रविवार, 1 मई 2016

लघुकथा / बहन / रमाकांत यादव

'बहन'

- - - -

दुर्ग से छपरा जाने वाली ट्रेन 'सारनाथ एक्सप्रेस' रात के सन्नाटे को चीरती हुई मध्य प्रदेश की घाटियोँ से होकर गुजर रही थी.मैं जनरल बोगी मेँ बैठा झपकियाँ ले रहा था कि तभी किसी ने मुझे आवाज दी,"थोड़ा उधर खिसकिए ,मुझे भी बैठना है."मैं चौँक कर उठा तो देखा सामने एक खूबसूरत लड़की खड़ी मुस्कुरा रही थी. मानवता के नाते मैंने उसे बैठने के लिए सीट दे दी.

थोड़ी देर बाद उसने मेरा परिचय पूछा और अपने बारे मेँ भी बहुत कुछ बताया .अचानक उसकी निगाह मेरी डायरी पर पड़ी. "क्या मैं आपकी डायरी देख सकती हूँ?"

"क्योँ नहीँ? ये लीजिए " कहते हुए मैंने अपनी डायरी उसके सुपुर्द कर दी.

उस डायरी मेँ मेरी कुछ कविताएँ और कहानियाँ थीँ.

"अरे वाह!आप तो कवि और लेखक भी हैँ .क्या मैं आपसे एक बात पूछ सकती हूँ?"

"पूछिए"

"क्या आपकी कोई गर्लफ्रेँड है ?

"नहीँ,मगर आप ये सब क्योँ पूछ रही हैँ?"

"क्या आप मुझे अपनी गर्लफ्रेँड बनायेँगे?"उस लड़की की बात सुनकर मुझे उस पर थोड़ा गुस्सा तो जरूर आया मगर मैंने उससे प्यार से कहा,"मैंने आपको अपनी बहन समझकर बैठने के लिए सीट दी है न कि गर्लफ्रेँड समझकर."इतना सुनते ही

उसकी आँखोँ से झर-झर आँसू बहने लगे .उसको रोता देखकर मैं घबरा गया और पूछा,"क्या हुआ बहन?"

आँसू पोंछते हुए उस लड़की ने जवाब दिया,"भईया, अगर लड़कियोँ के प्रति ऐसी सोच आज का हर नवयुवक रखने लगे तो भविष्य मेँ फिर कभी किसी बहन की आबरु नहीँ लुटेगी."

रमाकांत यादव

पता-नरायनपुर, नेवादामुखलिशपुर , बदलापुर, जौनपुर, उत्तर प्रदेश-222125

मो.9984352193

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------