गुरुवार, 30 जून 2016

बाल कविताएँ / सागर यादव 'जख्मी

image

1.  (चोरी करना पाप है )

चूहे चाचा उठा रखे थे

सिर पे सारा मुहल्ला

जाने कौन चुरा ले गया था

उनका प्यारा बल्ला

बिना बल्ले के वे कैसे

क्रिकेट खेलने जाते

अपनी टीम को प्रतिद्वन्दी से

बोलो कैसे जिताते ?

कोतवाल बंदर ने छानबीन कर

केस तुरत सुलझाई

चोरी के बल्ले के संग

बिल्ली पकड़ी आई

नंदनवन के सभी जानवर

बिल्ली को फटकार लगाए

चोरी करना पाप है बच्चोँ

तुमको हम समझाएँ


2.(चुहिया रानी )

चुहिया रानी पहने के लहंगा

पहुँच गई स्कूल

जल्दी -जल्दी मेँ वह पेँसिल

घर पे आई भूल

टीचर भालूजी ने अंग्रेजी के

कुछ शब्द लिखने को बोला

यह सुनकर चुहिया जी को

झट से आ गया रोना

चुहिया जी का रोना सुनकर

भालूजी   गुस्साए

क्योँ रोती हो ? मुझे बताओ

मोटी छड़ी दिखाए

चुहिया रानी ने रो - रोकर

सारा हाल सुनाया

फिर न होगी गलती ऐसी

भालू को ये विश्वास दिलाया

चुहिया जी की बातेँ सुनकर

भालूजी   मुस्काए

अच्छे बच्चे कभी न रोते

चुहिया को समझाए

स्कूल जाने से पहले वह अब

बैग अपना चेक करती है

फिर शाला मेँ जाकर

खूब मजे से पढ़ती है


3.(धूर्त गीदड़)

नंदनवन मेँ रहता था

गीदड़ एक सयाना

चोर -उचक्कोँ से था उसका

रिश्ता बहुत पुराना

माथे पर राख लगाकर वह

गेरुआ वस्त्र पहनकर चलता था

भोले -भाले जानवरोँ को

साधु बनके छलता था

उतर गया चेहरे पर से मुखौटा

खुल गया सारा भेद

बंदर को अगवा करने के जुर्म मेँ

उसको हो गई जेल .


4. (जंगल मेँ कवि सम्मेलन )

जंगल मेँ एकबार शेर ने

कविसम्मेलन करवाया

बड़े -प्रतिष्ठित कवियोँ को

काव्यपाठ हेतु बुलवाया

बारी -बारी से सबने

कविता खूब सुनाई

बिल्ली मौसी ने भी

ताली खूब बजाई


[रचनाकार - सागर यादव 'जख्मी ' नरायनपुर ,बदलापुर ,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश -222125) 

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------