|रचनाकार में खोजें_

रचनाकार.ऑर्ग के लाखों पन्नों में सैकड़ों साहित्यकारों की हजारों रचनाओं में से अपनी मनपसंद विधा की रचनाएं ढूंढकर पढ़ें. इसके लिए नीचे दिए गए सर्च बक्से में खोज शब्द भर कर सर्च बटन पर क्लिक करें:
मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें

''वर्तमान परिप्रेक्ष्य में हिंदी तथा भारतीय भाषाओं के उपन्यासों का तुलनात्मक अध्ययन''

SHARE:

  डॉ . शेख अफरोज फातेमा शेख हबीब सहयोगी प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्षा, मौलाना आजाद कला, विज्ञान एवं वाणिज्य महाविद्यालय, औरंगाबाद   डॉ . का...

 

डॉ. शेख अफरोज फातेमा शेख हबीब

सहयोगी प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्षा,

मौलाना आजाद कला, विज्ञान एवं

वाणिज्य महाविद्यालय, औरंगाबाद

 

डॉ. काकडे गोरख प्रभाकर

सहयोगी प्राध्यापक

सरस्वती भुवन कला एवं वाणिज्य

महाविद्यालय, औरंगाबाद

 

आज वर्तमान साहित्य विधाओं में भारतीय उपन्यास साहित्य विधा ने अपना महत्त्वपूर्ण स्थान बना लिया है । भारतीय उपन्यासों ने वर्तमान जीवन की संगति एवं विसंगतियों में चहु ओर से पहल करके मानवी संवेदनाओं को अपने में समेटा है और वर्तमान राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक, शैक्षिक एवं वैश्विक परिवेशों को प्रक्षेपित करके साहित्य में मूल्यात्मक एवं गुणात्मक वृद्धि की है । इस संदर्भ में शशि भारद्वाज लिखती हैं - "उपन्यास के पिटारे में झांकती है मानवीय पीड़ा की कलात्मक अभिव्यक्ति जिसमें वर्तमान सामाजिक, राजनैतिक व आर्थिक परिस्थितियों में पसरती नित्यवृद्धिशील क्रूरता; विस्थापित जीवन-यापन का संकट; देहवादी संस्कृति; बहुराष्ट्रीय कंपनियों का आर्थिक प्रभुत्त्व; स्वकेंद्रित स्वार्थी सत्ता से आम आदमी का संघर्ष; स्त्री विमर्श और स्त्री सशक्तिकरण आदि मानवीय प्रयासों की गतिशीलता; प्रवास, विदेशी यात्राओं और सूचनातंत्र से आयातीत बाहरी प्रभावगत परिवर्तन आदि सब सहज सिमट आए हैं ।"१

साथ ही यह पिटारा मानव का अंतर्मन, मोहभंग, अनास्था, विघटन, यौन कुंठाएँ, आंतक, असंतोष, नैराश्य एवं अजनबीपन की दिशाओं में खुलने की बात भी भारद्वाज करती हैं।

वर्तमान राजनीति के संदर्भ में हिंदी उपन्यासों के साथ जब भारतीय उपन्यास साहित्य का तुलनात्मक दृष्टि से विचार किया जाता है तो समग्र भारतीय भाषाओं के उपन्यास साहित्य में वर्तमान राजनीति का स्वरूप भाई-भतीजावाद, स्वार्थ-लोलुपता से युक्त अखाड़ा बनने का वास्तव सामने आता है । देश के राजनेता जनता को केवल आश्वासनों के गुब्बारे थमा रहे हैं । आक्रोश या सत्ता के बदलाव पर फिर से वही व्यवस्था पिटी हुई जनता को खिलौना सम-ा अपने स्वार्थ के -ाुन-ाुने-सा बजा रही हैं । अपने बेसिर-पैर के अंजेडे द्वारा जनता के भविष्य का जनाजा निकालकर अपना कछुए-सा पेट भरने का काम कर रहे हैं । साथ ही इन नेताओं ने सरकारी कर्मचारी, शासक, सांसद एवं अन्यों से भी साझा हिस्सेदारी के लिए मिलीभगत की है, जिसे वर्तमान भारतीय उपन्यासों ने वास्तव रूप में सामने रखा है । हिंदी उपन्यासकारों ने अपनी कृतियों के माध्यम से इस सच को उघाड़ा है । प्रतीक-तंत्र को लेकर लिखा गया बदीउज्जमा का उपन्यास 'एक चुहे की मौत' में प्रतीक कथा के माध्यम से सरकारी कार्यालयों की धांधलियाँ प्रस्तुत की गयी हैं, "एक चूहे की मौत' में चूहाखाना और चूहामार सभी प्रतीक हैं । 'चूहा' फाइल का, 'चूहाखाना' सरकारी कार्यालय का और 'चूहामार' कार्यालय के किरानी बाबुओं से लेकर अफसरों और अधिकारियों का प्रतीक हैं ।"२ प्रतीक कथाओं के माध्यम से वर्तमान सरकारी कार्यालयों की व्यवस्था का परदाफाश करने का काम 'बदीउज्जमा' के साथ साथ 'विनोद कुमार शुक्ल' और 'श्रवण कुमार गोस्वामी' ने भी किया है । विनोद कुमार शुक्ल के उपन्यास 'नौकर की कमीज' में कमीज व्यवस्था का प्रतीक है, ''कमीज नहीं बदलती, कमीज पहननेवाला बदलता है । तंत्र नहीं बदलता, सरकारे बदलती हैं, पार्टियाँ बदलती हैं । सभी पार्टियाँ एक समान हैं।"३ चाहे फिर चुनाव कोई भी पार्टी जिते उसमें वही प्रचलित ढर्रे का कामकाज चलता रहेगा । व्यवस्था ने एक दायरा कायम किया है । जिसमें एक मामूली कर्मचारी से लेकर, बड़े बाबू, अफसर, नेता, मंत्री सभी लोग एक कड़ी से जुड़े हुए हैं । और जिसके कारण आम आदमी की दशा निरिह प्राणी जैसी हो गयी है । वर्तमान व्यवस्था का हर आघात सहने के लिए वह तैयार है । ठीक इसी तरह अन्य भारतीय भाषाओं के उपन्यासों में भी यही चित्रण दिखाई देता है ।

कन्नड़ उपन्यासकार भैरप्पा ने १९९३ में प्रकाशित और 'कर्नाटक साहित्य अकादमी' से पुरस्कृत उपन्यास 'तंतु' के माध्यम से सरकारी कर्मचारी, शासक, नेता, मंत्री आदि की मिलीभगत को उजागर किया है । अवधूत कुडतडकार (कोंकणी उपन्यासकार) ने 'शक्तिपात' (२०००) में बडबोलेपण की बढ़ती प्रवृत्ति को उजागर करते हुए सच्चे नेता का हनन एवं गैरकानूनी काम करनेवालों की होती स्थापना का भंडाफोड़ किया है । चंदन नेगी (पंजाबी) ने 'ते हवा रूक गई' (१९९६) में भ्रष्ट व्यवस्था, कुशासन में पीड़ित, शोषित आम आदमी का चित्रण किया है । रंगनाथ पठारे (मराठी) ने 'ताम्रपट' (१९९४) में भाई-भतीजावाद की राजनीति को चित्रित किया है । सत्ता के लिए एक ही परिवार के लोग कोई सत्ताधारी पक्ष में, तो कोई विरोधी पार्टी में राजनीति करते हैं। इस उपन्यास के पात्र 'भ्रष्टाचार' को युगधर्म मानते हैं ।

इन अमानवीय संवेदनाओं ने भारतीय उपन्यासकारों को झकझोरा है, "जिसके कारण स्वतंत्र भारत की प्रशासन नीति, राजनीति में आए भ्रष्टाचार, अपराधीकरण, शोषण, बेरोजगारी, भ्रामक शिक्षा नीति जैसे विषयों पर सभी भाषाओं में उपन्यास लिखे गए । युग की समस्याओं ने कथा-साहित्य में अपनी अनिवार्य उपस्थिति दर्ज कर ली ।"४ इस वर्तमान विकृत राजनीति ने आज अनेक नयी-नयी समस्याओं को जन्म दिया, जैसे भाषावाद, प्रांतवाद, सांप्रदायिकता, नक्सलवाद, आतंकवाद आदि । जिसे कमलेश्वर ने (हिंदी) 'कितने पाकिस्तान' (२०००) में उजागर किया है और कहा है कि, "लड़ाई धर्म की नहीं, धर्म और धर्मांधता की है। इस्लाम जैसा धर्म खुद अपनी धर्मांधता से लड़ रहा है । और शायद दुनिया के हर धर्म को अपनी धर्मांधता से लड़ना होगा, जितना होगा ।"५

सांप्रदायिक दंगे केवल हिंदू और मुसलमानों में ही नहीं होते वह तो मजहब के नाम पर शिया और सुन्नी में भी करवाये जाते हैं । भारत विभाजन और उसके बाद सांप्रदायिक दंगे यह एक समीकरण बन गया । कुछ स्वार्थी लोग गंदी राजनीति कर सांप्रदायिक टेढ़ निर्माण करते रहे । भारत विभाजन और सांप्रदायिक दंगे एवं उससे उत्पन्न पीड़ा को हम साहित्य की विविध विधाओं के माध्यम से महसूस करते रहे । गीतांजलि श्री का 'हमारा शहर उस बरस' (१९९८) इसकी मुखर अभिव्यक्ति प्रस्तुत करता है । मंजूर एहतेशाम का 'सूखा बरगद' सांप्रदायिकता एवं विभाजन के कारण निर्वासित जीवन को सामने रखता है, "सूखा बरगद" मे जहाँ विभाजन के बाद इस देश में रह गए मुसलमानों के मध्यवर्ग का जीवन प्रामाणिकता के साथ चित्रित हुआ है, वहीं विभाजन के साथ जुडी मुसलमानों की भावना विशेषतः स्वातंत्र्योत्तर परिवेश में असुरक्षा का अहसास बहुत व्यापक रुप में व्यक्त हुआ है।"६ भारत विभाजन की त्रासदी, अयोध्या प्रकरण और आतंकवादी हमलें हमें अपनी सभ्यता और संस्कृति पर सोचने के लिए मजबूर करते हैं । सभ्यताओं के संघर्ष का जुमला इन दिनों मे चाहे जितना चला हो लेकिन उसकी असलियत तो अब दुनिया जान चुकी है । अमरीका साम्राज्यवाद में भूमंडलीकरण ने जिस तरह से आज के माहोल को बेहद संगीन और खतरनाक बनाया है उसके दायरे में कश्मीर की आग, अयोध्या का उपद्रव, देश में सुबाई आतंक और पड़ोस से आनेवाली फिदायिनों की खेप सब आते हैं । हमारे देश में प्रमुख रूप से एक और समस्या उभरकर आने लगी जो है बेरोजगारी एवं शिक्षा के क्षेत्र में नैतिक मूल्यों का अधपतन तथा बढ़ती भ्रष्ट व्यवस्था । इसी विषय को लेकर गिरिराज किशोर के उपन्यास 'यथा प्रस्तावित' (१९८२) में सरकारी कर्मचारी व्यवस्था के अंग हैं । दूसरे उपन्यास 'परिशिष्ट' (१९८४) में शैक्षणिक व्यवस्था का चित्र है । सवर्ण समाज का रवैया केवल दफ्तर में ही नहीं दिखाई देता वह शिक्षण-संस्थाओं में भी मौजूद हैं । इसी तरह नासिरा शर्मा के उपन्यास 'अक्षयवट' (२००३) में शिक्षा के क्षेत्र में हो रहे भ्रष्टाचार का शिकार 'जहीर' नामक एक मेधावी छात्र होता है जिससे उसका जीवन ही बदल कर वह उपजीविका के लिए बिसाती' की दूकान खोलता है । 'जिरो रोड़' (२००८) नामक दूसरे उपन्यास में बेरोजगारी से परेशान, सिद्धार्थ, रोजगार की तलाश में दुबई चला जाता है । शिक्षण-संस्था ही नहीं, सभी संस्थाओं में विकृतियाँ फैल गयी हैं। विभूति नारायण राय ने 'किस्सा लोकतंत्र' (१९९३) में लोकतंत्र का वास्तविक चेहरा उघाड़ कर रखा है। यह केवल हिंदी उपन्यासों के ही विषय नहीं तो अनेक भारतीय भाषाओं के उपन्यासों के भी विषय हैं।

वर्तमान सामाजिक संरचना शोषण का बदला हुआ मुहावरा है । धर्म-भेद, जातिभेद, वर्णभेद, ऊँच-नीच की समस्याएँ आज पंरपरागत रूप में न दिखते हुए उसने अपने संदर्भ बदले हैं । स्त्री-पुरूष, सवर्ण-अवर्ण कही-न-कही शोषण, उत्पीड़न की यंत्रणा से गुजर रहे हैं । कार्ल मार्क्स द्वारा बताए गए 'अर्थ' वितरण की समानता के सिद्धांत को शिद्दत के साथ पूर्णत्त्व की ओर ले जा नहीं पाये । आज भी पूँजीवाद, अर्धसांमतवादी व्यवस्थाएँ अपना सर रह रह कर (सेज - SEZ के रूप में) निकाल रही हैं । वैश्वीकरण की इस होड़ में 'वैश्विक ग्राम' की संकल्पना फिर से एक बार अपने भविष्य को उपनिवेशवाद के रूप में प्रस्थापित कर रही है । धार्मिक स्थल अब श्रद्धा के केंद्र न रहकर बारूदों के गोदाम, अनाचार के अड्डे एवं साम्प्रदायिक टेढ़ निर्माण करनेवाले गढ़ बन गये हैं । दुआओं के लिए उठनेवाले हाथ अब हत्याएँ कर रहे हैं । जो जीवन दर्शन बन रहा है वह मानवीय सभ्यता की ओर बढ़ने की बजाए विनाश की ओर अग्रेसर है, जो अपने नग्न रूप में हिंदी उपन्यासों में दिखाई देता है । साथ ही हिंदी के समान ही यही दृश्य भारतीय उपन्यास साहित्य में भी दिखाई देते हैं ।

हिंदी की गीताजंलि श्री ने 'हमारा शहर उस बरस' (१९९८) में मठ और विश्वविद्यालय को साम्प्रदायिकता को हवा देनेवाले केंद्रों के रूप में चित्रित किया है । विरेन्द्र जैन (हिंदी) ने 'डूब' (१९९१) के माध्यम से विस्थापित, गरीब किसानों के जीवन को व्यक्त किया है । "इस उपन्यास में जिन सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक मुद्दों को उठाया गया है वे भारतवर्ष के तमाम-तमाम गावों की भी जीवंत स्थितियाँ और परिणतियाँ हैं, इसी कारण 'डूब' उपन्यास की कथा-योजना भारतीय ग्राम्य की व्यथा-कथा, अभाव-तनाव, सहजता-स्वाभाविकता, दुःख-दर्द आदि की सर्वांगपूर्ण अभिव्यक्ति से मुखरीत है ।"७ हिंदी के समान ही गुजराती उपन्यासकार जशवंत मेहता ने अपने 'टहुको' (१९९५) उपन्यास में मानवीय मूल्यों के हनन को व्यक्त किया है । शंकर सखाराम (मराठी) ने 'सेज' में सेज से उत्पन्न होनवाली समस्याओं को दर्शया है । बाबा भांड (मराठी) ने सामाजिक, धार्मिक, विकृतियों को 'दशक्रिया' (१९९५) में अंत्यसंस्कारों के बाजारीकरण के रूप में व्यक्त किया है । बलदेव सिंह (पंजाबी) ने 'लालबत्ती' (१९९८) में समाज में व्याप्त कुरीतियों एवं बढ़ती वेश्यावृत्ति पर बेबाक टिप्पणियाँ की हैं । और उससे उबरने का मार्ग सु-ााया है । धीरूबहन पटेल (गुजराती) 'हुनाशन' (१९९३) में बढ़ रहे पारिवारिक विघटन को रोकने का प्रयास किया है । यही काम शिवशंकरी (तमिल) ने 'यह एक आदमी की कहानी' (१९९१) में पति-पत्नी के बिगड़ते संबंधों को उजागर करके किया है । देवीबालाने (तमिल) 'एक गंगा की कथा' (१९९६) में नारी की अदम्य जिजीविषा, शक्ति, कर्तव्य एवं परिवार में नारी की भूमिका को स्पष्ट किया है ।

दलितों एवं जनजातियों की जीवन समस्याओं को लेकर भी वर्तमान समय में हिंदी में उपन्यास लिखे गए हैं । हिंदी में मैत्रेयी पुष्पा ने 'अल्माकबूतरी' (२००४) में बुंदेलखण्ड की कबूतरा जनजाति के शोषण, उत्पीड़न को उजागर किया है कि, "कभी-कभी सड़कों गलियों ने घूमने या अखबारों की अपराध-सुर्खियों में दिखाई देनेवाले कंजर, साँसी, नट, मदारी, सँपेरे, पारदी, हाबूड़े, बनजारे, बावरियाँ, कबूतरे-न जाने कितनी जनजातियाँ हैं जो सभ्य समाज के हाशियों पर डेरा लगाए सदियों गुजार देती हैं... कबूतरा पुरूष या तो जंगल में रहता है या जेल में... स्त्रियाँ शराब की भट्टियों पर या हमारे बिस्तरों पर ।"८ जयप्रकाश कर्दम ने (हिंदी) 'छप्पर' में दलितों के शोषण, उत्पीड़न, अस्पृश्यता, आक्रोश, नकार, विद्रोह, आत्मशोध एवं आत्मभान को उजागर किया है । हिंदी की तुलना में इन बिंदुओं की प्रखरता मराठी दलित लेखक शरणकुमार लिंबाले के 'हिंदू' में जादा देखी जाती है । गुजराती लेखक दलपत चौहाण ने 'मलक' (१९९१) एवं 'गीध' (१९९१) में दलितों के शोषित जीवन को शब्द दिये हैं । तेलुगु नारीवादी उपन्यासकार अरूणा ने 'एल्लि' (१९९२) और 'नीली' (१९९६) में दलित नारी के दोहरे शोषण को व्यक्त किया है । यह उपन्यास एक ओर 'स्त्री-विमर्श' की कृति है, तो दूसरी ओर 'दलित विमर्श' की कृति है । अनिल घोड़ाई (बांगला) ने 'दौड़बा गाडार उपाख्यान' (१९९७) में पश्चिम सिंहभूमि के आदिवासी जनजीवन को उजागर किया है ।

इन बिंदुओं के अलावा वर्तमान समय में मानव के अंतर्मन को खोलकर उसके मनोभावों, अंतर्द्वद्वों, चेतन-अचेतन वृत्ति को उजागर करनेवाले उपन्यासों का भी सृजन हुआ है । हिंदी में नासिरा शर्मा का 'जिरो रोड', सय्यद जंगम इमाम का 'दोज़ग', मृदुला गर्ग का 'कठगुलाब', मंजूल भगत का 'अनारो' आदि ने सशक्त रुप में इन बिंदुओं को उजागर किया है, तो ओडिया के प्रदोष मिश्र का 'सुब्रत' (१९९१) कन्नड़ के बी.एस. स्वामी का 'भावजीवी' (१९९५) कोंकणी के दामोदर मावजो का 'कार्मेलीन' (१९९१) मराठी के मिलिंद बोकिल का 'शाळा' (२००४) आदि ऐसे ही उपन्यास हैं । साथ ही इस समय में ऐतिहासिक, आंचलिक, वास्तववादी, यौन संबंध, पाश्चात्य संस्कृति का अंधानुकरण, अकेलेपण की बढ़ती प्रवृत्ति उजागर करनेवाले उपन्यासों का हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषाओं में भी सृजन हुआ है ।

संक्षेप में कह सकते हैं कि बीसवीं शती का अंतिम दशक एवं इक्कीसवीं शती का प्रथम दशक भारतीय उपन्यास साहित्य की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण रहा है । इस समय में उपन्यास विधा ने मानव जीवन के विभिन्न समस्याओं को उजागर किया है । इस समय में उपन्यासों ने केवल संख्यात्मक बढ़ोत्तरी ही नहीं की तो मूल्यात्मक गुणों को भी ग्रहण किया है, जिसमें आज नित नये प्रयोग जारी हैं । इन्हीं विशेषताओं के कारण इस काल के ओडिया उपन्यास साहित्य को 'उपन्यास का स्वर्णकाल' कहा है तो, हिंदी उपन्यास के संदर्भ में "कुछ आलोचकों ने इसे इस दशक में 'उपन्यास का विस्फोट' की संज्ञा दी है ।"९ साथ ही गुजरी सदी 'अनुभवों के विस्फोट की सदी' भी कहा जाने लगा है, जो वर्तमान परिप्रेक्ष्य में लिखे हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषाओं के उपन्यासों के कथ्य, वैचारिकता, जीवन दर्शन, विश्वदृष्टि एवं अभिव्यक्ति पक्ष को देखकर सही प्रतीत होता है । जो आज की युगीन मांग भी है । जो समस्याएँ हमें वर्तमान हिंदी उपन्यासों में दिखाई देती हैं लगभग वही समस्याएँ भारतीय उपन्यास साहित्य में भी दिखाई देती है । कुछ भाषाओं में प्रखर तो कुछ भाषाओं के साहित्य में सौम्य ।

संदर्भ :

१) संपा. शशि भारद्वाज - 'भारतीय उपन्यास अंतिम दशक' (१९९१-२०००), पृ. संपादकीय

२) अनभै- उपन्यास विशेषांक- सं. रतनकुमार पाण्डेय - अक्तूबर से मार्च २००८, पृ. ६३

३) वही, पृ. ६९

४) डॉ. जसपाली चौहाण - 'भारतीय साहित्य', उद्धृत 'भाषा साहित्य और संस्कृति', संपा. विमलेश कांतिवर्मा, मालती, पृ. ३८३

५) कमलेश्वर - 'कितने पाकिस्तान', पृ. २००

६) डॉ. वेदप्रकाश अमिताभ- हिंदी उपन्यास की दिशाएँ, पृ. १४३

७) रामसजन पाण्डेय - 'व्यवस्था के बघनख का खूनी मंजर', अनभै - उपन्यास अंक, पृ. २७८, संपा. रतनकुमार पाण्डेय

८) मैत्रेयी पुष्पा - 'अल्मा कबूतरी', पृ. मलपृष्ठ

९) डॉ. गोपाल राय - हिंदी उपन्यास, उद्धृत, भारतीय उपन्यास साहित्य अंतिम दशक, १९९१-२०००, पृ. २३६

COMMENTS

BLOGGER

विज्ञापन

----
--- विज्ञा. --

---***---

-- विज्ञापन -- ---

|ताज़ातरीन_$type=complex$count=8$com=0$page=1$va=0$au=0

|कथा-कहानी_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts$s=200

-- विज्ञापन --

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|लोककथाएँ_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

|लघुकथाएँ_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|आलेख_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

|काव्य जगत_$type=complex$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|संस्मरण_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

|बच्चों के लिए रचनाएँ_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|विविधा_$type=blogging$au=0$com=0$label=1$count=10$va=1$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3752,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,325,ईबुक,181,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,234,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2731,कहानी,2040,कहानी संग्रह,224,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,482,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,82,नामवर सिंह,1,निबंध,3,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,325,बाल कलम,22,बाल दिवस,3,बालकथा,47,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,211,लघुकथा,791,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,16,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,302,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1864,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,616,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,668,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,49,साहित्यिक गतिविधियाँ,179,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,51,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: ''वर्तमान परिप्रेक्ष्य में हिंदी तथा भारतीय भाषाओं के उपन्यासों का तुलनात्मक अध्ययन''
''वर्तमान परिप्रेक्ष्य में हिंदी तथा भारतीय भाषाओं के उपन्यासों का तुलनात्मक अध्ययन''
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/05/blog-post_58.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/05/blog-post_58.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ