बाल कविताएँ / सागर यादव 'जख्मी

image

1.  (चोरी करना पाप है )

चूहे चाचा उठा रखे थे

सिर पे सारा मुहल्ला

जाने कौन चुरा ले गया था

उनका प्यारा बल्ला

बिना बल्ले के वे कैसे

क्रिकेट खेलने जाते

अपनी टीम को प्रतिद्वन्दी से

बोलो कैसे जिताते ?

कोतवाल बंदर ने छानबीन कर

केस तुरत सुलझाई

चोरी के बल्ले के संग

बिल्ली पकड़ी आई

नंदनवन के सभी जानवर

बिल्ली को फटकार लगाए

चोरी करना पाप है बच्चोँ

तुमको हम समझाएँ


2.(चुहिया रानी )

चुहिया रानी पहने के लहंगा

पहुँच गई स्कूल

जल्दी -जल्दी मेँ वह पेँसिल

घर पे आई भूल

टीचर भालूजी ने अंग्रेजी के

कुछ शब्द लिखने को बोला

यह सुनकर चुहिया जी को

झट से आ गया रोना

चुहिया जी का रोना सुनकर

भालूजी   गुस्साए

क्योँ रोती हो ? मुझे बताओ

मोटी छड़ी दिखाए

चुहिया रानी ने रो - रोकर

सारा हाल सुनाया

फिर न होगी गलती ऐसी

भालू को ये विश्वास दिलाया

चुहिया जी की बातेँ सुनकर

भालूजी   मुस्काए

अच्छे बच्चे कभी न रोते

चुहिया को समझाए

स्कूल जाने से पहले वह अब

बैग अपना चेक करती है

फिर शाला मेँ जाकर

खूब मजे से पढ़ती है


3.(धूर्त गीदड़)

नंदनवन मेँ रहता था

गीदड़ एक सयाना

चोर -उचक्कोँ से था उसका

रिश्ता बहुत पुराना

माथे पर राख लगाकर वह

गेरुआ वस्त्र पहनकर चलता था

भोले -भाले जानवरोँ को

साधु बनके छलता था

उतर गया चेहरे पर से मुखौटा

खुल गया सारा भेद

बंदर को अगवा करने के जुर्म मेँ

उसको हो गई जेल .


4. (जंगल मेँ कवि सम्मेलन )

जंगल मेँ एकबार शेर ने

कविसम्मेलन करवाया

बड़े -प्रतिष्ठित कवियोँ को

काव्यपाठ हेतु बुलवाया

बारी -बारी से सबने

कविता खूब सुनाई

बिल्ली मौसी ने भी

ताली खूब बजाई


[रचनाकार - सागर यादव 'जख्मी ' नरायनपुर ,बदलापुर ,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश -222125) 

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.