शुक्रवार, 3 जून 2016

गौरैया लौट आई / बाल कहानी / शालिनी मुखरैया

'' अरी गुड़िया इधर आना जरा । जा दौड़ कर चिडिया की गुल्लक ले आ ''

माँ ने गेहूँ फटकते हुए मुझे आवाज लगायी । अपना खेल छोड़ कर आना मुझे सबसे बुरा काम लगता ।

'' क्या है मां, जब देखो तब खेल के बीच में बुलाती हो '

मैंने बड़े बेमन से चिड़िया की गुल्लक ला कर दी । माँ का यह नियम था कि जब भी वह गेहूं, चावल या दाल फटकती तो किनकी सहेजकर गुल्लक में रख देती है । उनका यह रोज का नियम था चिड़ियों को दाना डालने का । हर रोज गौरैयाएं माँ के डाले गये दानों का बेसब्री से इंतजार करती । जरा भी देर हो जाती तो अपनी '' चीची ' से आसमान सर पर उठा लेती । वर्षों तक उनका यह नियम चलता रहा । माँ जब तक जिंदा रहीं तब तक वो और उनकी गौरैयों उनका यह रिश्ता अनवरत बना रहा । उनके जाने के बाद घर के लोग तो दुखी थे ही मगन उससे कहीं ज्यादा दुख शायद उनकी पाली-पोसी गौरैयाओं को भी था मगर यह उस वक्त कोई नहीं जान पाया था ।

'' मेरी नन्हीं गौरैया आना आकर दाने खाना

खा कर मेरे दानों को अपनी दुआ दे जाना ''

यह गीत सदा मेरे मन में गुँजता रहता । विवाह के पश्चात मैं अपने पति के साथ दिल्ली आ गई । महानगरीय जीवन की भागदौड़ में नन्हीं गौरैया की याद मानो कहीं पीछे छूट गई थी । आज के इस भागदौड़ भरे जीवन में इन्सान अपने जीवन की सरसता को भुला बैठा है । वह इस चकाचौंध से इतना भ्रमित है कि छोटी छोटी चीजों से प्राप्त खुशियाँ उसके लिए कोई मायने नहीं रखतीं । घर परिवार की व्यवस्था में किसी और चीज का ध्यान ही नहीं रहा था ।

'' माँ यह गौरैया क्या होती है' ' स्कूल से आ कर मेरी नन्हीं बेटी रूही ने मुझसे प्रश्न पूछा ।

मानो वर्षों से धूल पड़ी स्मृतिपटल की यादों को किसी ने कुरेद दिया हो । माँ का वर्षों पुराना गीत याद आ गया । माँ की याद में आखों के कोर भीग गए । रूही असमंजस भरी निगाहों में मुझे देखने लगी । मैंने तुरंत अपनी आंख में आए आँसुओं को पोंछ लिया ।

आज स्कूल में टीचर ने ' विश्व गौरैया दिवस ' के बारे में बताया था '' नन्ही रूही अपनी धुन में ठुनकते हुए बोली ।

माँ ये गौरैया कैसी होती है' ।

मानसपटल पर चहचहाती हुई गौरैयाओं का समूल जीवंत हो उठ । मैं उत्साह से अपनी बिटिया को उसकी नानी एवं गोरैयाओं का किस्सा सुनाने लगी ।

' माँ अब गौरैया नहीं आयेगी क्या '' रूही के इस प्रश्न का मेरे पास कोई उत्तर नहीं था ।

हमारे आधुनिक जीवनशैली की सबसे बड़ी कीमत इन मूक प्राणियों ने चुकाई है । आज तक इस विषय पर मनुष्य ने कभी गंभीरता से विचार नहीं किया है । वह यह नहीं सोचता है कि अगर प्रकृति की देन ही नष्ट हो गई तो स्वयं कैसे जीवित रह पायेगा ।

' माँ मैं भी नानी की तरह दाने रखा करूँगी ' रूही ने मचलते हुए कहा 1

' मगर बेटा यहाँ आसपास कोई गौरैया नहीं रहती ' ' मैंने उसे प्यार से समझाना चाहा । मगर उसकी बालहठ के आगे मेरी एक न चली ।

अच्छा ठीक है, जैसा तुम चाहती हो वैसा ही होगा ' मैंने उसे आश्वासन दिया ।

बाजार से दलिया लाकर बाहर मुंडेर पर फैला दिया । कई दिन गुजर गए कोई गौरैया नहीं आई । रूही उदास मन से गौरैया का इंतजार करती मगर गौरैया के लिए दाना डालना नहीं भूलती । एक विश्वास उसके मनमें था कि गौरैया अवश्य आयेगी

' माँ जरा देखो तो कौन आया है' ' रूही की चहकती हुई आवाज आई ।

मैं रसोई में खाना पका रही थी । रूही मेरा हाथ पकड़ कर मुझे खींचती हुई ले गई और मुझे शोर न मचाने का इशारा कर रही थी ।n

मैं । कुछ भी समझ पाने में असमर्थ थी ।

' ' वो देखो '' रूही की खो में अनोखी चमक थी ।

गौरेया का एक जोड़ा मुंडेर पर फैले दानों को खाने में व्यस्त था । रूही का विश्वास रंग लाया था । वह गौरैया का जोड़ा अब रोज आने लगा था । धीरे धीरे अब अन्य जोड़े भी उनके साथ नजर आने लगे थे 1 मुझे लगा कि उन गौरैयाओं के साथ मेरी माँ भी वापस लौट आई है । उनका गीत पुन : मेरे मन में जीवंत हो उठा था.....

' 'मेरी नन्हीं गौरैया आना

आ कर दाने खाना

खा कर मेरे दानों को

अपनी दुआ दे जाना ' '

--

शालिनी मुखरैया, सीटीओ ' बी ' शाखा श्री वार्ष्णेय डिग्री कालेज अलीगढ़

3 blogger-facebook:

  1. बहुत अच्छी बालकथा है । बधाई । छोटे बच्चों की अंतर्जाल निशुल्क पत्रिका ' नाना की पिटारी " मे अपनी रचनाओं को भेजिए । email पता है nanakipitari@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके उत्साहवर्धन के लिये धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम के भूखे जीव-जंतु हो या इंसान सभी होते हैं
    बहुत सुन्दर प्रेरक कथा

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------