विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

वो लड़की / कहानी / जयश्री जाजू

image

मैं छत पर बैठी थी,सर्दियों की गुनगुनाती धूप में | अचानक मेरी नज़र उस अकेली बैठी लड़की पर गई ; आश्चर्य इसलिए हो रहा था क्योंकि कुछ लडकियाँ वहाँ पर हँसी मजाक में तल्लीन थी | यह लड़की अकेली गुमसुम निर्विकार किसी से कोई सरोकार नहीं ; चुपचाप बैठी थी | 

उस लड़की में मेरी जिज्ञासा बढ़ी | मैं छत से नीचे

उतर आई | चाय बनाकर चुस्कियाँ लेने लगी | दिमाग में उसी लड़की की छवि घूम रही थी | मैं उसे झटक देना चाहती थी  किन्तु वह मुझपर हावी होती जा रही थी | 

खैर समय सरक रहा था |  हमेशा की भांति, तैयार होकर बाजार में सामान खरीदने गई | घर का थोडा सामान लिया | दो घंटे कैसे गुजरे पता ही नहीं चला , इन दो घंटों में उस लड़की का याद न आना मुझे चकित कर गया | सच में इंसान कितनी जल्दी चीजों को भूल जाता है | मुझे याद आता है वो दिन जब पिताजी का देहांत हुआ और हम चीख-चीख कर रो रहे थे | ये क्या बिलकुल तीन चार दिन के बाद माहौल हलका फुल्का होने लगा | मैं सोचती हूँ यदि ईश्वर इंसान को विस्मृति न देता तो इंसान दुखों को कहाँ तक ढोता फिरता | 

ये क्या आज मैं उस लड़की को फिर से देख रही हूँ | ठीक वैसे ही अकेली | आज वह बाजार में कुछ खरीद रही थी या देख रही थी , पता नहीं | मैंने अपनी जरुरत का सामान लिया और रिक्शा को आवाज देने लगी | ये क्या वह भी बिलकुल  मेरे समीप आ गई और कहने लगी "क्या मैं भी आपके साथ आ सकती हूँ |"                                    

मैंने कहा "हाँ मुझे कोई आपत्ति नहीं , लेकिन क्या तुम मुझे जानती हो |"  

उसने कहा "हाँ , आप हमारे मोहल्ले में तो रहती है |" 

मैंने रिक्शा किया उसे बिठाया और रिक्शे वाले को पता बताकर मैं भी बैठ गई | मेरे मन में प्रश्न घूम रहा था और मैंने पूछ ही लिया - "मैंने तो तुम्हे छत से एक बार ही देखा था , लेकिन तुम मुझे कैसे जानती हो |" 

उसने कहा "मैं मेरे कमरे की खिड़की से आपको रोज देखती हूँ |"

मैंने पूछा " अच्छा वो  जो  लड़कियाँ खेलती रहती है तुम्हारी बहने हैं |" 

उसने संक्षिप्त उत्तर दिया "नहीं"

मैंने पूछा " तुम्हारी इच्छा नहीं होती उनके साथ खेलने की |"

उसने कहा "होती है लेकिन ..... "

वह चुप हो गई | आगे उसने कोई बात नहीं की | हमारा मोहल्ला आ गया | हम अपने - अपने घर चले गए | मैंने शाम का काम निबटाया |  खाना खाकर मई अपनी आदत के अनुसार पुस्तक पढ़ने बैठ गई | जब सोने का समय हुआ तो सोने चली गई | सुबह उठकर रोज का काम निबटाकर कॉलेज चली गई | अपने व्याख्यान देकर दो बजे तक घर आ गई | रोज की तरह भोजन कर आराम कर शाम को बाजार चली गई | सामान खरीदा , रिक्शा किया और रिक्शे के पास उस लड़की का मिलना और रिक्शे में बैठ जाना | आश्चर्य कर गया | खैर उस दिन मैंने उसका नाम नहीं पूछा था | आज सबसे पहले मैंने उसका नाम पूछा | 

उसने अपना ना" शीतल' बताया | आज मैंने उसमे कुछ बदलाव देखा मैं उससे बात करने की कोशिश कर रही थी, किन्तु वह अनजान बन रही थी | बस हर बात पर हाँ ,हूँ कर रही थी | आखिरकार मैंने उसकी पढ़ाई पर बात छेड़ दी | 

  "कौनसी कक्षा में पढ़ती हो "

मैंने देखा उसकी आँखों में पानी भर आया | उसने कोई जवाब नहीं दिया | आज मैंने उसे अपने घर चलने का आग्रह किया तो बिना झिझक उसने स्वीकार कर लिया | घर आकर वह बिना झिझक मेरे कामों में हाथ बटाने लगी | सच में अकेलेपन से ऊबी हुई मैं , मुझे यह साथ अच्छा लगा | हम दोनों ने चाय पी, चाय के साथ थोडा स्नेक्स खाया और गपशप करने लगे | 

वह मेरे घर के सामने मि. मेहता के घर में रहती है | वह एक गाँव की लड़की है और मेहता के घर में में आ गई | मेहता के दूर के रिश्तेदार की यह लड़की मेहता के फैशन परस्त संयुक्त परिवार से मेल नहीं खा प् रही थी | जब भी मैंने उसे देखा अकेले देखा | मेहता के घर में उसकी उम्र के बहुत से बच्चे थे किन्तु इस लड़की के जोड़ का कोई न था या वे बच्चे इसे अपने जोड़ का न समझ पाते थे | 

शीतल के बारे में मैं इतना तो जन चुकी थी कि मेहता के घर वह सिर्फ काम करने के लिए ही थी,बाकी उस परिवार को शीतल से कोई सरोकार न था | अब अक्सर वह मेरे पास आ जाती अपने खाली समय में | जब मेहता के घर में सारे लोग दोपहर को आराम कर रहे होते | मैंने उसे धीरे -धीरे पढ़ाना शुरू किया | वह मुझसे बहुत खुल चुकी थी | उसने अपनी आप बीती सुनाई |

वह भी अपने गाँव में अपने माता-पिता के साथ खुश थी | भले ही बहुत पैसा न था किन्तु खुश थे | अचानक गाँव में आई बाढ़ ने उसके जीवन को तबाह कर दिया | उस बाढ़ में शीतल के माता-पिता का बह जाना और न मिलना शीतल के लिए बड़े कष्टकारी पल थे | बचे हुए गाँव वालों ने इस लड़की को मेहता के घर पहुंचा दिया | मेहता ने भी सहर्ष उसे रख लिया | इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं ली ,बस घर का काम कर देगी बदले में दो समय का खाना | वैसे भी परिवार बड़ा है,एक आदमी का खाना बचना कोई बड़ी बात नहीं है | 

मुझे मेहता जैसे सुलझे इंसान पर गुस्सा आ रहा था | उसने इस छोटी लड़की को सिर्फ अपने घर के काम के लिए रखा है | लेकिन किसी के परिवार में दखल मेरी आदत नहीं थी | इसके बावजूद मैं शीतल के लिए कुछ करना चाहती थी | वह तो अपने नाम के अनुरूप सभी पर शीतल छाया बरसा रही थी,लेकिन उसे क्या मिल रहा था | बचपन में ही प्रौढ़ता | मई अपने अंतर्द्वंद से लड़ रही थी | मुझे निर्णय करना था | 

आज मैंने फैसला ले लिया | मैं मेहता के घर पहुंची | मैंने मेहता से शीतल को गोद लेने के बारे में बात की | हाँ मैंने अपना अकेलापन शीतल के साथ बांटने का फैसला कर लिया | मेहता ने पहले तो न नुकर की किन्तु मेरे दबाव डालने से और मीडिया में मेरी पहचान होने से अंततः मान ही गए | आज मैं और शीतल | मैंने अपनी ही स्कूल में उसका दाखिला करा दिया | मैं भी उसके साथ अपने बचपन को दोबारा जी रही हूँ |

जब भी  उसे देखती हूँ तो मेरे मन में ये विचार उमड़ता है :--

गुमसुम चुपचुप थी वो लड़की,

चहल नहीं पहल नहीं

खामोश सी वो लड़की |

साज नहीं शृंगार नहीं ,

सादगी की मूरत वो लड़की |

छल नहीं कपट नहीं,

निष्कपट सी वो लड़की |

प्यार मुहब्बत और अपनी सी,

लगाती वो लड़की |

 

समाप्त

 

जयश्री जाजू |

धन्यवाद

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget