बुधवार, 22 जून 2016

बरसाने लाल चतुर्वेदी की हास्य-व्यंग्य कविताएँ

image

पदावली

अंग्रेजी- प्रेम

जसोदा हरि अंग्रेजी पढ़ावै ।

'मम्मी-डैडी' कहहु दुलारे, सुनि मोहि आनँद आवै ।
मेरो लाल 'कान्वेन्ट' जात है, 'इंगलिश पोइम' गावै ।
टा-टा' कहि जब विदा होत है, रोम-रोम हरषावै ।
आन्टी' सुनि चाची बलि जावै, 'अंकिल' मूँछ फरकावै ।
डान्स' करत 'कजिन सिस्टर' संग, नन्दबबा मुस्कावै ।
'बरसाने' या छवि कौ निरखत अँगरेजहु शरमावै । ।

 

दलबदलूजी

सखि मेरो बालम पलटत रंग ।

श्वेत वसन अब पीरे ह्वै गये, मैं तो रहि गई दंग ।
छाँडिकें पहिले साथी डोलत, नये यारन के संग ।
जिन लोगन ते मीठे बोलत, ठानत है अब जंग ।
नये साथिन को चाय पिलावत, आ गई मैं तो तंग ।
जिन मुख देखत दुख उपजत है, विनै लगावत अंग ।
नित्य नवीन कला खेलत हैं, नाचन लागे नंग ।
गिरगिट अब शरमावत डोलत, कुआं परी है भंग ।।

 

मंत्री

नहिं ऐसो 'चांस' बारम्बार ।

तैने प्यारे ले लियो अब मंत्री को अवतार ।।
कर विदेश-गमन जल्दी, मत लगावे बार ।
पुत्र, साले औ भतीजे, सबकौ कर उद्धार ।।
भूमि कोऊ हस्तगत कर, नई लै लै कार ।
प्रेम 'परमिट' सरस' कोटा', द्रव्य कर दे पार ।।
पद रहे, चाहे -दल बदल -दे, याही में है सार ।
कुर्सी अपनी पै -चिपक जा, फिकर मत कर यार ।।

 

विनय

प्रभु मेरे अवगुन चित न धरो ।

मैं चुनाव में फेरि खरौ भयौ, अबकी पार करो ।
कितिक बार मोहि हारत ह्वै गई, अब तो दया करो ।
वोटर के घर जाय जाय के, इक पग रह्यौ खरो ।
इक नर हैं इक नारि कहावत, जानत जग सबरो ।
वोट देन को एक बरन भये, वोटर नाम परयो ।
वोटर सबरे पारस जैसे, कंचन मोहि करो ।
अबकी बार मोहि पार उतारो, मूँड़ि पै हाथ धरो ।।

 

मंत्री-चरन

मन रे परस मन्त्री-चरन । -

जिन कृपा सों मिले परमिट, गरीबी कौ हरन ।
जे चरन हैं चतुर परसे, कमेटी में धरन ।
जे चरन बेकार परसे, नौकरी सों भरन ।
जे चरन कलाकार परसे, पदन लीला करन ।
मन रे परस मन्त्री-चरन ।।

 

जनम गँवायौ -

रे मन मूरख, जनम गँवायौ ।

जेल रहौ तू व्यर्थ अरे, यदि मंत्री-पद नहिं पायौ ।।
कहा भयो एम०ए० जो कीन्हों, 'सरविस' यदि नहिं पायौ ।
कहा भयो 'पुस्तक लिखबे ते, पुरस्कार जो न लायौ ।।
'सरविस' कहा 'बॉस' को यदि नहिं, नाक चना बिनवायौ ।
व्यर्थ कियौ व्यापार अगर जमकर ना ब्लैक कमायौ ।।
कहा भयौ सेवा करिबे ते, फोटो जो न छपायौ ।
ब्याह व्यर्थ यदि निज 'मैडम' को क्लब में नाहिं नचायौ । ।
हिन्दी सेवा व्यर्थ अरे यदि, अभिनन्दन न करायौ ।
यह संसार खेल तिकड़म कौ बावरे कहाँ भुलायौ ।।

 

 

फिल्म देखन की प्यासी

 

अंखिया फिल्म देखन की प्यासी ।

कैसे रहें चित्रपट बिन ये ' फीवर' होय या खांसी ।
अपने नगर के सबै देखके जाहु चहत है झांसी । ।
विज्ञापन अखबार देखिके निसदिन रहत उदासी ।
आए बाजे फिर गये गलियन डार गये गल-फांसी । ।
फिल्म-पत्रिका निसदिन बांच्यो, मूर्ख करत हैं हांसी ।
'बरसाने' फिल्मन की गति लखि, करवट लहिहौं कासी । ।

 

मंत्री गति

मन्त्री-गति कछु कहत न आवै ।

मीठी-मीठी बातन तें ये, जनता कूँ बहकावै । ।
गिरगिट सम दल एक छोडिके दूजै में मिलि जावै ।
हरेक विषय पै भाषण देके खूब हंसी उपजावै । ।
हाथ जोड़ि बत्तीसी काढ़ि कें बातें खूब बनावै ।
आश्वासन दिल भरि कें बांटत, शीघ्रहि उन्हें भुलावें ।
सब्जबाग दिन-रात दिखावत, रेत में नाव चलावै ।
भर दे दिल कूँ बाँकी नजरिया नेक शरीर न बुवाई । ।
तुम जब रोओ उत्तर कों वो दक्खिन के गाने गावै ।
कहत कछू औ करत क-छू याकौ भेद समेझ नहिं आवै । ।

 

'ब्लैक की कमाई

मैया, मैं नहिं 'ब्लैक' कमायौ ।

पुलिसमैन मेरे बैर परे है, झूठयौ ही नाम लगायौ ।
सावन में मैं तीर्थ गयौ हौं, कातिक में घर आयौ । ।
इन्हें कहा मालूम अरे मोहि धरती में धन पायौ । ।
याही ते ये कोठी लीनी औ' ये भवन बनायौ । ।
भैया की फिरि दीनि जमानत और वाहि छुड़वाया ।
आगे कूँ समझाय तात कूँ पुनि वाने कण्ठ लगायौ । ।

 

नयी कविता

ऊधो, कविता नयी सुनाओ ।

सूरदास रसखान पुराने, ' 'लारे लप्पा'' गाओ ।
कमल समान सुनी बहु अंखियां, बिल्ली सम बतलाओ ।
दाड़िम अधर भये अब बौड़म, ' 'लिपस्टिक'' लगवाओ ।
मुरली अब तो 'बोर' करत है, ''मैडोलीन'' सुनवाओ ।
शुक सम नाक सुनी बहुतेरी, उल्लू-सी बतलाओ ।
रास भयो अब दकियानूसी, तुम 'बालडांस' करवाओ ।
घन सम केश लगत नहिं नीके, रीछन सम कटवाओ ।
रेशमी-सारी ''बैकवर्ड'' भई,' 'मिनीस्कर्टं' सिलवाओ । ।

--

कविता संग्रह आधुनिक सुदामा से साभार

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------