गुरुवार, 21 अप्रैल 2016

कहाँ खेलें बच्चे ? / यशवंत कोठारी

गर्मियां शुरू हो गई हैं, बच्चों के स्कूलों में छुट्टियां हो गई हैं , दिन बड़े होने लग गए हैं ,बच्चे , बच्चियां खेल -कूदना चाहती हैं ताकि गर्मियां पास हो जाये। मगर अफ़सोस शहर में बच्चों के खेलने कूदने के लिए कोई जगह ही नहीं बची हैं , पार्कों में बच्चों को खेलने नहीं दिया जाता , स्कूलों में ग्राउंड नहीं हैं , बच्चे गलियों में खेल कूद का प्रयास करते हैं ,लेकिन वहां भी जगहों की बड़ी मारा मारी है। अस्थायी अतिक्रमण सबसे बड़ी समस्या हैं।

इस सम्बन्ध में शहर के स्कूल प्रबंधक भी लापरवाह हैं . शहर में ज्यादातर स्कूल छोटे मकानों में चलते हैं जहाँ पर खेल के मैदान की कोई सम्भावना ही नहीं हैं ,पिछले ५० वर्षों में शहरी इलाका बहुत ही भीड़ वाला हो गया है। कहीं भी खाली जगह नहीं बची है। , पार्कों में खेलने -कूदने की इजाजत नहीं मिलती है। सरकारी स्कूलों में भी ग्राउंड नहीं हैं। मीडिया में खेलने की समस्याओं पर अक्सर लिखा जाता है , मगर सरकार की ओर से कोई खास प्रयास नहीं किये जा रहे हैं। अस्थायी अतिक्रमण से पार्क, खेल के मैदान ख़त्म से हो गए हैं। युवा देश का भविष्य हैं, उनके शारीरिक विकास के लिए खेल कूद जरूरी हैं। बच्चों को अच्छा पर्यावरण मिले यह हम सबकी जिम्मेदारी है।

वास्तव में खेल के मैदान सीमेंट कंक्रीट के जंगलों में खो गए हैं.

नगर निगम, विकास प्राधिकरण , स्कूल, कॉलेज , यूनिवर्सिटीज व् अन्य संस्थाओं को मिल कर खेल के मैदानों के विकास की और ध्यान देना चाहिए। बच्चों को खेलने जगह मिले यह सरकार की जिम्मेदारी है, लेकिन सरकारें उदासीन हैं।

हर शहर के वार्डों को देखने के बाद यह कहा जा सकता है की बच्चों को खेल की सुविधा नहीं हैं, बच्चे परेशान हैं। इधर उधर फिरते हैं ,उनके विकास के लिए स्कूलों में भी ग्राउंड की जरूरत है। जिन स्कूलों के पास ग्राउंड नहीं हैं, उनको खेल मैदान विकसित करने के लिए निर्देशित किया जाना चाहिए।

खुली जगह शहर में है ही नहीं। हर तरफ सीमेंट कंक्रीट के जंगल उग आये हैं।

सरकार शहर को स्मार्ट बनना चाहती हैं ,लेकिन युवा, बच्चों , लड़कियों के स्वास्थ केलिए जरूरी खुली जगह व खेल के मैदान के विकास पर कोई ध्यान नहीं देना चाहती।

यह समस्या हर बड़े शहर की है।

नगर निगमों के पास इस संबंध में कोई योजना नहीं हैं। बहुत सारे वार्डों में कोई जगह ही नहीं बची हैं ,बड़े -बूढ़े बच्चों को खेलने नहीं देते.

कुछ वर्षों पहले रविवार व् छुट्टी के दिन बच्चे आसपास के खुले मैदानों में खेलते थे , मैच होते थे , मनोरंजन होता था, शारीरिक विकास होता था , मगर यह सब पुरानी बातें हो गयी हैं ।

बच्चे हताश, निराश हैं । गर्मियां बीत जाएगी , कुछ होने वाला नहीं हैं यही सोच कर दुःख होता है।

सरकार को खेलने कूदने के लिए जगहों को आरक्षण देना चाहिए। कुछ अगली पीढ़ी के लिए भी किया जाना चाहिए, ताकि नई पीढ़ी हमें गर्व से याद करे।

एक अच्छी विरासत छोड़कर जाना ही सबसे बड़ा धर्म होगा।

--

यशवंत कोठरी

८६, लक्ष्मी नगर , ब्रह्मपुरी

जयपुर -३०२००२

मो -९४१४४६१२०७

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------