विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

लालची / बाल कहानी / सार्थक देवांगन

 

एक गांव में रविंद्र नाम का लड़का रहता था । वह बहुत लालची था । उसे लालच दो और वह किसी की भी बात में आ जाता था । एक दिन गाव में दो अजनबी आदमी आये । वे जानते थे कि यहां रविंद्र नाम का लड़का रहता है जो , बहुत लालची है और वह कैसा दिखता है वह भी मालूम था । उनका एक साथी गावं में ही रहता था । उन्होंने रविंद्र को अपने पास बुलाया और कहा - तुम्हें भूख लग रही है क्या ? उसने कहा - हां , मुझे बहुत भूख लग रही है । उन लोगों ने कहा - तुम हमारे साथ चलो , हम तुम्हें अच्छा – अच्छा खाने के लिए देंगे । वह अजनबी लोगों के अड्डे में पहुंच गया । वहां पहुंचते ही , उन्होंने उसे बांध दिया । वह मोनू चिल्लाने लगा , बचाओ – बचाओ । उन्होंने उसका मुंह बंद कर दिया । उन्होंने उसके माता पिता के पास फोन किया और कहा कि - अगर तुम्हें तुम्हारा बच्चा चाहिए तो एक लाख देना पडेगा । उन्होंने कहा लेकिन हमारे पास इतने पैसे नहीं है उन्होंने कहा कि जैसे भी लाओ हमें चाहिए और पुलिस को मत बताना । उन्होंने घर के सारे पैसे इकठा किया और अजनबियों को दे दिया , तब उन्हें रविंद्र वापस मिला । घर आते ही ,रविंद्र को बहुत डांट सुननी पड़ी ।

उसके बाद कुछ दिनों तक , उसने लालच नहीं किया । कुछ दिनों बाद फिर , वह भूल गया कि लालच बुरी बला है । उसने एक दिन अपने घर में १०० रुपये का नोट देखा । उसने सोचा कि इसे मैं रख लेता हूं । जब भूख लगेगी तो चुपके से बाहर जाकर खा लूंगा । शाम होते ही पिछले दरवाजे से निकल कर खाने चल दिया । पेट भर कर खा भी लिया । घर में उसके पिताजी वही १०० का नोट ढूंढ़ रहे थे । उन्हें नहीं मिला और उसमें एक आदमी का मोबाइल नम्बर लिखा हुआ था । उस नम्बर में फोन करने पर , जो जो सवाल पूछा जाता , उसका सही जवाब मिलने पर हाथ घड़ी फ्री में दिया जा रहा था । उस नोट के बारे में जानकारी मिलने पर रविंद्र को झटका लगा । डर के मारे वह , सच बता नहीं सका ।

एक दिन की बात है , उसी गाव में , कपडे की दुकान के बाहर एक हजार का नोट पडा हुआ था । उसने सोचा कि इसे मैं , रख लेता हूं । वह जैसे ही उसे पकड़ने गया , वह नोट हवा के कारण उड़ने लगा । उड़ते , खिसकते खिसकते सड़क पर पहुंच गया । वह नोट के पीछे भागते भागते , स्पीड से चलती एक गाडी से टकरा गया । बहुत चोट लगी । अपने लालचीपन के कारण वह परीक्षा से वंचित हो गया ।

घर में रहकर वह दूसरी परीक्षा की तैयारी में लग गया । उसके माता पिता ने उससे कह दिया था कि , अगर तुम इस बार पूरे में पूरे नम्बर लाते हो तो , हम तुम्हें एक साइकिल गिफ्ट कर देंगे । पढ़ते पढ़ते उसे नेट में एक पेपर मिल गया । वह उसी पेपर की तैयारी करके साइकिल पाने का सपना देखने लगा । जब वह परीक्षा देने गया तब उसने देखा कि , यह तो वह पेपर नहीं है दूसरा पेपर है और मैंने तो इन प्रश्नों के उतर को तो पढा ही नहीं । पूरे नम्बर क्या आधे से भी कम नम्बर मिला उसे । वह फिर से अपने लालचीपन का शिकार हो गया । उसके सभी दोस्त उससे दो साल आगे निकल गये । अब उसे समझ आ गया । अपने माता पिता के समक्ष उसने अपनी गलती कबूल कर लालच त्याग दी ।

आज एक बड़ी कम्पनी का मैनेजर बन गया वह । सच ही है भइया , कि लालच बुरी बला है । हमें लालच छोड़ , अपने कार्य में ध्यान देना चाहिए ।

सार्थक देवांगन

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget