विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

दलित कहानी / केंचुए / आलोक कुमार सातपुते

image

हमारा पुराना मोहल्ला तालाबों से घिरा हुआ था। हांडी तरिया, आमा तरिया घोरई तरिया,धोबी तरिया आदि बहुत से तालाब हमारे घर के आस-पास थे। इन तालाबों में हांडी तरिया सबसे बड़ा था। इसमें मछली पकड़ने का ठेका होता था, सो यहाँ मछली पकड़ने की सख़्त मनाही थी। हम किराने की दुकान से दस पैसे में मछली पकड़ने वाली गरी (काँटा) लेकर आते और उसे पतंग उडा़ने वाले माँझे से बाँधकर और कांटे में चारा फंसाकर दूसरे तालाबों या डबरियों में जाकर मछलियां पकडा़ करते थे। हम पाँच दोस्तों की टोली थी। मेरे शेष चार दोस्त नम जगहों पर बडे़-बडे़ पत्थरों को उठाकर देखते। इन पत्थर के नीचे बिना रीढ़ वाले केंचुए बिलबिलाते रहते। कई एकदम मोटे, कई मध्यम तो कई एकदम पतले होते थे। उनकी बिलबिलाहट मुझमें घिन पैदा कर देती थी, और मुझे उबकाई सी आने लगती थी। मेरे दोस्तों को कोई फर्क नहीं पड़ता था। वे बडे़ आराम से मोटे-मोटे केंचुओं को उठाते और बडे़ ही ध्यान से उन्हें अपने-अपने काँटों में गूंथ देते। मैं ऐसा कर पाने की कल्पना भी नहीं कर पाता था। मैं घर से आटे की लेई लेकर आता और उसे अपने काँटे पर जैसे-तैसे लगाता। हम सभी गरी डालकर आराम से बैठ जाते। उनके काँटे में धडा़धड़ मछलियाँ फँसती जाती, जबकि मेरे काँटे में लगा आटे वाला चारा धीरे-धीरे काँटे से छूट जाता और मेरा काँटा खाली हो जाता। कभी बाईचाँस एकाध मछली पकड़ में आती भी तो मैं उसकी छटपटाहट देखकर घबरा जाता। मैं उसे काँटे से निकाल ही नहीं पाता। काँटे से बाहर निकालने में मेरे दोस्त मेरी मदद करते। काँटे से निकलकर मछलियाँ बुरी तरह छटपटातीं तो मैं उन्हें वापस पानी में छोड़ देता। मेरे दोस्त मेरा खूब मजाक बनाते और मुझे फट्टू-फट्टू कहकर चिढा़ते। दरअसल हम दलित वर्ग के लोग भी नम पत्थरों के नीचे पाये जाने वाले रीढ़-विहीन केंचुए की तरह ही हो जाते हैं, जो अपनी-अपनी जातियों और उपजातियों में फँसे हुए बिलबिलाते रहते हैं और दूसरे लोग बडे़ आराम से हमें चारे की तरह अपने कांटे में गूंथकर इस्तेमाल करते हैं।   

    मेरी कॉलोनी शहर के आउटर में स्थित है। मैंने अपना वो मोहल्ला छोड़ दिया है। एक छुट्टी वाले दिन मैं अपने घर पर बैठा टी.वी.देख रहा था। पत्नी मायके गई हुई थी। अचानक मुझे अपने घर के लोहे के गेट पर हल्की सी खटखटाहट सुनाई पडी़। मैंने बाहर निकलकर देखा तो पाया कि गेट पर मैले -कुचैले कपडे़ पहनी हुई एक कुपोषित सी दिखने वाली महिला अपने कुपोषित से बच्चे के साथ खडी़ हुई है। मुझे लगा वह भीख मांगने के लिए खडी़ हुई है, तो भी मैंने उससे पूछ ही लिया-क्या चाहिये ? इस पर उसने कहा कि उसे काम चाहिए। मंने उससे फिर पूछा- कहाँ से आई हो? तो उसने बताया कि वह उडी़सा के कालाहांडी ज़िले की रहने वाली है। कालाहांडी जिले का नाम सुनते ही मेरे सामने भीषण अकाल की तस्वीर आ गई। क्योंकि उडी़सा के कालाहांडी जिले में अकाल से संम्बधित हमने इतनी सारी बातें सुन रखी थी कि वह एक तरह से अकाल का पर्याय ही बन गया था। अचानक मुझे उससे सहानुभूति सी होने लगी और मैंने उसे अन्दर बुला लिया। मेरे द्वारा सोफे पर बैठने को कहने पर वह संकोच करने लगी। मेरे ज़ोर देने पर वह सकुचाती हुई सी सोफ़े पर बैठ गई। मैंने देखा वह एकदम सूखी सी थी। उसके दांत बडे़-बडे़ से थे। मैले-कुचैले कपडां़ में वह बेहद ही बदसूरत लग रही थी। उसकी बच्ची भी पिनपिनी सी थी। हमें वैसे भी घर के काम के लिए एक बाई की जरूरत थी। हमारी अच्छी आर्थिक स्थिति के बावजूद और ज़्यादह पैसे देने पर भी लोकल बाइयाँ हमारी छोटी जात के कारण हमारे घर काम नहीं करना चाहती थीं। मेरी पत्नी खीझती-झींकती सी घर का काम किया करती थी। सामने बैठी महिला हमारे घर का काम कर सकती थी। मैंने उससे उसका नाम पूछा और उसने अपने सरनेम के साथ पूरा नाम बताया। उसका सरनेम सुनकर मेरी बांछें खिल उठीं। दलित आंदोलनों से जुडे़ मेरे कुछ मित्र उडी़सा के थे। सो मैं उडीसा के दलित सरनेमों के बारे में जानता था। उस महिला का दलित सरनेम जानकर मुझे बडा़ अच्छा लगा, और मुझे उसके साथ अचानक एक अपनापन सा महसूस होने लगा। मैंने उससे पूछा कि अभी तुम कहां रहती हो? तो उसने बताया कि यहीं नजदीक की एक स्लम बस्ती में किसी दूर के रिश्तेदार के यहां हम लोग ठहरे हुए हैं। मैंने उससे कहा कि मेरी पत्नी का मायका नज़दीक ही है। वह शाम को वापस आ जायेगी। तुम कल आना। हाँ बोलकर वह चली गई । शाम को पत्नी के आने पर मैंने उसे उस बाई के बारे में बताया। पत्नी ने आशंकित होकर कहा कि किसी को भी कैसे काम पर रख लें। वह तो हमारे प्रदेश की भी नहीं है। कल को कुछ उल्टा-सीधा करके भाग गई तो हम उसे कहाँ-कहाँ ढूंढते फिरेंगे। मैंने उससे कहा कि मैं अपने उडी़सा के मित्रों से कहकर उसके पते का सत्यापन करा लूंगा। फिर हमें बाई की जरूरत भी तो है। तुम दिन भर खटती रहती हो, मुझसे देखा नहीं जाता कहकर मैंने अपनी पत्नी को भावनात्मक रूप से छेड़ा। मेरा दलित मन कह रहा था कि मुझे हर हाल में उस बाई की मद्द करना ही है। फिर मैंने अपनी पत्नी को दलित आंदोलन की दुहाई देते हुए कहा कि हमें अपने दलित समाज के लिए कुछ न कुछ करना ही चाहिए। अगर वह बाई ठीक-ठाक रही तो हम उसकी बच्ची का स्कूल में एडमिशन भी करा देंगे। इस पर पत्नी ने कहा-कल जब वह आयेगी तो देखेंगे कि उसे रखना है, या नहीं। अगले दिन वह आई। मेरी पत्नी ने उससे दो चार-बातें की। पत्नी के यह पूछने पर कि वह महीने के कितने रूपये लेगी? वह एकदम निरीह सी होकर बोली- आप जितना दे दो, मुझे तो काम की बहुत जरूरत है। हमने उसे लोकल बाइयों को दिये जाने वाले रेट से कुछ ज़्यादह ही देना तय किया और वह बेहद प्रसन्न होकर चली गई। हम उसकी बच्ची को रोज ही खाने -पीने की बहुत सी चीजें दे दिया करते थे। हमने उसे सिर्फ़ झाड़ू-पोछा और बर्तन के लिए रखी थी, और उसका ये सारा काम डेढ़ घण्टे में निपट जाता था, तो भी हम उसकी परिस्थिति को देखते हुए उसे सुबह का खाना खिला देते थे। हमने कभी भी उसे बासी खाना नहीं खिलाया। हमेशा ताज़ा और गर्म खाना ही खिलाया। 

अब उस बाई के चेहरे पर रौनक सी रहने लगी और वह गुनगुनाती हुई सी अपना काम करती। हम पति-पत्नी को एक दलित महिला के लिए कुछ करने का आत्मसंतोष था। कुछ दिनों बाद उसने  बताया कि जिस रिश्तेदार के घर पर वे लोग रूके हुए हैं, वह अब उन्हें अलग रहने के लिए कह रहा है। चूँकि हमारी कॉलोनी आउटर पर बसी हुई थी और शहर के नज़दीक होने के बावजूद हमारी कॉलोनी के चारों तरफ खेत थे। इन खेतों का मालिक मेरा मित्र था। खेतों के बीच में उसका एक पंपहाउस था, जहां से नलकूप द्वारा वह खेतों की सिंचाई किया करता था। उसका पंपहाउस काफी बडा़ था। उसमें दो कमरे थे। मेरे कहने पर उसने मेरी बाई के परिवार को यूँ ही बिना किसी किराये के अपना पंप हाऊस रहने को दे दिया। उन कमरों में दो खाटें पहले से थीं। वहाँ गृहस्थी का भी कुछ सामान पहले से था। मतलब मेरी बाई को सिर्फ़ वहां जाकर रहना ही था। अब बाई का परिवार आराम से रहने लगा। एक दिन मेरी बाई ने मुझसे कहा भैया मेरा आदमी सायकल -रिक्शा चलाना चाहता है, लेकिन जान-पहचान नहीं होने के कारण उसे कोई भी स्टोर्स वाला रिक्शा नहीं देता है। उसके ऐसा कहने पर मैंने अपनी गारण्टी पर उसके आदमी को रिक्शा दिला दिया। अब पति-पत्नी दोनों ही कमाने-खाने लगे थे। अब मुझे लगने लगा कि वे लोग अच्छे से सेट हो चुके हैं। 

कुछ दिनों बाद बरसात शुरू हो गई। एक दिन बाई मुझसे कहने लगी-भैय्या वो घर तो खेतों के बीच में है। वहां हमेशा ही साँप-बिच्छू का ख़तरा बना रहता है। मेरी छोटी बच्ची है। हमें तो हमेशा ही डर बना रहता है। भैय्या कहीं दूसरी जगह रहने की व्यवस्था करा दीजिए ना।

मैंने अपने घर की छत पर एक कमरा बना रखा था, जिसे हम स्टोर के रूप में उपयोग करते थे। उस कमरे में अटैच्ड लेट-बाथ भी था। मैंने वह कमरा उन्हें देने के लिये अपनी पत्नी से बात की। थोडी़ ना-नुकुर के बाद उसने भी हामी भर दी और फिर वे लोग हमारे घर पर ही उपर वाले कमरे में रहने लगे। अब तक साल भर हो चुके थे। एक दिन बाई ने मुझसे कहा कि उसकी भैया मैंने सुना है कि गरीब लोगों को सरकार  मकान देती है। मेरे हाँ कहने पर उसने कहा भैय्या हमें भी कहीं एक मकान दिलवा दीजिए ना। अब तक मुझे लगने लगा था कि उसकी माँगें दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही हैं, पर मेरे दलित मन से हमेशा आवाज़ आती कि इन गरीब दलितों की मदद हम नहीं करेंगे तो कौन करेगा। हालांकि उसे मकान दिलाना आसान नहीं था। कई तरह से पापड़ बेलने पड़ते। बहुत ज़्यादह भागदौड़ करनी पड़ती। साम-दाम-दण्ड-भेद सभी का समान रूप से प्रयोग करना पड़ता, सो मैंने उस वक़्त तो देखता हूँ । कहकर बात टाल दी। इस दौरान काम करते-करते वह कई बार हमसे कहती-भैया लोगों के पास तीन-तीन, चार-चार घर होते हैं, हमारे पास एक भी नहीं है। ऐसा कहते हुए बेघर होने की कसक उसके चेहरे से स्पष्ट झलकती थी। मुझे लगता कि घर तो एक बुनियादी जरूरत है। इसे घर दिलाना ही होगा। मैंने खूब भागदौड़ की। तमाम तरह के उपाय अपनाये और भारी उठा-पटक करके आख़िरकार गरीबों को मकान दिलाने वाली योजना में उसे मकान दिलवा ही दिया। बहुत ही मामूली किस्तों में वह मकान उन्हें मिल गया था। वे लोग खुशी-खुशी अपने घर पर रहने चले गये। उनका घर हमारे घर से बहुत ज़्यादह दूर नहीं था। वह हमारे घर काम पर आती रही। वह बेहद खुश लगती थी। उसको खुश देखकर हमें भी खुशी होती थी। 

         एक दिन वह किसी अंग्रेज़ी माध्यम के स्कूल का दो सौ रूपये का फार्म लेकर आई और मुझसे कहने लगी भैय्या मैं और मेरा आदमी तो अंगूठा छाप हैं। आप ये फारम भर दीजिए। मैं अपनी बच्ची को अंगरेज़ी स्कूल में पढा़ना चाहती हूँ। अब मेरा माथा ठनका। माना कि शिक्षा बुनियादी अधिकार है, पर अंगरेज़ी स्कूल में पढा़ना तो बिल्कुल ही अव्यावहारिक है, विशेषकर उन परिस्थितियों में, जबकि मां-बाप दोनां ही निरक्षर हां। मैंने उससे कहा कि स्कूल में होमवर्क भी मिलता है। तुम दोनों तो पढ़ना-लिखना जानते नहीं हो, तो तुम्हारी बच्ची को तो बहुत दिक्कत हो जाएगी। इस पर उसने बडे़ आराम से कह दिया कि होमवर्क के लिए मैं ट्यूशन लगवा दूंगी। मेरी पत्नी ने भी उसे समझाने की कोशिश की कि सरकारी हिन्दी मीडियम की स्कूल में भरती करा दे तो बारहवीं क्ॅलास तक कोई फीस नहीं लगेगी। बल्कि स्कूल में दोपहर का खाना भी मिलेगा। इस पर उसने पलटकर कह दिया कि आप लोग तो अपने बच्चों को प्रॉयवेट अंग्रेजी मीडियम में पढा़ते हैं, और हमसे सरकारी हिन्दी मीडियम में पढा़ने को कहते हैं। मध्यान्ह भोजन पर उसने कहा हम कुछ कोई भूखे-नंगे थोडे़ ही हैं। अब जब उसने ठान ही रखा था, तो हम कुछ नहीं कर सकते थे। उसने अपनी बच्ची का दाखिला अंग्रेजी मीडियम की स्कूल में करा दिया। कुछ दिनों बाद मेरा इच्छा हुई कि जरा उस बाई के घर जाकर देखा जाये कि वे लोग किस तरह से रह रहे हैं। मै उनके घर पहुंचा और दरवाजा खटखटाया तो एक एकदम ही अपरिचित चेहरा बाहर निकला।

मुझे लगा कि मैंने कोई ग़लत दरवाजा तो नहीं खटखटा दिया है। मैंने अपनी बाई का नाम लेते हुए पूछा कि भइया ये लोग किस मकान में रहते हैं। इस उस आदमी ने बताया कि ये घर उन्हीं के नाम पर था, लेकिन उन्होंने मुझे एक लाख रूपये में यह मकान बेच दिया है और खुद नज़दीक ही किराये से रहते हैं। इतना सुनते ही मेरा पारा गरम हो गया। मैं तुरंत ही उस आदमी के बताये पते पर पहुंचा। वहां देखा बाई और उसका आदमी दोनों ही बाहर खाट पर बैठकर दारू पी रहे हैं। यह देखकर मेरा गुस्सा और भड़क गया। मैंने तमतमाते हुए कहा- ये क्या तरीका है, मैंने तुम लोगों को इतनी मुश्किल से मकान दिलाया और तुमने उसे दूसरे को बेच दिया। इस पर बाई का जवाब सुनकर मै दंग रह गया। उसने कहा बेचते नहीं तो और क्या करते। उस बिलि्ंडग में सारे मेहत्तर-भंगी जाति के लोग ही रहते थे। हम उन नीच जात के बीच में भला कैसे रहते । आपको भी वही मकान मिला था हमें दिलाने को। अब तक मेरा पारा सातवें आसमान पर पहुंच चुका था। मैंने कहा- साले तो तुम लोग बांभन-ठाकुर हो क्या। इस पर उसने कहा भले ही हमारी जाति छोटी है, पर हम भी इतने गये-गुजरे नहीं हैं कि भंगियों के साथ रहें। उसके इस उत्तर से दलित आंदोलन के फुग्गे में सुई चुभ गई थी और सारे फुग्गे की हवा बाहर निकल गई थी। घर पहुंचकर मैंने अपनी पत्नी को सारा किस्सा बताया इस पर उसने अपना निर्णय सुना दिया कि आज चार तारीख़ है। यह महीना खत्म होते ही उस बाई को हम अपना निर्णय सुना देंगे कि अब हम उसे नहीं रखेंगे। उस दिन के बाद बाई आती रही, लेकिन हम उससे सिर्फ़ औपचारिक बातें ही करते थे। मन खट्टा सा हो गया था। कुछ दिनों बाद मेरे साले की सगाई का कार्यक्रम मेरे ही घर से संपन्न होना था।

सगाई वाले दिन आम्बेडकर और बुध्द की फोटो के सामने परित्राण पाठ का आयोजन भी था। सगाई कार्यक्रम दिन का था। शाम तक जूठे बर्तनों का ढे़र लग चुका था। शाम को बाई आई और हमसे कहने लगी- आप लोगों ने हमें धोखा दिया है। उसके इस वाक्य से हम हतप्रभ रह गये। मैंने पूछा- कैसे? तो उसने कहा कि आप लोगों ने हमें बताया नहीं कि आप अंबेडकर के जात के हैं। हमारी जाति छोटी जरूर है, पर अम्बेडकर की जात से बडी़ है। मुझे यहां की कई बाइयों ने बताया था कि आप लोग छोटी तामैं नीच जाति के घर पर जूठे बर्तन नहीं मांजूगी- कहकर वह झटके के साथ चली गई। हम दोनों पति पत्नी को ऐसा महसूस हुआ मानों किसी ने हमें पुरस्कार के बदले झनाटेदार थप्पड़ रसीद कर दिया हो। 

----

 

आलोक कुमार सातपुते

832 हाउसिंग बोर्ड कालोनी 

सड्डू रायपुर-492007छग

लेखक का संक्षिप्त परिचय

नाम -   आलोक कुमार सातपुते 

जन्म -   26/11/1969 

शिक्षा-   एम.कॉम. 

प्रकाशित रचनाएंॅ- हिन्दी और उर्दू में समान रूप से लेखन। देश के अधिकांश हिन्दी-उर्दू पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन। पाकिस्तान के अंग्रेजी अख़बार डान की उर्दू वेबसाईट में धारावाहिक रूप से लघुकथाओं का प्रकाशन। 

संग्रह का प्रकाशन- 1 शिल्पायन प्रकाशन समूह दिल्ली के नवचेतन प्रकाशन,से लघुकथा संग्रह अपने-अपने तालिबान का प्रकाशन। 

2 सामयिक प्रकाशन समूह दिल्ली के कल्याणी शिक्षा परिषद से एक लघुकथा संग्रह वेताल फिर डाल पर प्रकाशित।

3 डायमंड पाकेट बुक्स, दिल्ली से कहानियों का संग्रह मोहरा प्रकाशित ।

4  डायमंड पाकेट बुक्स, दिल्ली से किस्से-कहानियों का संग्रह बच्चा लोग ताली बजायेगा प्रकाशित ।

5 उर्दू में एक किताब का प्रकाशन।

अनुवाद - अंग्रेजी उड़िया ,उर्दू एवम् मराठी भाषा में रचनाओं का अनुवाद एवं प्रकाशन ।

 

सम्पर्क - 832, सेक्टर-5  हाउसिंग बोर्ड कालोनी, सडडू, रायपुर               492007 छत्तीसगढ़

मोबाइल -09827406575

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget