रविवार, 29 मई 2016

व्यंग्य-राग (८) बयानों का बयावान / डा. सुरेन्द्र वर्मा

बयान देने के लिए सिर्फ ज़बान की आवश्यकता होती है. जो भी ज़बान पर आया दे मारा. बयान हो गया. चाहें तो इसे लिखकर दे दें या ज़बानी कह दें. ज़बानी कहने में ज्यादह सुविधा रहती है. ज़रुरत पड़े तो बयान पलटा जा सकता है. कहा जा सकता है कि मैंने यह कहा ही नहीं था. मेरे बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है. राजनीति में यह खेल धड़ल्ले से खेला जाता है.

वैसे बयान कई तरह के होते हैं. अदालती बयान तथ्यों का वह विवरण है जो वादी या प्रतिवादी द्वारा लिखकर या ज़बानी प्रस्तुत किया जाता है.यह बेशक तथ्यों का विवरण कहा तो जाता है लेकिन खुदा ही जानता है कि यह कितना तथ्यों का विवरण है और कितना झूठ का पुलंदा है. एक बयान तहरीरी होता है. यह वह लिखा हुआ बयान है जो अदालत में किसी बयान के जवाब में दाखिल किया जाता है. इसी तरह एक ताईदी बयान भी होता है जो दूसरे के बयान की पुष्टि करने वाला कथन है | अब यह अदालत का काम होता है कि बयान, बयान तहरीरी या बयान ताईदी की जांच पड़ताल करे |

अरबी और फारसी में बयान साहित्यशास्त्र की एक शाखा भी है | हिन्दी में साहित्य की ऐसी कोई शाखा नहीं है | यहाँ साहित्य में अधिकतर बयानबाज़ी होती भी नहीं | यहाँ बयानों के बड़े बड़े पुलंदे हैं जिन्हें “वाद’ कहते हैं.| छायावाद, प्रगतिवाद, रहस्यवाद, प्रयोगवाद इत्यादि वास्तव में बयानों के पुलंदे ही हैं |

राजनीतिक बयान अलग ही किस्म के होते हैं. इन्हें पुलंदों में बांधा नहीं जा सकता | ये फ्री- फ्लोटिंग हैं. जैसी लहर होती है वैसे ही, उसी दिशा में, बयान तैरते रहते हैं | और क्योंकि राजनीति में कई लहरें कई दिशाओं में साथ साथ लहराती रहती हैं इसलिए वहां बयानबाजी भी सुनिश्चित नहीं की जा सकती | अलग अलग राजनैतिक दलों के अलग अलग बयान होते हैं, एक ही राजनैतिक दल में कई एक-दूसरे को काटते-लांघते, बयान हो सकते हैं. यहाँ तक कि एक ही व्यक्ति का बयान एक सा नहीं रहता | सुविधानुसार वह उसे तोड़ता मरोड़ता रहता है | राजनीति की यही खूबसूरती है | यही उसके आकर्षण का केंद्र है | आप न तो किसी बयान को पकड़ सकते हैं न पकडे बैठे रह सकते है | राजनीति का एक बड़ा मूल्य स्वतंत्रता है, बयानों की स्वतंत्रता |

राजनीति में बयानों का कोई व्याकरण नहीं बनाया जा सकता | यहाँ संज्ञाएँ क्रियाओं में और क्रियाएं संज्ञाओं में तब्दील हो जाती है. बयान कभी भी हाथापाई पर उतर सकते हैं, ओर हाथापाई कभी भी बयान बन जाती है | लोकसभा और विधान सभाओं मे यह तबदीलियाँ आप आसानी से देख सकते हैं | कब बयान देते देते वहां के माननीय कुरसी, मेजों और माइक आदि, को बयानों का क्रिया रूप बना लें कुछ कहा नहीं जा सकता | और कब ये क्रियाएं शांत होकर संज्ञाएँ बनकर बयानों की शक्ल ले लें कुछ कहा नहीं जा सकता | बयानों की भाषा के सन्दर्भ में भी कोई नियम सुनिश्चित नहीं किया जा सकता. एक समय था जब बयानों के सन्दर्भ में संसदीय और असंसदीय भाषा में अंतर किया जाता था, आज जिस तरह राजनीतिशास्त्र और अर्थशास्त्र को परिभाषित करते समय कहा जाता है कि अर्थशास्त्र या राजनीतिशास्त्र वह है जो अर्थशास्त्री या राजनीतिशास्त्री करते हैं, उसी तरह अब यह भी कहा जाने लगा है कि जो भाषा सांसद या विधायक बोलते हैं वही संसदीय भाषा है. मुझे इसमें कोई तार्किक दोष नज़र नहीं आता.

जंगल में जिस तरह पेड़ बिना किसी पूर्व योजना के उग आते हैं और पूरा एक जंगल खडा कर देते हैं उसी तरह राजनैतिक बयान होते हैं. कौन सा बयान कब, कहाँ, कैसे, कौन उगा दे- किसी को कुछ पता नहीं है. सामान्य आदमी स्वयं को बयानों के बयावान में खडा पाता है.

- सुरेन्द्र वर्मा

१०, एच आई जी / १, सर्कुलर रोड इलाहाबाद -२११००१

मो. ९६२१२२२७७८

ब्लॉग(हाइकु)- surendraverma389.blogspot.in

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------