रविवार, 24 अप्रैल 2016

बाल कलम / मदद / हार्दिक देवांगन

image

मदद

एक गॉव के 5 बच्चे नई किताबें खरीदने गए , जबकि उन सभी बच्चों के पास उसी कक्षा की पुरानी किताब उपलब्ध थी ।

वे नई किताबें खरीदकर पुरानी किताबों के पन्ने फाड़ – फाड़कर खेलने लगे । इसी बीच एक गरीब बच्चा आया । वह उनकी ओर मायूस होकर देखने लगा और किताब के पन्ने उठाने लगा । तथा आग्रह करने लगा कि वे किताब न फाड़ें , बल्कि उसे दे दें । पर वे नहीं माने ।

घर जाते समय सुनसान जगह में एक बच्चे की साईकिल अचानक पंचर हो गई । दोपहर का समय था सभी बच्चे पसीने से नहाए हुए थे और साथ मिलकर पैदल चलते हुए घर जा रहे थे । किसी के पास पानी भी नहीं था । सभी का गला सूख रहा था । सभी के पैर दर्द कर रहे थे । वे सभी गर्मी से बहुत ज्यादा परेशान हो गए थे ।

तभी उन्हें वही बच्चा आता नजर आया । उसने उन सभी का हाल पूछा और उनकी समस्या को हल करने की कोशिश में लग गया । उस बच्चे ने आम का पेड़ देखा और पांचों के लिए रसीले आम तोड़ा । पंचर साइकिल को ढोकर पास के गॉव ले गया और साइकिल का पंचर बनवा दिया ।

वे सभी उससे बहुत खुश होकर उसका नाम , पता , तथा वह किस कक्षा में पढ़ता है ? पूछने लगे । उस बच्चे ने उत्तर दिया कि मेरा नाम मोनू है , मैं पास के ही गॉव में रहता हूं। मैं भी पहले स्कूल जाता था , मगर अब मेरे पिताजी के पास मुझे पढ़ाने के लिए पैसे नहीं है , इसलिए मैं इस साल स्कूल नहीं जा पा रहा हूं ।

उस दिन सभी बच्चों ने ठान लिया कि वे उसे किताब खरीद कर देंगे और उसकी फीस भी इकट्ठा कर देंगे । घर जाने पर अपने अभिभावक को पूरी बात बताकर के बच्चे अपने – अपने घर से पैसे लेकर बच्चे की मदद की और उसे पुनः पढ़ने के लिए प्रेरित किया । उन्होंने प्रतिज्ञा ली कि प्रत्येक गरीब बच्चे को वे हर साल अपनी पुरानी किताबें देंगे ताकि वे सभी गरीब बच्चे भी अच्छे से पढ़ सके और आगे बढ़ सके ।

लेखक - हार्दिक देवांगन , 12 वर्ष

कक्षा सातवीं , केंद्रीय विद्यालय रायपुर

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------