योतक हैं की आजकल की सरकारें महिलाओं और उनके अधिकारों के प्रति कितनी असंवेदनशील हो चुकी हैं।

इधर अतिसंवेदेनशील सम -विषम वाले “फिल्म समीक्षक जी”  सीधे ट्विटर से सूखाग्रस्त इलाकों में पानी पहुँचाकर “इलाका तेरा- धमाका मेरा” करना चाहते थे लेकिन उनकी इस ईमानदार और अलग तरह की राजनीति में हमेशा की तरह  “4 -G ” या  “एल. जी.”  किसी ने उनका साथ नहीं दिया। इसलिए अब “ईमानदारी”   “हम साथ -साथ हैं” कहने के बजाये “एकला चालो रे” गाते हुए  “दिल वालों की ” दिल्ली से “जॉब रहित”   पंजाब की तरफ कूच कर चुकी हैं। जहाँ उसको सूखे की चिंता करने की ज़रूरत नहीं हैं क्योंकि वहाँ “बादल” पहले से ही उसका इंतज़ार कर रहे हैं । देश में चाहे कितना भी सूखा हो , गरीब कितना भी भूखा हो लेकिन देश की राजधानी में सम -विषम की सफलता की हरियाली से देश के सारे अख़बार और न्यूज़ चैनल्स विज्ञापन की चांदी काट रहे हैं क्योंकि सोना तो अभी -अभी एक्साइज ड्यूटी कटवा कर आराम कर रहा हैं।

सम -विषम स्कीम इतनी सफल हो चुकी हैं की बस अब तो आसमान से देवताओं का इसका स्तुतिगान करके दिल्ली की सड़कों पर पुष्पवर्षा करना बाकी हैं। कई देवता तो सम -विषम स्कीम की सफलता और “एयर ट्रैफिक” को देखते हुए अपना विमान भी दिल्ली की सड़कों पर चलाने का मन बना चुके हैं। दिल्ली की सड़कें अब इतनी खाली होती हैं की सरकार चाहे वो “पुस्तक मेला” और “ऑटो एक्सपो” भी अब प्रगति मैदान में करवाने की बजाय सड़कों पर ही करवा सकती हैं। दिल्ली सरकार की माने तो सम -विषम स्कीम से दिल्ली में प्रदूषण इतना कम हो गया हैं की दिल्ली का हर वाशिंदा ऑक्सीजन लेने और कार्बन-डाई -ऑक्साइड छोड़ने के बजाय ऑक्सीजन ले रहा है और ऑक्सीजन ही छोड़ रहा है. हालांकि दिल्ली सरकार चाहे तो सम -विषम स्कीम से वायु प्रदूषण कम करने के बाद अब थोड़ा चुप रहकर ध्वनि प्रदूषण कम करने में भी अपना योगदान दे सकती हैं।

सम -विषम के नियम से प्रधानसेवक जी को छूट दी गयी हैं ताकि वो अपनी सेवा को प्रधानता देते हुए हर दिन, हर जगह अपनी “BMW” कार में पहुँच कर “मेक इन इंडिया” कैंपेन लांच कर सके और साथ साथ ही उनका पुतला भी बिना किसी “विषाद” के  “तुषाद” म्यूज़ियम तक पहुँच जाए. पुतले पहले देश चलाते थे और उनकी प्रोग्रामिंग इस तरह की थी की आपतकालीन परिस्थितियों में भी केवल “ठीक हैं” बोलकर काम और सरकार दोनों चला लेते थे। उन पुतलों ने देश को कठपुतली बनाया और फिर पतली गली से निकल लिए। अब रोबोट की तरह काम करने वाले प्रधानसेवक देश को मिले हैं । उनका पुतला अब म्यूजियम की शोभा बढ़ाएगा और राहत की बात ये होगी की ये मित्रो -मित्रो का जाप करते हुए मन की बात केवल अपने मन में ही रख पाएगा।

व्यक्तित्व की बलिहारी है , अभी वाले खुलकर अपने को प्रधानसेवक कहकर गुमान करते हैं लेकिन पहले वाले ने कभी अपने आप को प्रधानसेवक कहकर अपनी पीठ नहीं थपथपाई। तो क्या हुआ अगर वो केवल एक परिवार के प्रधानसेवक थे। थे तो प्रधानसेवक ही ना।

पुतलों से हमारा नाता कायम चूर्ण और मार्गदर्शक मंडल के नेताओं से भी पुराना हैं। राज्यसभा से लेकर राज्यपाल भवन और राष्ट्रपति भवन तक अपने -अपने पुतले फिट करने की परंपरा पुरानी और “टाइम टेस्टेड” हैं। पुतले शांति और सहिष्णुता का सन्देश देने के लिए लगाए जाते हैं लेकिन जब पुतले वाचाल हो जाये तो हम सड़क -चौराहे पर पुतले जलाकर अपनी असहिष्णुता का प्रदर्शन करने से भी नहीं चूकते हैं। पुतले पहले अपने मालिकों के चीयर लीडर्स होते हैं जिन्हें मालिक, पुतले बनाकर मोक्ष प्रदान करते हैं और मोक्ष मिलते ही, बिना रिवाइटल लिए ही, इनके हाथ में इतनी शक्ति आ जाती हैं की रिमोट चलाकर किसी भी “रिमोट इलाके” में अपना शासन स्थापित कर सकते हैं।

--

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget