विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

इस युग की कथा / कविताएँ / सुशांत सुप्रिय

        

1. इस युग की कथा
                            ---------------------
                                                         --- सुशांत सुप्रिय
इस युग की कथा
जब कभी लिखी जाएगी
तो यही कहा जाएगा कि
                       
                          फूल ढूँढ़ रहे थे ख़ुशबू
                          शहद मिठास ढूँढ़ रही थी
                          गुंडों ने पहन रखे थे सफ़ेद लिबास
                          नदी प्यासी रह गई थी

                          पलस्तर-उखड़ी बदरंग दीवारें
                          ढूँढ़ रही थीं ख़ुशनुमा रंगों को
                          वृद्धाएँ शिद्दत से ढूँढ़ रही थीं
                          अपनी देह के किसी कोने में
                          शायद कहीं बच गए
                          युवा अंगों को

                          जिसके पास सब कुछ था
                          वह भी ' और ' के लालच में
                          खोया हुआ था
                          सूर्योदय कब का हो चुका था
                          किंतु सारा देश सोया हुआ था

                  ----------०----------

                          2. मौत
                        ----------
                                      --- सुशांत सुप्रिय
वह नहीं मरा
एबोला वायरस
एड्स
बर्ड-फ़्लू या
स्वाइन-फ़्लू से

वह मेरा
सबसे अच्छा
मित्र था
खुद से ज़्यादा
मुझे उस पर
भरोसा था

लेकिन एक दिन
मेरी निगाह से
वह ऐसा गिरा
जैसे गिरता है कोई
दुनिया की
सबसे ऊँची इमारत से

चील के झपट्टे-सी
अचानक आई
उसकी मौत
मेरे लिए

                ----------०----------

                        3. पशु कौन
                       -------------
                                         --- सुशांत सुप्रिय
कल मैं
बेटे को ले कर
चिड़ियाघर गया

वहाँ तरह-तरह के
पशु-पक्षी
पिंजरों में क़ैद थे

बेटा पूछने लगा --
पापा , ये जानवर
दुखी और उदास
क्यों लग रहे हैं

मैंने ध्यान से
पास के पिंजरे में बंद
एक पशु की ओर देखा
मुझे लगा
पशु के भीतर से
कोई देख रहा है मुझे
जैसे कह रहा हो --
पशु मैं हूँ या तुम

                ----------०----------

                         4. ग़लत युग में
                       -----------------
                                               --- सुशांत सुप्रिय
यदि तुम
सूरज को गाली दे कर
धूप से दोस्ती नहीं कर सकते

यदि तुम
चाँद को दाग़दार कह कर
चाँदनी से इश्क़ नहीं कर सकते

यदि तुम
फूल को नकार कर
ख़ुशबू को नहीं अपना सकते

तो तुम
ग़लत युग में पैदा हुए हो

                ----------०----------

                       5. छटपटाहट भरे कुछ नोट्स
                      ---------------------------
                                                            --- सुशांत सुप्रिय
                                    ( एक )

आज चारों ओर की बेचैनी से बेपरवाह
जो लम्बी ताने सो रहे हैं
वे सुखी हैं
जो छटपटा कर जाग रहे हैं
वे दुखी हैं
  
                                   ( दो )

आज हमारी बनाई इमारतें
कितनी ऊँची हो गई हैं
लेकिन हमारा अपना क़द
कितना घट गया है

                                 ( तीन )

आज विश्व एक
ग्लोबीय गाँव बन गया है
हमने स्पेस-शटल
बुलेट और गतिमान रेलगाड़ियाँ
बना ली हैं
एक जगह से दूसरी जगह की दूरी
कितनी कम हो गई है
लेकिन आदमी और आदमी के
बीच की दूरी
कितनी बढ़ गई है

                            ( चार )

आज दीयों के उजाले
कितने धुँधले हो गए हैं
आज क़तार में खड़ा
आख़िरी आदमी
कितना अकेला है

                          ( पाँच )

आज लम्बी-चौड़ी गाड़ियों में
घूम रहे हैं छोटे लोग
बड़े-बड़े बंगलों में
रह रहे हैं लघु-मानव
बौने लोग डालने लगे हैं
लम्बी परछाइयाँ

               ----------०----------

                       6. सबसे अच्छा आदमी
                     -----------------------
                                                     --- सुशांत सुप्रिय
सबसे अच्छा है
वह आदमी
जो अभी पैदा ही नहीं हुआ

उसने हमें कभी नहीं छला
प्रपंचों पर वह कभी नहीं पला
हमें पीछे खींच कर
वह आगे नहीं चला

बची हुई है अभी
वे सारी जगहें
जिन्हें घेरता
उसका अस्तित्व
अपनी परछाईं से
बची हुई है अभी
उन सारी जगहों की
आदिम सुंदरता
उसके हिस्से की रोशनी में
नहाती हुई

बची हुई है
अब भी निर्मल
उसके हिस्से की
धूप पानी हवा
आकाश मिट्टी
बचा हुआ है अभी फ़िज़ा में
उसके हिस्से का ऑक्सीजन
राहत की बात है कि
इसी बहाने थोड़ी कम है अभी
वायु-मंडल में
कार्बन-डायॉक्साइड की मात्रा

नहीं बनी है एक और सरल रेखा
वक्र-रेखा अभी
बची हुई हैं बेहतरी की
कुछ सम्भावनाएँ अभी

कि उपस्थित के बोझ से
कराह रही धरती को
अनुपस्थित अच्छे आदमी से
मिली है
थोड़ी-सी राहत ही सही

                 ------------०------------

प्रेषकः सुशांत सुप्रिय
         A-5001 ,
         गौड़ ग्रीन सिटी ,
         वैभव खंड ,
         इंदिरापुरम ,
         ग़ाज़ियाबाद - 201014
         ( उ. प्र. )
मो: 8512070086
ई-मेल: sushant1968@gmail.com

                 ------------0------------

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget