विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

राम नवमी पर विशेष आलेख : कोउ नृप होउ , हमहि ........... / हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन

राम राजा बनेंगे , बरसों की तमन्ना है हमारी ! उनको राजा बनाने का स्वप्न कोई पहली बार नही देखा जा रहा है ! त्रेतायुग में दशरथ ने भी देखा था यह सपना , पर वह राम को राजा नही बना पाए ! सारी तैयारी पूर्ण कर लेने के बाद भी , चौदह साल का लम्बा इंतजार किया था - तब जनता ने !

आज भी लोक लुभावन घोषणाओं और झूठ फरेब से भरे वादों और नारों के बीच जनता की सिसकियां कौन सुन पाता है ? गालों पर लुढकती ढुलकती आंसुओं के बीच राम को राजा बना पाने की चाह लिए , फिरती रहती है जनता ! प्रत्येक पांच साल में उम्मीद की किरण जागती है ! परंतु सुख , सुबह की लालिमा की तरह क्षणिक ही आती है ! जनता के भाग्य में सूर्योदय का सुकून कम , सूर्यास्त की थकान ज्यादा मिलती है ! अपने भाग्य के कायाकल्प के लिए , राम का राजा बनना कितना आवश्यक है , जनता पूरी तरह वाकिफ है ! पर राम कहां है ? राम कौन हैं ?

त्रेतायुग में , चारों ओर त्राहि –त्राहि मची हुई थी ! लोग भय और आतंक के साये में जीने के लिए मजबूर थे ! जनता की पुकार सुन ली प्रभु ने ! दिन तिथि निश्चित होने लगी ! इस बीच तिथियों में राम को प्रकट कराने की होड़ मच गयी ! भगवान ने सारी तिथियों को बुलवाया ! बारी –बारी से सबकी बातें सुनने लगे ! एकम ने कहा – आप मुझमें प्रकट हो जाइए , मैं चंद्रदर्शन तिथि हूं , मेरा बहुत नाम है ! द्वितीया कहने लगी ‌- मैं भाई दूज हूं , बड़ा त्यौहार हूं आप मुझमें प्रकट हो जाइए ! तृतीया बोली – मैं अक्षय तृतीया , हरियाली तीज हूं ! चतुर्थी ने अपने आप को गणेश चतुर्थी / सकट चौथ बताते हुए , अपनी महिमा का बखान किया ! पंचमी ने नागपंचमी / ऋषिपंचमी का हवाला देते हुए अभिमान दिखाया ! छट ने हलषष्ठी होने का दम्भ दिखाया , तो सप्तमी ने संतान सप्तमी होने का ! इसी तरह अष्टमी ने दुर्गा अष्टमी होने का गर्व करते हुए अपनी महिमा का बखान करते हुए प्रभु को अपनी तिथि में प्रकट हो जाने का आग्रह किया ! जब नवमी की बारी आयी , तब वह कुछ बोली नही , सिर्फ रोती रही ! भगवान समझ गए , यही खाली है ! भगवान ने घोषणा कर दी - जो पहले से भरे हैं उसमें मुझे नही जाना है ! मैं वहीं जाऊंगा - जहां अभिमान नही ! इस तरह भगवान का प्राकट्य चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को होना निश्चित हो गया !

आज राम ने क्यूं मुख मोड़ लिया है धरती पर आने से ! क्यूं किसी राम का जन्म नही होता अब ! क्या इसलिए कि अब यहां कोई कौशल्या की कोख नही ? क्या इसलिए कि , पुकारने वाला ह्र्दय , लुप्तप्राय हो चुका ? क्या इसलिए कि अभिमान रहित जीवन समाप्त हो चुका ? ऐसी बात नही है ! हम चूक रहें हैं कहीं न कहीं ! और फिर , आज किसी कौशल्या की कोख में वह उर्जा भी नही रही कि , वह राम पैदा कर सके ! इसलिए , अब राम पैदा नही होते , अब राम बनाए जाते हैं ! आज रा का अर्थ राष्ट्र और का अर्थ मंगल ! अर्थात राष्ट्र का मंगल करने वाला हरेक व्यक्ति राम है ! पर यह राम भी राजा क्यूं नही बन पा रहे हैं ? कौन है जो राम के राह का रोड़ा है ?

प्रत्येक बार जनता राम को ही राजा बनाने और राजा को राम का दर्जा देने के लिए अपना मत देती है ! पर यह छद्म राम , कभी रावण बन हमारी मां –बहन की अस्मिता पर हाथ डालने का प्रयास करता है ! कभी मेघनाथ बन अपनी सम्पत्ति और निजी सैन्य बल का विस्तार करने लगता है ! कभी कुम्भकर्ण बन जनता की परेशानियों से मुख मोड़ , सोता रहता है , तो कभी विभीषण बन हमारी पीठ पर छुरा भोंकने में भी लिहाज नही करता ! सीता को बाजार में खड़ा कर दिया है इनने ! कौन दोषी है इसके लिए ? कोई तो है जो हमसे गलती करा रहा है , तभी तो हर बार चूकते हैं हम !

अयोध्या को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा है ! पूरे राज्य में आने वाले कल को महोत्सव के रूप में मनाए जाने का जोश पूरे उफान पर है ! प्रत्येक नागरिक के उत्साह और उमंग अवर्णनीय है ! पर एक ऐसा जीव भी है वहां , जिसको इस उछाह की पीड़ा शुरू हो गई है ! राम के राजतिलक की पूर्व संध्या थी वह बेला ! सारी प्रजा सुअवसर की प्रतीक्षारत थी , पर मंथरा इस पर ग्रहण की तैयारी में लगी हुई थी ! सुख का सूरज न तब उदित हुआ , न आज होता है ! क्योंकि मंथरा हमारे जीवन का हिस्सा तब भी थी , आज भी है ! मंथरा यानि मंद बुद्धि ! दूसरे अर्थों में – कपट या दुर्बुद्धि का थरहा बोने वाला जीव ! कैकेयी के हर-एक कमजोरियों से परिचित थी वह ! उसकी कमजोर नसों को पकड़ने में कामयाब मंथरा ने विष बोने का काम वहीं शुरू किया ! वह रामराज्य नही चाहती थी ! वह समाज में अव्यवस्था फैलाकर देश को छिन्न भिन्न करना चाहती थी ! राम के राजा बनने पर उसको न बहुत लाभ मिलने वाला था , न ही कोई बहुत नुकसान होने वाला था , तभी तो गोस्वामी तुलसीदास ने उन्ही के मुख से उगलवाया – कोउ नृप होउ , हमहि का हानी !

राज्य में कलह फैलाकर , आपस में वैमनस्य पैदा कर भाई को भाई से अलग कर , उनके बीच विरोध की खाई तैयार करने में तात्कालिक सफलता हासिल कर ली थी मंथरा ने ! श्री रामचरित मानस के सभी पात्रों की विदाई का वर्णन विभिन्न ज्ञात / अज्ञात श्रोतों से उपलब्ध है ! परंतु यह मंथरा ही ऐसी पात्र है , जिसकी विदाई आज तक नही हो पाई है ! वह आज भी जीवित है ! फर्क सिर्फ इतना है तब वह मात्र एक शरीर थी , आज कई शरीरों के साथ - साथ , विचारों के रूप में भी घर घर व्याप्त है ! यही मंथरा राम राज्य की कल्पना को साकार नही होने देना चहती !

उस युग में केवल एक बार सपना टूटा था हमारा ! आज प्रत्येक पांचवे साल में सपने पूरे होने की उम्मीद बंध कर , उस बदनसीब दुल्हन की तरह टूट जाती है , जिसकी बारात , आंगन से लौट जाती है ! हर बार हम छले जाते हैं ! उस युग में राम के नाम से भरत जैसा ईमानदार , सत्यप्रिय , न्यायप्रिय राजा ने शासन कर कुछ वर्ष तक जनता को राहत तो दिया था ! आज इन गुणों से युक्त व्यक्ति सत्ता की दहलीज को देख तक नही सकता ! मंथरा आज भी प्रभावी है सत्ता के खेल में !

मंथरा के कई रूप हैं आज ! कुछ मंथरायें आज भी त्रेतायुगीन हैं , जो यह सोंचते हैं – कोउ नृप होउ हमहि का हानी ! वाकई इस देश में अनेको नागरिक ऐसे हैं , जिन्हे ,राजा कोई बने , नुकसान नही हुआ है ! ये व्यापारी मंथरा हैं ! ये केवल अपनी दुकान चलाना चाहते हैं ! कुछ चले न चले ,उनकी अपनी चलती रहे , सिर्फ यही सोंच है इनकी !

कुछ किस्म के मंथरा केवल लाभ के लिए सोंचते हैं ! लाभ के लिए अपनी निष्ठायें , जाने कितनी बार बदलते हैं ! जिनके साथ रहे , उन्हे नमन किया , जिनका साथ छूटा , या छोड़ दिए गए , उन्हे गाली दी ! परंतु लाभ के साथ कोई समझौता नही हुआ ! ये राजनीतिक मंथरा हैं ! ये विभिन्न राजनैतिक दलों के ऐसे सदस्य हैं जिनकी निष्ठा कुर्सी के चमक के साथ परिवर्तनशील होते रहती है ! इन लोगों ने चौपाई को कोउ नृप होउ हमहि का लाभ की तरह सोंचा !

कुछ मंथराओं को केवल नुकसान दिखता है ! वे खुद भी यही समझते हैं एवं दूसरों को भी यही समझाते हैं कि जो भी आएगा हमारा केवल नुकसान करेगा ! सपने दिखाएगा , दिखावटी बहलाएगा और अंत में ठेंगा दिखाकर रफूचक्कर हो जाएगा ! ऐसे लोगों ने , कर्मचारियों का नेता बना लिया है - अपने आप को ! ये न खुद कुछ काम करते , न किसी को करने देते ! इन्ही लोगों ने चौपाई को कोउ नृप होउ हमहि ही हानि का रूप दिया है !

एक और बड़ी मंथरा है हमारे जीवन में , जिनका योगदान कम नही है भविष्य बिगाड़ने में एवम राम राज्य का सपना चकनाचूर करने में ! ये वे लोग हैं , जिन्होने सोंचने का ठेका लेकर , सोंचना बंद किया हुआ है ! ये उच्च पदस्थ अधिकारी हैं , जो अच्छी तरह जानते हैं , जो भी आएगा उससे सामंजस्य कैसे बिठाना है ! काम के साथ जनता को कैसे निपटाना है ! पूरी व्यवस्था का संचालन एवं सम्पादन इन्हे ही करना है , पर वे अपने लाभ या हानि के बारे में नही सोंचते , क्योंकि वे निश्चिंत हैं कि कोउ नृप होउ हमहि ही लाभ !

वास्तव में इस देश की जनता ही तो कैकेयी है , जो बरसों से इन मंथराओं के चंगुल से निकलने के लिए छटपटा रही है ! परंतु जब तक इन मंथराओं की चलती रहेगी , भारत में राम राज्य सिर्फ कल्पनाओं और सपनों तक सीमित रहकर दम तोड़ते रहेंगी ! अब सोंचने की बात यह है कि , हम राम समझ चुनते हैं , वे रावण या उसके परिवार की तरह क्यूं हो जाते हैं ? क्या हमने पहचानने में गलती की , या कोई और बात है ?

एक बात जेहन में यह आती है कि , कहीं राम द्वारा , त्रेतायुग में दिया गया वरदान का परिपालन तो नही हो रहा है , सृष्टि या स्रष्टा द्वारा ? राम को जब बनवास हुआ था , तब हजारों लोग इनके साथ जंगल जाने के लिए अपना सब कुछ छोड़कर जाने के लिए उद्यत हो उठे थे ! गंगा तट पर रामजी ने सभी लोगों को समझाते हुए वापस लौट जाने कहा था ! परंतु , जब वे वापस लौटे , तो देखते हैं कि कुछ लोग अभी भी वहीं खड़े हैं , जहां उनको छोड़ गए थे ! निषाद राज ने बताया , कि आप जब से छोड़ गए , तब से आप ही के इंतजार में खड़े हैं ! रामजी को उत्सुकता हुई , जानने की , कि कौन है ये लोग ? और मेरे आदेश के बाद भी , वापस नही गए ! उनके समीप जाकर पूछा ! तो उनके बीच से , एक ने , बड़े रूआंसे होकर कहा कि - आपने कहा था कि सारे नर- नारी वापस चले जाएं , पर हम न तो नर हैं न नारी ! हम कैसे वापस हो सकते थे ? हम आपके आदेश की प्रतीक्षा में आज भी खड़े हैं ! ‌‍राम बहुत दुखी हुए ! उन्हे अपनी भूल का एहसास हुआ ! पर इसको कैसे सुधारा जाए ! इन सभी के जवानी के बहुमूल्य चौदह बरष मेरी गलती की वजह से व्यर्थ चले गए ! मेरे लिए , इनके द्वारा तपस्या ही रही यह ! इसके एवज में इन्हे कुछ न कुछ देना चाहिए ! बहुत सोंच समझ कर वरदान दीजिएगा भगवान – निषादराज कह रहे थे ! तब तक श्री रामजी ने वर दे ही दिया – तुम सभी ने मेरे लिए बहुत त्याग तपस्या की है , चौदह साल खड़े रहे , इसलिए जब कलयुग आयेगा , तब भारत में लोकतंत्र के हिस्से में अहम भागीदारी तुम सबकी होगी ! जब जब चुनाव आयेगा , तुम खड़े हो जाना ,कुर्सी में बैठने का सुख प्राप्त हो जाएगा ! ये आपने क्या किया प्रभु ? यहां तो कुछ लोग अभी अभी आकर खड़े हुए हैं , मुझे लगता है , ये अवसरवादी लोग हैं – निषादराज कहने लगे ! कुछ तो गुंडे , बदमाश , लुटेरे और जहरीले लोग हैं - पीछे से किसी ने कहा ! रामजी जानते थे , ये लोग मंथरा के भेजे दूत हैं ! पर रघुकुल रीति सदा चली आई , प्राण जाई पर बचन न जाई - जो कह दिया वह होना ही /करना ही है ! शायद उसी वरदान का दंश भोगने मजबूर है जनता !

दूसरी बात यह है कि हम , कभी नाली , कभी सड़क , कभी बिजली , कभी पानी , तो कभी छद्म विकास के नाम पर , वोट देते आए हैं ! मुझे लगता है हमने वोट दिया नही , बल्कि बेचा है , सौदेबाजी के बाद हमारा वोट मिलता है किसी को ! हमने कभी देश बनाने वोट नही दिया ! आज तक सिर्फ और सिर्फ सरकार बनाने ही अपने मत का प्रयोग किया ! शायद यही वजह है कि देश को सोंचने वाले कोई राम संसद की दहलीज से महफूज हैं ! छैंसठ सालों में हम कहां पहुंचे ? कोई नही सोंचता ! अपने छोटे से गांव को भारत के नक्शे में ढूंढ सकते हैं आप ! परंतु इतने बड़े भारत को विश्व के प्रकृतिक मानचित्र को छोड़कर कहां पाते हैं आप ? कोई कश्मीर हड़पता है , कोई अरूणाचल ! पर कोई सत्ताधारी उसका विरोध प्रभावी तरीके से नही करता ! कोई कुर्सी इसके खिलाफ खड़ा क्यूं नही होता ! अब तो , हमारी पहचान भी खो चुकी है ! हम हिंदुस्तान नही सिर्फ बाजार हैं - केवल बाजारू इंडिया ! और इसके लिए दोषी सिर्फ और सिर्फ हम ही हैं !

इंतजार है फिर से राम का ! वो आए और अपनी जिम्मेदारी सम्भालें , वरदान की समय सीमा को समाप्त करे ! देश की जनता जागे और प्रतिनिधियों को यह चेतावनी देने में या समझाने में कामयाब हो जांए कि , उन्होने सरकार बनाने के लिए नही , देश बनाने के लिए मतदान किया है ! उम्मीदों का दामन फिर जनता के साथ है ! सारे देश की सोंच यही हो अब , कि – त्रेतायुग की तरह , एक बार , राम - तुम सीधे आवो न सही , पर उस राजा के दिल में विराजित हो जाओ , जिसके हाथ , अपने देश को सौंपा है हमने ! ताकि कुछ अर्सा ही सही , राष्ट्र खुशहाली से सराबोर हो सके और हम आपके जन्मदिन को महोत्सव का रूप दे सकें और कोई मंथरा यह न कह सके ‌ - कोउ नृप होउ हमहि ...... !

 

लेखक – हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन

उप मुख्य नियंत्रक , द.पू.म.रे.रायपुर

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget