विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

उम्मीद न करें थके हारे अधमरों से / डॉ. दीपक आचार्य

image

अब सवाल यह उठने लगे हैं कि देश किन पर भरोसा करे। समाज किनसे उम्मीदें रखें और कौन समाज व देश के लिए सर्वस्व बलिदान को तैयार है।

यहाँ बात सेना और हमारे कर्णधारों की नहीं बल्कि उन लोगों की हो रही है जो पैसा पूरा चाहते हैं, सभी प्रकार के संसाधनों का उपयोग करना चाहते हैं, हर जगह अपने अन्यतम प्रभुत्व और प्रतिष्ठा को चाहने के लिए सब कुछ करने को तैयार रहते हैं। और यह सब पा जाने के लिए ये लोग दुनिया के सारे काम कर सकते हैं, सिवाय अपने निर्धारित कर्म के।

खुद के जिम्मे के कामों को छोड़कर ये लोग दूसरा कुछ भी कर सकते हैं। इनसे अपने काम के सिवा कुछ भी करा लो, हरदम तैयार रहते हैं। अपने दायित्वों से कहीं अधिक आनंद इन लोगों को दूसरे कामों में आता है और उनकी यह आदत जिन्दगी भर बनी रहती है। 

इससे इन लोगों को अनिर्वचनीय सुकून मिलता है, भले ही दूसरे लोगों को उनकी यह आदत कितना ही परेशान करे, चक्कर कटवाए और दुःखी करे। हर इंसान में भरपूर क्षमता विद्यमान होती है। लेकिन अधिकांश लोग इसका इस्तेमाल नहीं करते।

बहुत सारे लोग आजकल इतने प्रमादी और आलसी हो गए हैं कि जानबूझकर कोई काम करना नहीं चाहते। अपने आपको जन्मजात निकम्मा और नुगरा सिद्ध करते हुए बिना काम के धींगामस्ती करने वाले और मौज उड़ाने वालों की अब कोई कमी नहीं रही।

हर जगह अब इन लोगों का जमघट रहने लगा है। कोई सा काम बताने पर ये लोग हमेशा यही प्रयास करते हैं कि जैसे भी हो, काम टाला जाए या दूसरे के पाले में डाल दिया जाए। इन लोगों की पूरी मानसिकता पलायनवादी होती है और इस वजह से प्रथम दृष्ट्या ये लोग यही प्रयास करते हैं कि कामों से सायास दूरी बनाये रखी जाए और जैसे भी हो यही हो कि काम अपने पास आए ही नहीं।

अपने आपको द्वीप की तरह ढाल लेने वाले इन लोगों के पास हजार बहाने हमेशा तैयार रहते हैं। इसके बावजूद कोई सा काम आ ही जाए तब ये बेमन से काम करते हुए अपने आपको इतना अधिक थका-हारा और अधमरा दिखाते हैं कि कुछ नहीं कहा जा सकता।

समझदार लोगों के लिए इनकी अधमरी दीन दशा और स्वाँग धर्मसंकट की स्थिति पैदा कर देते हैं कि इन लोगों की इस विचित्र दशा पर रोया जाए कि इन पर दया-करुणा का भाव रखा जाए। तकरीबन हर बाड़े में कुछेक लोग ऎसे होते ही होते हैं जो हर तरह से यह प्रयास करते हैं कि कम से कम काम करना पड़े और बिना कोई मेहनत किए अधिक से अधिक प्राप्ति होती रहे।

इन लोगों की पूरी जिन्दगी अस्त-व्यस्त रहती है इसलिए न टाईम पर आ सकते हैं, न टाईम पर कोई काम कर सकते हैं। हर सौंपा हुआ काम इन्हें अपने भार से भी अधिक भारी लगता है इसलिए अपने कामों को करने में मौत ही आ जाती है।

फिर आजकल बहुत से लोग हैं जो अपने आपको लाटसाहब या भाग्य निर्माता समझते हैं या कि किसी बड़े आदमी के अनुचर होने का दंभ भरते हैं। इनकी स्वाधीनता, उद्दण्डता, उन्माद, उन्मुक्तता और स्वेच्छाचारिता के बारे में कुछ कहना भी निरापद नहीं होता। इसलिए इस किस्म के लोगों को न कोई छेड़ता है, न इनके बारे में कोई टिप्पणी करना पसंद करता है क्योंकि आदमी अपने आपे में हो, अपने आप में हो तब तो किसी को भी समझाया जा सकता है लेकिन जब आदमी किसी बड़े आदमी का पालतु हो जाता है तब उसे सभी समझदार लोग फालतू समझकर उपेक्षित कर दिया करते हैं।

और यही बात इन लोगों के हक में होती है जो उन्हें स्वेच्छाचार के लिए इतना अधिक स्वतंत्र कर दिया करती है कि फिर इन लोगों का जीवन आवारा साण्डों की तरह हो जाता है। इससे भी अधिक हुनर हो तो ये उन्मादी श्वानों की तरह बन जाते हैं, जिन्हें पूरी स्वतंत्रता है कि कहीं भी भौंक सकते हैं, किसी के भी पीछे लपक सकते हैं और चाहे उसे काट भी सकते हैं।

यह तो गनीमत है कि ऎसे थके-हारे और अधमरे या शातिर लोग बाड़ों के भीतर हैं, सीमाओं पर होते तो पता नहीं हम कब से इनके कुकर्मों का शिकार होकर फिर से गुलामी के भँवर में फंस गए होते।

इसी बात को खैरियत मानकर चलना होगा वरना पृथ्वी पर कोई भार है तो ये ही लोग हैं जो जानबूझकर देश का पैसा खा रहे हैं और काम के मामले में जीरो। अपने आस-पास भी ऎसे लोग हों तो इनसे कोई उम्मीद न रखें वरना  न कोई काम हो पाएगा, न जीने का सुकून मिल पाएगा। 

ये थके-हारे और अधमरे पालतु, फालतु और खुराफाती लोग ही जिम्मेदार हैं जिनकी वजह से देश सब कुछ होते हुए भी तरक्की नहीं कर पा रहा है। इनके अस्तित्व को न चुनौती दें, न इनके बारे में चर्चा करें।

समाज और देश का भला चाहें तो इतना ही कर दें कि दूसरे लोगों को  न बिगड़ने दें वरना छूत की यह घातक महामारी सभी को ले डूबेगी।

---000---

9413306077

www.drdeepakacharya.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget