विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

लेखकों की दुनिया-किस्‍सा एक सौ तेईस - कैसे कैसे काम करके लेखन किया / सूरज प्रकाश

image

 

संपादन, पत्रकारिता, अध्‍यापन या इसी तरह का काम करते हुए यदि कोई लेखन का काम करता है तो कोई बड़ी बात नहीं होती। लेकिन अगर लेखक बिल्‍कुल विपरीत या अलग किस्‍म का काम करते हुए भी लेखन करता है तो बड़ी बात होती है। वह अपने साथ एक अलग ही दुनिया के अनुभव तो लाता ही है, वह एक अलग ही तरह का काम करते हुए भी लेखन कार्य के लिए ऊर्जा जुटाता है। यहां एक ऐसी ही झलक पेश की जा रही है। आप भी इस सूची को आगे बढ़ा सकते हैं।

अज्ञेय हिंदी ब्रिटिश सेना में रहे और ट्रक ड्राइवरी भी सीखी
अन्‍ना भाऊ साठे मराठी लोक कलाकार थे और सार्वजनिक रूप से प्रदर्शन करते थे। अन्‍ना ने कुली काम किया, वेटर बने, मजदूरी की, कुत्‍तों की देखभाल की नौकरी की, घरेलू नौकर रहे, बूट पालिश की।
अर्नेस्‍ट हेमिंग्‍वे अंग्रेजी युद्ध संवाददाता रहे
आयन रैंड अंग्रेजी टूर गाइड, फिल्‍मों में एक्‍स्‍ट्रा का रोल, अख़बार बेचे, वेटर का काम किया, होटल में काम किया।
ओ हेनरी अंग्रेजी फार्मासिस्‍ट थे
ओमा शर्मा हिंदी आयकर सेवा
कबीर हिंदी जुलाहे


कुरैशी (पूरा नाम पता नहीं चल पाया) अहमदाबाद में रहने वाले शायर हैं जो कसाई हैं
गुरदयाल सिंह पंजाबी वयस्‍क होने तक बढ़ईगिरी का काम करते रहे
गैब्रियल गार्सिया मार्खेज स्‍पेनिश युद्ध संवाददाता रहे
गोर्की रूसी कई तरह के धंधे किये, बेकरी मजदूर का काम किया, होटलों में प्‍लेटें धोयीं, और बेहद कठोर जीवन जीया। बचपन में बोरा उठा कर कचरा तक बीना।
गोविंद मिश्र हिंदी आयकर विभाग में थे और सीबीडीटी के चेयरमैन के पद से रिटायर हुए
चेखव रूसी डॉक्‍टर थे


जय शंकर प्रसाद हिंदी खानदानी तम्‍बाखू का काम
जयंत परमार उर्दू मिनिएचर पेंटर
जयनंदन टाटा उद्यम में बरसों तक लोहा छीलते रहे
जेम्‍स जायस अंग्रेजी गाते थे और पिआनो बजाते थे। उनकी किताब Dubliners 22 बार लौट कर आयी थी।
जैक लंडन अंग्रेजी फैक्‍टरी में काम किया। बाद में घोंघे चुराने का भी काम करते रहे।
जॉन स्‍टेनबैक अंग्रेजी टूअर गाइड


जॉर्ज आर्वेल अंग्रेजी बर्मा में पुलिस अधिकारी
ज्ञान चतुर्वेदी हिंदी हार्ट स्‍पेशलिस्‍ट
ज्‍यां जेने फ्रेंच उठाईगीर, जेबकतरे, चोर उच्‍चके रहे। हर तरह के उल्‍टे सीधे काम करते थे
टी एस ईलियट अंग्रेजी लंदन में लॉयड बैंक में क्‍लर्की की
दिनकर जोशी गुजराती बैंकर
दोस्‍तोएवस्‍की जूआ खेलते थे।


धूमिल हिंदी वे इलेक्‍ट्रिक सर्टिफिकेट होल्‍डर थे। पहले रोज़गार के लिए लोहा और लकड़ी ढोने का काम करते रहे।
नबोकोव अंग्रेजी कीट विज्ञानी थे
नारायण सुर्वे मराठी मिल मजदूर रहे, कुलीगिरी की, कैंटीन में काम किया। बाद में स्‍कूल में चपरासी का काम करते थे
पाब्‍लो नेरूदा चिली ब्‍यूरोक्रेट थे और कई देशों में राजदूत रहे
प्रकाश नारायण संत मराठी जूलोजिस्‍ट
प्रियंवद फैक्‍टरी के कर्ताधर्ता
प्रेमपाल शर्मा हिंदी रेलवे सेवा


फैज़ अहमद फ़ैज उर्दू सेना में लेफ्टीनेंट कर्नल तक रहे
फ्रांज काफ्का जर्मन लॉ फर्म में क्‍लर्क
बलाई चंद मुखोपाध्‍याय
(बनफूल ) बांग्‍ला पैथोलोजिस्‍ट


मंटो उर्दू पाकिस्‍तान सरकार की तरफ से उन्‍हें बरफ बनाने के कारखाने में भागीदारी दी गयी थी
महेश कटारे हिंदी खेती करते हैं।
मुनव्‍वर शकील पाकिस्‍तान के शायर हैं और मोची हैं इनकी पाँच पुरस्‍कार प्राप्‍त किताबें हैं।
रवीन्‍द्र नाथ त्‍यागी हिंदी रक्षालेखा विभाग में वरिष्‍ठ अधिकारी
रार्बट्स फ्रास्‍ट अंग्रेजी बचपन में अख़बार बेचते थे


लक्ष्‍मण गायकवाड मराठी जन्‍म ही चोर उच्‍चकों की बिरादरी में हुआ। मिल मजदूर रहे
लक्ष्‍मण राव मराठी 25 किताबों के लेखक दिल्‍ली में हिंदी भवन के बाहर फुटपाथ पर चाय बेचते हैं
विभूति नारायण राय,विकास नारायण राय,शैलेन्‍द्र सागर,विश्‍व रंजन हिंदी आइपीएस
विलियम फॉक्‍नर अंग्रेजी पोस्‍ट मास्‍टर
विवेक मिश्र हिंदी दांतों के डाक्‍टर हैं


शीन काफ निजाम उर्दू बिजली दफतर में नौकरी
शैलेश मटियानी हिंदी बंबई में फुटपाथ पर भी रहे। मुफ्त के लंगरों या मंदिरों में या जहां मुफ्त खाना मिलता था, लाइनों में लग कर खाना खाया। जब धर्मयुग में कहानी छपी तब वे एक ढाबे में वेटर का काम कर रहे थे।
श्रीलाल शुक्‍ल हिंदी आइएएस
संजीव रसायनज्ञ
सुभाष पंत हिंदी काष्‍ठ वैज्ञानिक
सोमदत्‍त पशु चिकित्‍सक


हर्मन मेल्विले अंग्रेजी समुद्री जहाज में केबिन बॉय
हार्पर ली अंग्रेजी ईस्‍टर्न एयरलाइंस में रिजर्वेशन क्‍लर्क
भारत भारद्वाज और श्रीप्रकाश मिश्र दोनों ही गुप्‍तचर विभाग में
ओमप्रकाश वाल्मिकी राम किशोर मेहता और अमरीक सिंह दीप आर्डनेंस फैक्टरी में रहे। विजय गौड़ आर्डनेंस फैक्टरी में हैं।

 

लेखकों की दुनिया- किस्‍सा एक सौ बाईस-एक ही परिवार में लेखक

दुनिया की लगभग सभी भाषाओं में ऐसे अनेक उदाहरण मिलते हैं जब एक ही परिवार और कई बार एक ही परिवार में दो तीन पीढि़यों में दो या अधिक लेखक रहे। सभी कालों के और सभी भाषाओं के आंकड़े जमा करना आसान काम नहीं था फिर भी एक झलक पेश है। इस सूची में आप भी नाम जोड़ सकते हैं।

आलोकधन्‍वा- असीमा भट्ट पति-पत्‍नी
विजय बहादुर सिंह - चित्रा सिंह पिता - पुत्री
अजित कुमार-स्नेहमयी चौधरी (पति-पत्‍नी)
महाश्वेता देवी - नवारुण भट्टाचार्य (मां बेटा)
एलिस वॉकर- रेबेका वॉकर (मां बेटी)


एलेक्‍जेंडर डूमा और इसी नाम का उनका बेटा
कमलेश्‍वर - गायत्री (पति-पत्‍नी)
कमलेश्‍वर - दुश्‍यंत कुमार (समधी)
किंग्‍स्‍ले एमिस- मार्टिन एमिस (पिता -पुत्र)
गिरिजाकुमार माथुर-शकुंत माथुर (पति-पत्‍नी)
जां निसार अख्‍तर- जावेद अख्‍तर - कैफी आजमी (पिता पुत्र ससुर)
जीतेन्‍द्र भाटिया- सुधा अरोडा़ (पति-पत्‍नी)


जॉन शीवर -सुसान शीवर (पिता पुत्री)
जोन डिडियान और जॉन ग्रेगरी डुने (पति पत्‍नी) (डुने के भाई डॉमिनिक भी लेखक थे)
धर्मवीर भारती- पुष्‍पा भारती (पति-पत्‍नी)। भारती जी की पहली पत्‍नी कांता भारती का भी उपन्‍यास आया था।
नन्द भारद्वाज - देवयानी (पिता पुत्री)
नामवर सिंह - काशी नाथ सिंह (भाई भाई)
नामवर सिंह – केदार नाथ सिंह (समधि)
काशी नाथ सिंह – दूध नाथ सिंह (समधि)
निर्मल वर्मा - गगन गिल (पति-पत्‍नी)
नोरा एफरॉन – निकोलस पिलेगी (पति -पत्‍नी)


पंकज सिंह - सविता सिंह (पति-पत्‍नी)
पी बी शैली – मैरी शैली (पति-पत्‍नी) और मैरी के माता पिता भी कवि
पुरुषोत्‍तम अग्रवाल - सुमन केशरी (पति-पत्‍नी)
प्रताप सहगल - शशि सहगल (पति-पत्‍नी)
प्रेम चंद-अमृत राय-श्रीपत राय (पिता पुत्र पुत्र)
प्रेम चंद - प्रबोध कुमार (नाना-दोहित्र)
प्रेम चंद - विजय राय (प्रेमचंद के भाई मेहताब राय के दोहित्र)
श्रीपत राय - सारा राय (पिता पुत्री)


फ्रैंक मैक्‍काउंट - मैसेशी मैक्‍काउंट (भाई भाई)
बालस्वरूप राही-पुष्पा राही (पति-पत्‍नी)
ब्रांटे सिस्‍टर्स जिनमें से तीन बहनों चार्लोट, एमिली और ऐन ने उपन्‍यास लिखे।
भारत भूषण अग्रवाल – विद्या भूषण अग्रवाल (भाई भाई)
विद्या भूषण अग्रवाल - ममता कालिया (पिता पुत्री)
रवीन्‍द्र कालिया - ममता कालिया (पति पत्‍नी)
विद्या भूषण अग्रवाल - रवीन्‍द्र कालिया (ससुर दामाद)


मोहन राकेश - अनीता औलक (पति-पत्‍नी)
रमेश उपाध्‍याय सुधा उपाध्‍याय संज्ञा प्रज्ञा राकेश (पति पत्‍नी बेटी बेटी दामाद)
राकेश बिहारी- कविता (पति-पत्‍नी)
राजेन्द्र दानी - तिथि दानी (पिता पुत्री)
राजेन्‍द्र यादव - मन्‍नू भंडारी (पति-पत्‍नी)
रिचर्ड माथेसन और इसी नाम का उनका पुत्र
रॉड सर्लिंग - रॉबर्ट सर्लिंग (भाई भाई)
लक्ष्मीशंकर वाजपेयी-ममता किरण (पति-पत्‍नी)


वॉ परिवार में चार पीढ़ियों तक लेखक रहे।आर्थर वॉ, उसके दो बेटे एलेक और एवेलिन, ऐवेलिन का बेटा ऑबरोन और ऑबरोन का बेटा एलेक्‍जेंडर। सब नामी लेखक रहे।
विभूति नारायण राय- विकास नारायण राय (भाई भाई)
शरद जोशी - नेहा शरद (पिता बेटी)
संतोष श्रीवास्‍तव- प्रमिला वर्मा (बहनें)
सूरज प्रकाश- मधु अरोड़ा (पति-पत्‍नी)
सूरज प्रकाश - विजय अरोड़ा (भाई भाई)


स्‍टीफन किंग्‍स और ताबिता किंग्‍स (पति -पत्‍नी) उनके बच्‍चे भी लेखक
हरीश नवल-सुधा नवल (पति-पत्‍नी)
हेनरी जेम्‍स विलियम जेम्‍स और एलिस जेम्‍स (लेखक भाई)
संजय सहाय- दूर्वा सहाय (पति-पत्‍नी)
उपेन्‍द्र नाथ अश्‍क-कौशल्‍या देवी नीलाभ अश्‍क (पति-पत्‍नी-पुत्र)
अमृत लाल नागर - अचला नागर (पिता पुत्री)


अवध नारायण मुदगल- चित्रा मुदगल- मृदुला गर्ग (पति-पत्‍नी समधिन)
मृदुला गर्ग - मंजुल भगत (बहनें)
के पी सिंह- नमिता सिंह (पति -पत्‍नी)
शिवानी- मृणाल पांडे (मां बेटी)
रमेश चंद्र शाह - ज्‍योत्‍स्‍ना निगम (पति -पत्‍नी)
सुधीश पचौरी - क्षमा शर्मा (पति -पत्‍नी)
दया पवार -प्रज्ञा पवार (पिता पुत्री) मराठी
विजय तेंडुलकर - प्रिया तेंडुलकर (पिता पुत्री) मराठी
विजया राज्‍याधक्ष - मंगेश राज्‍याधक्ष (पति -पत्‍नी) मराठी
इंदिरा संत - प्रकाश नारायण संत (मां बेटा) मराठी


विजया धर पुंडलीक - मोनिका गजेंद्र पुंडलीक (पिता पुत्री) मराठी
गुरुबक्‍श सिंह प्रीतलड़ी-नवतेज सिंह-सुमित सिंह-रति कांत सिंह-पूनम सिंह (दादा पिता पोता पोता पोते की पत्‍नी)
गुरुबक्‍श सिंह- हृदयपाल सिंह (भाई भाई) पंजाबी
निराला जी - विवेक निराला ( दादा पोता)
सियाराम शरण गुप्‍त - मैथिली शरण गुप्‍त (भाई भाई)
एच जी वेल्‍स- एंथनी वेस्‍ट (पिता पुत्र)
कैनेडियन लेखक मोरडेसाई रिचलर के पाँच बेटे भी लेखक थे।
चार्ल्‍स डिकेन्‍स – जूनियर चार्ल्‍स डिकेन्‍स (बाप बेटा)
जॉन स्‍टैनबैक-थॉमस-जॉन IV (पिता-पुत्र -पुत्र)


प्रेम पाल शर्मा-ओमा शर्मा (भाई भाई)
ज्‍यां पॉल सार्त्र – सिमोन द बुआ (जीवन साथी)
बलराज साहनी - भीष्म साहनी भाई भाई
विजयदान देथा कैलाश कबीर चंद्रप्रकाश देवल (पिता पुत्र दामाद)
शरत देवड़ा पुष्पा देवड़ा. पति पत्नी
अग्‍निशेखर- क्षमा कौल पति पत्‍नी
लिओ तालस्‍ताय-सोफिया तालस्‍ताय पति -पत्‍नी
राबिन शॉ पुष्‍प - गीता पुष्‍प

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget