विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

ललित व्यंग्य / शीर्षक की तलाश / डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

वे मुझे एक साहित्यकार मानते हैं और इसलिए अक्सर मुझसे उलटे-सीधे सवाल करते रहते हैं | मुर्गी पहले आई या अंडा – ठीक इसी तर्ज़ पर वे एक बार मुझसे पूछ बैठे, शीर्षक पहले आता है या रचना? बोले, कृपया घुमा-फिरा के बात न कीजिएगा | आप लोगों के साथ बात करने में बस यही परेशानी है | कभी सीधा उत्तर नहीं देते | साफ़ साफ़ बताइए, पहले रचना या पहले शीर्षक ?

मैं बड़ी द्विविधा में पड़ गया | समझ में ही नहीं आया, क्या जवाब दूँ | मरता क्या न करता; बोला, ‘पहले शीर्षक’ | वे तिलमिला गए | कहने लगे, यानी आप लोगों के दिमाग में पहले शीर्षक आता है और रचना को बाद में उसमें फिट करते हैं | यह तो ऐसा ही हुआ जैसे सिनेमा में होता आया है | पहले धुन बना ली जाती है और बाद में उसमें बोल फिट कर दिए जाते हैं | ‘नहीं’, मैंने उन्हें समझाया, ‘यह तो मैंने आपके, यानी पाठक के दृष्टिकोण से कहा रहा था | पाठक के लिए पहले शीर्षक आता है, और रचना बाद में आती है |वे मान गए |

लेकिन मैं अभी भी पसोपेश में हूँ | न जाने कितनी बार ऐसा हुआ है की एक सुन्दर-सा आकर्षक पद-बंध मेरे दिमाग नें कौंध गया और मुझसे मानों मिन्नतें करने लगा कि इसपर मैं एक लेख/ कविता/ निबंध, कुछ तो भी, लिख दूँ | और इसके विपरीत कई बार ऐसा भी हुआ है कि रचना तैयार कर ली गई है और उसके लिए कोई उपयुक्त शीर्षक तलाश नहीं कर पा रहा हूँ |

शीर्षक चीज़ ही ऐसी है | यह हर रचना का शीर्ष होता है | रचना में यह शीर्षस्थ है | शीर्षस्थ है इसलिए इसका यह दायित्व भी बनाता है कि वह रचना की रक्षा भी करे | यदि वह अपनी रचना की रक्षा नहीं कर पाया, उसके विरुद्ध हो गया, या उससे उदासीन हो गया तो किसी मसरफ का नहीं रह गया, ऐसा शीर्षक ! तो शीर्षक की तलाश बड़े सोच-समझ के करनी होती है | मुझे याद है, जब साहित्य का छात्र था (वैसे छात्र तो साहित्य का मैं अभी भी हूँ ) तो परचे में एक ‘अनसीन पैसेज’ शीर्षक बताने के लिए कहा जाता था | शीर्षक ढूँढ़ पाने में पसीने छूट जाते थे |

कभी कभी रेखांकन करता हूँ | अमूर्त रेखांकन | उनपर मैं कोई शीर्षक नहीं देता | मैं उन्हें एक कला-वीथि में प्रदर्शित करना चाहता था | कला-वीथि के निदेशक महोदय ने रेखांकनों पर एक सरसरी नज़र डाली | बोले, हर रेखांकन का एक शीर्षक दीजिए | बिना शीर्षक के मैं प्रदर्शनी के लिए “केटलाग” कैसे तैयार करा पाऊँगा? लीजिए, शीर्षक-तलाश शुरू हो गयी | बड़ी मुश्किल में फंस गया | चित्र अमूर्त है | कोई भी शीर्षक क्यों न दूँ, वह चित्र के बिलकुल अनुरूप तो होगा नहीं | बल्कि वह देखने वाले की दृष्टि को सीमित ज़रूर कर देगा | अब आप ही बताइए, ऐसे में क्या शीर्षक की तलाश वाजिब कही जा सकती है?

लेकिन साहेब, शीर्षक तो चाहिएच | मराठी और हिन्दी देव नागरी लिपि में लिखी जाती है | और देवनागरी लिपि में हर अक्षर के पास एक शीर्षक है | अ से लेकर ज्ञ तक कोई अक्षर छूटा नहीं जिसके शीर्ष-रेखा न हो | जब अक्षरों तक पर शीर्षक है तो भला शब्दों की क्या बिसात ! हर शब्द शीर्ष-रेखा से सजा हुआ ! ऐसी है हमारी देव-नागरी !

शीर्षक से वंचित तो इंसान भी नहीं रहना चाहता | हर प्राणी एक अदद शीर्ष लेकर पैदा हुआ है | हर इंसान के भी एक सिर है लेकिन वह उसे नाकाफी मानता है | शीर्ष के ऊपर भी कोई शीर्षक होना ही चाहिए, इसीलिए वह अक्सर कोई न कोई शीर्ष-पट धारण ज़रूर करता है | वह पगड़ी हो सकती है, साफा हो सकता है, टोपी हो सकती है, टोपा हो सकता है, हैट हो सकता है -कुछ भी | बिना शीर्षक के सिर कितना खाली-खाली लगता है ! सारी लड़ाई और सारा मेल मिलाप बस शीर्ष-पट का ही है | गांधी टोपी लगाई है, हरी टोपी लगाई है, लाल टोपी लगाई है या काली टोपी ? सब अपनी अपनी टोपी के साथ हैं और सब टोपियाँ एक दूसरे की बैरी है |
कुछ भी हो शीर्षक की तलाश जारी आहे और हमेशा जारी रहेगी | डिमोक्रेसी में चुनाव से शीर्षक तय होते हैं | हर पार्टी का एक शीर्षक है और हर दल के शीर्ष पर एक शीर्षक बैठा है | जो अभी तक शीर्ष पर नहीं पहुँच पाए वे किसी न किसी शीर्षक की तलाश में है कि जिसकी पूछ पकड़ कर वैतरणी पार की जा सके |

------

 

डॉ.सुरेन्द्र वर्मा

१०, एच आई जी / १, सर्कुलर रोड, इलाहाबाद (उ. प्र) -२११००१

मो. ९६२१२२२७७८

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

वाह,शीर्ष को भी शीर्षक चाहिये।पढ़ कर बहुत मज़ा आया।

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget