सोमवार, 6 जून 2016

जयचन्द प्रजापति 'कक्कू' की कविताएँ

image
(1)

सुंदर मन
..........
सुंदर मन
बनानाआसान नहीं
कड़ी तपस्या
मेहनत
से एक पवित्र
मन
बड़े मुश्किल से आता है

सुंदर मन के लिये
दया,परोपकार से
हृदय भरना होगा
करूणा का गीत
लिखना
होगा

नये भावों से
रंगना होगा
चंचल मन को बाँधना होगा
तभी पूर्ण होगा
सुंदर मन बनाने का
कार्य

(2)

मजदूर
........

मजदूर
जब मेहनत करता है
लिखता है नया इतिहास
हाड़ तोड़ मेहनत से
लिखता है
नई कहानी

सुबह से काम करे
शाम तक
मेहनत ही मेहनत
करता जाये
यही उसका जीवन
बनाता महल अटारी
रंगहीन जीवन जीता

प्रसन्न मन से
करता कर्म
सादा जीवन जीता
नहीं भरा है मन
धोखा किसी के लिये
सत्य जीवन अपनाता
हर पल

(3)

अध्यापक
............
अध्यापक
अपने छात्र को
बढ़ते हुये
देखना चाहता है
नये भावों को भरना चाहता है
देखना चाहता है
एक लम्बी उड़ान

हर पल
उसके विकास को
देखता है
यही उसके जीवन का
सच्चा मूल्यांकन है
यही
जीवन की पूँजी है

उसके कार्य की गणना
उस दिन महान होती है
जब उसका शिष्य
किसी
महान भूमिका में
सफल होता है

एक सच्चा अध्यापक
सतत
विकास पथ पर लिखता है
नया कीर्तिमान
तब मुश्काता है
अध्यापक

(4)

रिक्शा चालक
.................
रिक्शा चालक
पसीने से तर बतर
बिन खाये
पतली छाती है लिये
बड़ी तेजी से
रिक्शा चलाते
मंजिल तक
पहुँचाता है

कठिन मेहनत करता है
सहता है घुड़कियाँ भी
पूरी मेहनत का
नहीं पाता है पैसा
लोग छिनते हैं
उसका निवाला
कैसे कैसे लोग पड़े हैं

लेकिन निष्कपट
रिक्शाचालक
सहृदय भाव लिये
अपने कर्म पथ पर
चलता है

धैर्य लिये
मुश्कान के साथ
परिश्रम को
अपना पूँजी मानता है
यही उसके जीवन की
अंतिम इच्छा है

(5)

माँ
....
माँ होती है
कोमल भाव लिये
लड़ती है
जीवन भर
अपने बच्चे को बनाने में

भूख प्यास 
सब सहती है
मजबूती से खड़ी होती है
माँ ही
नई आशा  व उर्जा
लिये

माँ की कीमत
कितनी होती है
हर माँ वाला बच्चा
जानता है
लेकिन असली कीमत 
माँ की क्या है
उनसे पूछिये
जिनकी माँ नहीं होती हैं

जयचन्द प्रजापति 'कक्कू'
जैतापुर, हंडिया, इलाहाबाद
मो.07880438226
व्लॉग.kavitapraja.blogspot.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------