बुधवार, 13 अप्रैल 2016

समीक्षा आलेख : गहरी रात के एकांत की कविताएँ

image

# समीक्ष्य कृति : " इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं " ( काव्य-संग्रह ) /

कवि : सुशांत सुप्रिय / प्रकाशक : अंतिका प्रकाशन , C-56 , यूजीएफ़ - 4 ,

शालीमार गार्डन एक्सटेंशन- 2 , ग़ाज़ियाबाद - 201005 ( उ. प्र. ) / वर्ष:2015 /

मूल्य : ₹335/- ; मो: ( कवि ) : 8512070086

-------------------------------------------------------------------------

# समीक्षा आलेख : " गहरी रात के एकांत की कविताएँ "

---------------------------------------------------------

--- शहंशाह आलम

कोई छायाकार रात की नींद में जाकर जिन दृश्यों के बारे में सोचता है , उन दृश्यों को दिन में कैमरे में क़ैद करते हुए वह अपनी नींद को सार्थक करता है । ठीक उसी तरह एक कवि दिन में देखे , भोगे हुए यथार्थ को गहरी रात के एकांत में काग़ज़-क़लम लिए अपना कवि-धर्म समझकर प्रकट करता है । सुपरिचित कवि सुशांत सुप्रिय ऐसे ही कवियों में हैं जो पूरी ईमानदारी व मासूमियत से अपने देखे , भोगे हुए यथार्थ को अपनी कविताओं में दर्ज़ करते चले जाते हैं :

मैंने अपनी बाल्कनी के गमले में

वयस्क हाथ बो दिए

वहाँ कोई फूल नहीं निकला

किंतु मेरे घर का सारा सामान

चोरी होने लगा ( मासूमियत / पृ. 9 ) ।

सुशांत सुप्रिय की कविताओं में जो भी दर्ज है , सब उल्लेखनीय है । उल्लेखनीय इसलिए भी है क्योंकि इनके यहाँ मनुष्य अपने कठिन-जटिल समय से पराजित नहीं होता , न किसी को पराजित होने देता है । यहाँ पूरी मनुष्यता जीतती दिखाई देती है :

हारकर मैंने अपनी बाल्कनी के गमले में

एक शिशु मन बो दिया

अब वहाँ एक सलोना सूरजमुखी

खिला हुआ है ( वही ) ।

सुशांत के संग्रह की लगभग सारी कविताएँ एक अच्छे आदमी , एक अच्छे नागरिक की कविताएँ हैं जो अच्छाई के पक्ष में लड़ाई के मूलार्थ सही तरीके से ज़ाहिर कर पाने में सक्षम दिखाई देती हैं । इन कविताओं की भाषा हमें गहराई तक प्रभावित करती है :

हर हत्या के बाद

वहीं से जी उठता हूँ

जहाँ से मारा गया था

जहाँ से तोड़ा गया था

वहीं से घास की नई पत्ती-सा

फिर से उग आता हूँ ( हर बार / पृ. 61 ) ।

दुनिया भर में आदमी के विरुद्ध षड्यंत्र बढ़ते चले जा रहे हैं । सुशांत सुप्रिय भी अपनी कविताओं के माध्यम से इनका मुक़ाबला करते हैं । उनकी कविताएँ हमें अपने समय के दुखों से निजात दिलाने के लिए सदैव तत्पर रहती हैं :

तुम आई

और मैं तुम्हारे लिए

सर्दियों की

गुनगुनी धूप हो गया ( विडम्बना / पृ. 84 ) ।

मेरे विचार से सुशांत सुप्रिय की कविताएँ समकालीन हिंदी कविता में किसी सुखद अनुभूति की तरह हैं -- ' आकाश को नीलाभ कर रहे पक्षी ' और ' पानी को नम बना रही मछलियों ' की तरह । या फिर ' आत्मा में धार ' की तरह ।

------------०------------

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------