परीक्षा की घड़ी - व्यंग्य - अरविन्द कुमार खेड़े

-----------

-----------

image

बाइबिल में प्रार्थना आती है,हे पिता ! हमें परीक्षा में न डाल, वरन बुराई से बचा ।“ देख लो, बंदा परमात्मा से हाथ जोड़कर विनती कर रहा है । यह भी बता रहा है कि, इसके बाद भी यदि आपने परीक्षा में डाल दिया तो, उसके बाद जो होगा, उसके लिए हम जिम्मेदार नहीं हैं । हमें नाहक दोष न देना । क्यों कि, हमनें तो पहले ही कह दिया था । हम तो पहले से ही कह रहे थे । हम तो पहले से ही कहते आ रहे थे कि, हमें परीक्षा में न डालो । लेकिन आप सुनो जब न ? बस...हमेशा अपने फायदे की बात ही सुनते रहते ही । कभी-कभी कायदे की बात भी सुन लिया करो । लेकिन सुनो तब न ? बस तभी से परीक्षा और बुराई के बीच चोली-दामन सा रागात्मक संबंध स्थापित हो गया है ।

हमारे साहित्य के शिरोमणि तो इस मामले में बेहद उदार निकले । उन्होंने किसी को भ्रम में नहीं डाला । अच्छे-बुरे के द्वन्द्वात्मक भौतिकवाद में नहीं उलझाया । सीधे-सीधे सारी शंकाओं- कुशंकाओं के सारे आवरण ही हटा दिये । खरी-खरी दो टूक कहकर भक्तों को तार दिया कि,परीक्षा में त्रिलोकी की बुरी बला भरी पड़ी है ।“ अब समझने वाले समझ गये, जो ना समझे वे अनाड़ी साबित हुए ।

इसलिए साहित्य के आचार्य जी के वचन को शिरोधार्य करते हुए भक्तगण परीक्षाओं में जुगत में रहते हैं । किसी भी तरह से इस बुरी बला से निपटना है । नहीं तो सारी जिंदगी सिर पीटना है । यदि नहीं निपटे और पढ़ लिख गये, और कहीं डाक्टरेट, पीएचडी हो गये तो बाबू चपरासी का ओहदा पा लेगें । फ़िर खाते रहो उम्र भर । और यदि जुगत भिड़ा ली तो सात पीढि़यों तक ऐश ही ऐश । ऐश्वर्या ही ऐश्वर्या । इसलिए यही तो असली परीक्षा की घड़ी है । बल्क़ि यूँ कहें की ज़िंदगी के इम्तिहान की घड़ी है ।

अब इम्तिहान का दौर चल रहा हो, और बेचारे मास्टरजी सूख कर कांटा न हो तो वह काहे का मास्टरजी ? सरकार ने साल भर तो मास्टरजी से कोल्हू के बैल की तरह काम कराया । कभी इधर झौंका तो कभी उधर फूंका । और ऐन परीक्षाओं के समय सरकार को सुध आती है । सरकार को याद आता है, अरे ! बंधुआ मजदूरी के तो दिन लद गए हैं ? मास्टरजी की रस्सी छोड़ दी जाती है । छुट्टा कर दिया । अब बेचारे मास्टरजी खुद इम्तिहान के दौर से गुजरने लगते हैं । जीरो रिजल्ट रहा तो सरकार का कोप भाजन बनना पड़ेगा । बच्चों की ओर इस आशा से ताकते कि, बच्चो ! अब आप ही अब हमारे तारणहार हो । देखना, हमारी लुटिया न डूबो देना बच्चो । सरकार ने तो हमें निचोड़ लिया है । कहीं का नहीं छोड़ा है ।

बच्चे उत्साह से भर उठते हैं । सोचते हैं, यही मौका है कुछ कर गुजरने का । कुछ दिखाने का । क्योंकि डर के आगे जीत है । बच्चे भी ताव देकर मास्टरजी को तसल्ली देते हैं, मास्टरजी आप चिंता न करो । हमारे होते हुए आपकी लुटिया डूबे तो लानत है हम पर ? वचन देते हैं । अंगूठा भी दे दिये होते । लेकिन क्या करें मास्टरजी ? मजबूरी है । लिखना जो है । यदि अंगूठा दे दिया तो कलम कैसे पकड़ेगे ?

तो भईया, आप बिचारे बच्चों को नाहक दोष देते हो । बच्चे तो युगों-युगों से अपना वचन निभाते आ रहे हैं । अपने मास्टरजी की साख बचाते आ रहे हैं । डूबती लुटिया बचाते चले आ रहे हैं । बेचारों को क्या-क्या नहीं करना पड़ता अपने मास्टरजी के लिए ? कितने पापड़ बेलने पड़ते हैं ? सिर्फ इसलिए कि, अपने मास्टरजी की पढ़ाई पर कोई उंगली न उठाये । कोई ये न कहे कि, पढाया-लिखाया कुछ नहीं ? बस बैठ-बैठे पगार लेते रहे । वरना अध्यक्ष-उपाध्यक्ष, विधायक, मंत्री-संत्री बनने के लिए कौन-सी ससुरी पढ़ाई-लिखाई की जरूरत है ? बताओ तो भला ? ये क्या बात हुई ?

-अरविन्द कुमार खेड़े

मोबाइल नंबर-09926527654

----------------------------------------------------------------------------------------------------------------

परिचय-

नाम- अरविन्द कुमार खेड़े (Arvind Kumar Khede)

आत्मज-श्रीमति अजुध्या खेड़े / स्व.श्री रेवाराम जी खेड़े

वर्तमान पता- २०३ सरस्वती नगर, धार, जिला-धार, मध्य प्रदेश-४५४००१ (भारत)

जन्मतिथि- २७ अगस्त,१९७३

शिक्षा-एम.ए.

सम्प्रति- शासकीय नौकरी.

विभाग- लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग मध्य प्रदेश शासन.

पदस्थापना- कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, धार जिला धार मध्य प्रदेश-पिन-४५४००१ (भारत)

प्रकाशन-

1-पत्र-पत्रिकाओँ में रचनाएं प्रकाशित.

2-कविता कोष डॉट कॉम एवं हिंदी समय डॉट कॉम में कविताएं एवं व्यंग्य सम्मिलित.

3-साझा कविता संकलनों में कविताएं प्रकाशित.

(समय सारांश का-संपादन-बृजेश नीरज/अनवरत भाग-२-संपादन-भूपाल सूद/काव्यमाला-संपादन -के.शंकर सौम्य )

4-व्यंग्य संकलन-भूतपूर्व का भूत-अयन प्रकाशन दिल्ली-२०१५

5-निकट भविष्य में एक व्यंग्य एवं एक काव्य संग्रह के प्रकाशन की सम्भावनाएं हैं.

मोबाइल नंबर-९९२६५२७६५४

ईमेल- arvind.khede@gmail.com

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

-----------

-----------

0 टिप्पणी "परीक्षा की घड़ी - व्यंग्य - अरविन्द कुमार खेड़े"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.