विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

मेरे दस नवगीत : कृष्ण भारतीय


image

                  (१)

आयी हिस्से एक कटोरी धूप......!

कैसा पश्चात्ताप  करे अब -
कैसे    माँगे   सारी    धूप !
अपनों ने  मैली कर डाली -
सहज  सलोनी  गोरी धूप !

                         नई सुबह जब हुई, चमकती  -
                         आँखों  में सौ  रंग हुए ;
                         उम्मीदों   पे  बिजली  टूटी -
                         औचक ,सारे दंग हुए ;

झोली भर तो भूल, न आयी -
हिस्से  एक  कटोरी  धूप !

                       आपाधापी मची , कि कुछ ने -
                       कर ली क़ैद तिजोरी में ;
                       कुछ ने रूई समझ के भर ली -
                       ठूँस - ठूँस  के  बोरी में ;

कुछ ने खुल्लम खुल्ला, कुछ ने -
छुप कर करली चोरी धूप !

                      राजतंत्र  ने  प्रजातंत्र  से  जब -
                      अपना  रूख  मोड़ लिया ;
                      गाँधी  ने   अपने   चरखे   से -
                      अपना माथा फोड़ लिया ;

कभी न लौटी , प्रेमचन्द के -
नायक वाली होरी धूप !

                     उमर झोपड़ी की कटती है -
                     बस काले अँधियारों में ;
                     भूखा पेट फ़र्क़ कया समझे -
                     रोज़ों में , त्यौहारों में ;

बिना  लखे  जब  उसे  चिढ़ाये -
हर दिन हर पल कोरी धूप !

                       (२)

तल्ख़ी दिखला दो इस भोर से..........!

बूढी एक पीढ़ी थी डरी हुई आतंकित ,
गंदी    इस   सियासत   घनघोर   से !
तू तो नयी पीढ़ी का प्रतिनिधि है !
धूप क़ैद है तेरी , जिन भी  दरवाज़ों में -
मार वहीं लात  एक ज़ोर से !

                                 एक  एक  पत्थर  सब  फेंको
                                 अँधियारों पर -
                                 कुछ तो प्रतिरोध अब दिखाएँ ;
                                 गहराई  नींदों  पर  मिल  कर
                                 सब चोट करें -
                                 ताकि    ये    जगें , हड़बड़ायें ;

गोलबन्द  होकर  अब -
काले तम के ख़िलाफ़ ,
तल्ख़ी दिखला दो इस भोर से !

                                देशभक्त बन के ही पानी है
                                गद्दी  तो -
                                दंभ छोड  धरती  पर आओ ;
                                शामिल हो हम सब के दु:ख सुख के
                                जीवन में -
                                ऐसे    कुछ    काम    कर   दिखाओ ;

खादी वो पहनों , जिसका -
नाता    था    सतयुग   से ,
ना  कि  था  किसी बडे चोर  से !

                               अब काले  कामों की दुकानें
                               बन्द करो -
                               मत  छेड़ो   सपनों  के  छन्द ;
                               गद्दी  पर रहना  है तो सबका
                               दर्द सुनो -
                               मेहनत  से  कर लो  अनुबन्ध ;

पावन   सी   संसद    में ,
प्रतिनिधि  सब  सच्चे हों -
ना कि मक्कार रिश्वतख़ोर से !

                           (३)

मन के बाग बग़ीचे ...........!

मन के बाग बग़ीचे -
सबके  कोमल  मुरझाये !
हर क्यारी में -
तरह तरह के कैक्टस उग आये !

                फूल फलों की मादक मीठी -
                खुशबू रूठ गयी ;
                प्यारी  गुलकंदी  भाषा  की -
                डोरी  टूट  गयी ;

बातचीत में काँटों वाले -
जंगल उग आये !

               रिश्तों  वाले  तटबंधों  में -
               ठँडी  नदियाँ  हैं ;
               पत्थर दिल से सिर फूटी सी -
               कितनी सदियाँ हैं ;

सौंधी मिट्टी वाले रस्ते -
पत्थर तक आये !

              मन का भोलापन खो बैठा -
              रोज़ बनावट में ;
              सादापन लुट गया चमकती -
              हुई दिखावट में ;

सगे खून से मिले कि जैसे -
अनजाने आये !

              नयी सोच में सोचो तो हमने -
              क्या पाया है ;
              अपना यश से भरा पुरा परिवेश -
              गँवाया है ;

जैसे गद्दा छोड सड़क पर -
कोई सो जाये !

                    (४)

बच्चे हमारे................!

हर सुबह पाये मरे , जो स्वप्न नींदों में निहारे !
अब कभी भी चैन से ,  बच्चे नहीं सोते हमारे !

रात  में जब  स्वप्न परियां -
ले   गयी   उनको   घुमाने ;
हर  सुबह   वो   लग  गये -
दिल में छुपी मंशा जताने ;

हूक सी बस एक साँसों में लगी फँसने हमारे !

लोरियाँ माँ की उन्हें अब तो -
डराने   लग   गयी   हैं ;
माँ समझती है कि नींदें क्यों -
सताने   लग  गयी   हैं ;

बचपने की मौत कितने अब मरें बच्चे हमारे !

फूल से  कोमल  दिलों पर -
क्या असर होगा व्यथा का ;
यों दुखद  तो अन्त ना कर -
फूल सी कोमल कथा का ;

क्या सुनायेंगे , बडे होकर , डरे बच्चे हमारे !

इस सरल  मन को हमारी -
भ्रान्तियाँ का बोध क्या हो ;
ये विषय कितना कठिन है -
सोचिये तो  शोध क्या  हो ;

क्या विषय अब शोध के बन जायेंगे बच्चे हमारे !

                           (५)

नागफनियों की शरारत है.............!

अब कहाँ  नरमी हवाओं में ,
नागफनियाँ  की शरारत है -
आजकल इन फूलगाहों में !

                            मालियों ने दूधिया परिवेश -
                            चालबाज़ी   में  उतारे    हैं ;
                            सब्ज़बागों   के   बहाने  से -
                            फूल  कुछ   बेमौत  मारे हैं ;

फूल  वाली  रोशनी है क़ैद -
नागफनियों  की निगाहों में !

                            अब  किनारों  में नहीं बँधती -
                            खौलते जल की व्यवस्थायें ;
                            हर समय  पेशानियों पर हैं -
                            ज्वार-भाटे  की  अवस्थायें ;

खून की नदियाँ उबलती हैं -
दोस्तों ! अब  नर्म  बाहों में !

                        (६)

अब तो राजा चाह रहा है....सूरज आये !

अब  तो  राजा  चाह  रहा  है -
सूरज आये !

                        धूप  अँधेंरे  के कचरे  पर -
                        झाड़ू  मारे ;
                        लेकिन ढीठ अँधेरा भी तो -
                        ये स्वीकारे ;

उसकी सत्ता गयी , भरम की -
धूल हटायें !

                      आसमान पर जब सूरज का -
                      ढेरा   होगा ;
                      बहुत दिनों  के तम  के  बाद -
                      सवेरा होगा ;

घूम घूम कर सबको ये मौसम -
समझाये !

                    साठ साल की पसरी खिजा -
                    बाग में,डर लो ;
                    इस माली पर , भी तुम एक -
                    भरोसा कर लो ;

बंजर में हरियाली शायद फिर -
खिल आये !

                  संशय की काली बदली सब -
                  मिलो हटाओ ;
                  बूँद-बूँद जुड़ ,वर्षा के बादल -
                  बन जाओ ;

फूल  खिलें  फिर  बाग़ों  में-
तितली मुस्काये !

                      (७)

जीवन है बहुरंगी...............!

ज़ीवन  है  बहुरंगी  :  जाने  कितने  रूप !

जिसका पेट भरा है उसकी -
थाली फ़ुल ;
भूखे की थाली से , उसकी -
रोटी गुल ;

झारखंड अब पिये घास का असली सूप !

कहीं न चुकते क़र्ज़ ,खेत -
घर सब बिक के ;
है धाकड , तो  खूब चले -
खोटे   सिक्के ;

मिले प्यास को महज सफ़र में अंधे कूप !

गर्म घरों में ठंड करे -
कैसे आघात ;
कहीं अलावों में ठिठुरी सी -
कटती रात ।

लो ! दिन में ड्यूटी से अपनी ग़ायब धूप !

                         (८)

धूप लाड़ली बेटी जैसी............!

सर्द हवा , कोहरा , सन्नाटा -
आयी घर से धूप निकल के !

                          ठिठुर रहे थे बूढ़े बाबा, ठंड मगर -
                          क्यों  रहम  दिखाये ;
                          भली धूप ने  घबरा करके , गरम -
                          धूप के  शाल उड़ाये ;

आयी तब बूढ़े बाबा को -
राहत की कुछ साँस निकल के !

                        धूप  कूद , छज्जे  पर  बैठी ,  चौके में -
                        अम्माँ को देखा ;
                        काँप काँप वो बाँच रही थी ,पूरे घर का -
                        लेखा   जोखा ;

धूप लाड़ली बेटी जैसी -
चहकी उससे ख़ूब लिपट के !

                      तभी नकचढ़ी भाभी के मन ,गरम धूप की -
                      चाहत जागी ;
                      झट से धूप कूद कर उतरी , मचा हड़बड़ी -
                      घर से भागी ;

धूप उसे नफरत से देखे -
जो रहते हों बड़ी अकड़ के !

                          (९)

लो शहर धुल गया.............!

बूँदों की इक सुखद सी झडी क्या लगी -
लो शहर धुल गया !

          भागती  दौड़ती  हर  सड़क -
          भीग कर  ,  मुस्कुराने लगी ;
          आग से तप रही हर फ़िज़ा -
          खिल गयी ,गुनगुनाने लगी ;

हाँपते से शहर में झंडी क्या लगी ,चैन का -
इक पहर घुल गया !

        घर  दड़बेनुमा  ,  खिड़कियाँ -
        खोल  कर  ,  मुस्कराने  लगे ;
        चुस्कियाँ चाय  की हँस  पड़ी -
        कप   ताली    बजाने     लगे ;

बन्द कमरों को बूँदों की बौछार  में -
अपना घर मिल गया !

       भागती   ज़िन्दगी  थम   गयी -
       क्या  करे  ,  आज  मजबूर है ;
       यों तो पल चैन का आदमी से -
       सदा  ,  कोस   तक   दूर   है ;

ज़िन्दगी को नहाकर सहज चैन का -
आवरण मिल गया !

                      (१०)

सर्द रात.........!

रमुआ के दो प्यारे बच्चे और लुगाई !
सर्द रात ,और पूरे घर में एक रज़ाई !

ठंड लगे , तो रमुआ खींच -
बदन को ढाँपे ;
बच्चे खींचें थोड़ी सी , तो -
रमुआ काँपे ;

ढाँप ढाँप सब रात ,बिचारो जगी लुगाई !

मिल में प्रोफ़िट हुआ , तो मिल -
मालिक हरषाये ;
सभी मजूरा ख़ुश हैं , बोनस के -
दिन आये ;

रमुआ के हिस्से में , पतली चद्दर आई !

ठंड निगोड़ी बड़ी बेरहम -
मारे चाँटे ;
हवा  छुरे  सी  तन  की -
हड्डी हड्डी काटे ;

भोली गइया पे सवार हो क्रूर कसाई ! 

                       OO

परिचय :
नाम : कृष्ण भारतीय
जन्म : १५ जुलाई,१९५०
स्थान : एटा (उत्तर प्रदेश )
प्रकाशित : धर्मयुग, कादिम्बनी , साप्ताहिक हिन्दुस्तान,
मधुमती मासिक, दिल्ली व विभिन्न पत्र -पत्रिकाओं में !
प्रकाशित संग्रह : दो नवगीत संग्रह प्रकाशनार्थ तैयार !
सम्प्रति : एस डी-३८२, शास्त्री नगर ( ग्राउण्ड फ़्लोर ),
ग़ाज़ियाबाद -२०१ ००२ (उत्तर प्रदेश )
संपर्क : ०९६५००१०४४१

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget