रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

मीडिया की छवि / जयश्री जाजू

देश में, राज्य में, हमारे आस-पास, विदेशों में, और देश के कर्णधार नेताओं की छवि की जानकारी | ये सारी बातें आम आदमी जानता है मीडिया के माध्यम से | और मीडिया आम आदमी के सम्मुख कैसी ख़बरें देता है - जो झूठ से सरोबार हो | देश के हित में काम करने वाले का बंटाधार कर जिसने देश का सफाया करने में कोई कसर नहीं छोड़ी उसकी तारीफों के पुल बाँधता है और दूसरों की धज्जियाँ उड़ाता है |
पानी की परेशानी इन दिनों आम बात है | मैंने समाचार में देखा कि किस प्रकार मीडिया में सरकार को कोसते हुए जिक्र किया जा रहा था,जैसे 'अमुक इलाके में पानी की कमी सरकार ने जानबूझकर करवाई है |' लेकिन सरकार को जब जनता की परेशानी पता चली तुरंत सरकार ने रेलों द्वारा पानी पहुँचाया | लेकिन हमारी मीडिया ने सरकार की अच्छाई को उजागर करना मुनासिब नहीं समझा |
ये मीडिया देशद्रोहियों का ग्राफ़ ऊँचा कराती है और जो देशहित के लिए काम करें उन्हें नीचा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ती | बार - बार चिल्लाकर कहती है कि "सरकार को दो साल हो गए, क्या किया ?" भाई जिस सरकार के हाथ में 65 सालों तक बागडोर थी उसने क्या किया ? उनसे सवाल पूछने की हिम्मत शायद मीडिया में नहीं है | बोलने की स्वतंत्रता है,भले ही देश के खिलाफ नारेबाजी करें,किंतु वे सहीं है --मीडिया की नजर में | मीडिया उन्हें नौजवानों का नायक बनाकर पेश करती है |


आरक्षण,असहिष्णुता इस शब्द ने देश की कमर तोड़ दी लेकिन मीडिया इस तरह की खबरों में मसाला भर कर लोगों के बीच परोसती है | यहाँ पर भी सरकार को दोष दिया जा रहा है कि सरकार की वजह से असहिष्णुता फ़ैल रही है |


समझ नहीं आता कि मीडिया जनता तक क्या पहुँचाना चाहती है | देश को खोखला करना चाहती है,या देश की नींव मजबूत करना चाहती है | यदि मीडिया जनता को सच्चाई से अवगत करवाए तो देश की जनता भी अपना निर्णय सही ले पाएगी और वह देश की बागडोर सही हाथों में सौंप पाएगी  |

 

अभी चुनाव का मौसम चल रहा है | जहाँ-जहाँ चुनाव हो रहा है मीडिया सरकार के खिलाफ चुनाव प्रचार करवाने वालों की ख़बरें दिखाकर जनता में आक्रोश भरा रही हैं |  मीडिया आज तक सरकार द्वारा किए प्रशंसनीय कार्यों को बताना या जनता के सम्मुख लाना आवश्यक नहीं समझती है | आज हमारे देश की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हुई है | भ्रष्टाचार भी कम हुआ है | ऐसे मामलों को मीडिया बताना आवश्यक नहीं समझती | बस हमेशा अपने चैनलों पर बेबुनियाद बातों को लेकर दिनभर कानफोडू आवाज में बक-बक - मैं बक बक इसी शब्द का प्रयोग करुँगी | क्योंकि उनका बोलने का तरीका 'देखिए इस शक्स को, देखिए गौर से ' इस तरह के वाक्य बार -बार दिखाकर जनता को पूरी तरह से हताश करते हैं |


हद तो तब हो जाती है जब हम सोचते हैं चलो ठीक है आजकल खबरी चैनल खबरें कम मसाला ज्यादा दिखाते हैं इसी में कभी उनके दिमाग में आता है कि जनता को कुछ जगहों या और किसी तरह की जानकारी से रूबरू करवा दें ,और वह उस जानकारी को बड़े ही रोचक अंदाज में प्रस्तुत करती है | हम जैसी जनता बैठ भी जाती है और पूरा कार्यक्रम देख लेती है | कार्यक्रम होने के पश्चात समझ में आता है कि बिना वजह रात की नींद ख़राब की |


एक समय था जब हम सारे परिवार वाले इकट्ठे हो 20 मिनट का समाचार देखते थे और मुझे याद आता है सामाजिक अध्ययन में सियासत से जुड़े प्रश्नों के उत्तर मैं समाचार देखने की आदत की वजह से दे पाती थी | और आज हालत देखकर रोना आता है | आजकल मीडिया को राजनैतिक ख़बरों की जो आवश्यक जानकारी जनता ,विद्यार्थियों तक सही सलामत पहुँचनी चाहिए उसे तोड़-मरोड़कर जनता के सम्मुख परोसता है | सिने तारक-तारिकाओं की जीवन शैली बताना और वह भी दिनभर उसी एक खबर को प्रत्येक चैनल पर सुर्ख़ियों में दिखाना --आखिरकार ये खबरी चैनल अपनी कौनसी बिसात रखना चाहते है ? यह प्रश्न मेरा ही नहीं उस हर आम आदमी का है जो अपने कीमती समय में से कुछ समय वह दूरदर्शन के सामने यह सोचकर बैठता है कि देश- विदेश में क्या हो रहा है जान ले | लेकिन उसे सिवाय तकलीफ़ के और कुछ नहीं मिलता | उस वक्त उसकी हालत बस यही होती है "तेरे कूचे से निकले बेआबरू होकर" |

 

धन्यवाद
सादर
जयश्री जाजू

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget