विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

दोहे / अनन्त आलोक

झिलमिल काली ओढ़नी, मुखड़े पर है धूप |
जग सारा मोहित हुआ , तेरा रूप अनूप ||
***
कश्मीरी हो सेब ज्यों , हुआ तुम्हारा रूप |
छुअन प्रेमिका सी लगे, ये जाड़े की धूप ||
**
रामदुलारी रो रही, चूल्हे पर धर नीर |
बच्चों से कब तक कहे, बेटा धरियो धीर||
**
मोटे चावल में मिला , दिया जरा सा नीर |
माँ के हाथों से बनी, बिना दूध की खीर ||
**
वासंती रुत आ गई , ले फूलों का हार |
नव यौवन नव यौवना , कर लो आँखें चार ||

**

अम्मा को लिख भेज दो , थोड़ी दुआ सलाम |

उसके तन मन को लगे , ज्यों केसर बादाम ||

**

बूढ़ी अम्मा रो रही , शहर हो गया गाँव |

ना बरगद का पेड़ है , ना पीपल के छाँव ||

**

मामा तेरे खेत में , उगते लाखों लाल |

झिलमिल झीलमिल खेत है, तू भी मालामाल ||

**

तन गंगा में धो लिया , धुला न मन का पाप |

मन मंदिर को धो सखा , हो तन निर्मल आप ||

**

ईश्वर तेरे नाम से , लगा रहे हैं भोग |

पेट बढ़ाये जा रहे , खाते पीते लोग |१०|

अनन्त आलोक

साहित्यालोक , बायरी डॉ ददाहू

जिला सिरमौर हिमाचल प्रदेश

173022 Email: anantalok1@gmail.com

मोब :9418740772

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

दोहे प्रकाशित करने के लिए ह्रदय से आभार आदरणीय रवि जी , आपका स्नेह सर आँखों पर , स्नेह आशीष बनाये रहिएगा

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget