मंगलवार, 19 अप्रैल 2016

लघुकथा / सब के लिए / सुशांत सुप्रिय

बात इतनी पुरानी है कि वे शब्द , जो उसे बयान कर सकते , अब हर भाषा के शब्द-कोष से खो चुके हैं । बात इतनी नई है कि उसे बताने के लिए जो अभिव्यक्ति चाहिए वह अभी किसी भी भाषा में ईजाद ही नहीं हुई है । इसलिए मजबूरी में अब मुझे उपलब्ध शब्दों से ही काम चलाना पड़ रहा है ।

वह जैसे दूध के ऊपर जमी हुई मलाई थी । वह जैसे मुँह में घुल गई मिठास थी । वह जैसे सितारों को थामने वाली आकाश-गंगा थी । वह जैसे ख़ज़ाने से लदा एक समुद्री जहाज़ थी जिसकी चाहत में समुद्री डाकू पागल हो जाते थे । उसके होठ इतने सुंदर थे कि आवाज़ का मन नहीं करता कि वह उनके बीच से हो कर बाहर आए और इस प्रक्रिया में होठों को थोड़ा मलिन कर जाए । उसकी आँखें इतनी सुंदर थीं कि सभी दृश्य उन्हीं में बस जाना चाहते थे । उसका मन इतना सुंदर था कि वह अपने लिए नहीं , औरों के लिए जीती थी । वह स्त्री थी ।

वह माँ थी तो मकान घर था । वह बहन थी तो भाइयों की कलाइयों पर राखी थी । वह बेटी थी तो घर में रौनक़ थी । वह पत्नी थी तो थाली में भोजन था , जीवन में प्रयोजन था ।

अकसर उसके मन के पके घाव उसकी आँखों में से बाहर झाँक रहे होते । उसके घुटनों पर दर्द का शिशु झूल रहा होता । उसके मन का आकाश जब भर आता तो वह उसी पर बरस पड़ता । चिड़िया की चोंच में भरा होता है जितना जल , बस उतनी ही ख़ुशी थी उसके जीवन में ।

एक दिन पुरुष घर आया पर उसे स्त्री कहीं नहीं दिखी । दरअसल स्त्री घर बन गई थी अपने पति और बच्चों के लिए । दरअसल स्त्री एक फलदार और छायादार वृक्ष बन गई थी पुरुष के लिए । दरअसल स्त्री रोटी बन गई थी , कपड़ा बन गई थी , बिस्तर बन गई थी , पालना बन गई थी ...लेकिन पुरुष के पास वे आँखें ही नहीं थीं कि वह स्त्री को पहचान पाता ।

यह दुनिया के सारे पुरुषों की कथा है । यह दुनिया की सारी स्त्रियों की व्यथा है ...

------------०------------

 

प्रेषकः सुशांत सुप्रिय

A-5001 ,

गौड़ ग्रीन सिटी ,

वैभव खंड ,

इंदिरापुरम ,

ग़ाज़ियाबाद - 201014

( उ. प्र. )

मो: 8512070086

ई-मेल: sushant1968@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------