विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

शुभ घड़ी / कहानी / आशीष कुमार त्रिवेदी

शुभ घड़ी

शर्माजी शादी का कार्ड देख रहे थे. उनके परम मित्र रघुवर टंडन की बेटी का विवाह अगले हफ्ते था. टंडनजी ने कल फोन पर भी निमंत्रण दिया था और अभी कुछ समय पहले ही कूरियर से यह कार्ड भी आ गया.
शर्माजी सोच में पड़ गए. इधर स्वास्थ्य कुछ अच्छा नहीं था. ऐसे में दिल्ली जाना कठिन था. वैसे फोन पर उन्होंने अपनी समस्या समझा दी थी. किंतु टंडनजी घनिष्ठ मित्र थे. किसी को तो जाना ही चाहिए.
वह अपनी बेटी गायत्री को भेजने के विषय में सोचने लगे. जब से उसका अपने पति से तलाक हुआ था उसने स्वयं को एक दायरे में कैद कर लिया था. काम पर जाने के अतिरिक्त वह बहुत कम ही घर से बाहर निकलती थी. ना किसी से मिलना ना बात करना. बस अपने में खोई रहती थी. शर्माजी को उसकी इस दशा से बहुत कष्ट होता था. कहीं ना कहीं वह इसके लिए स्वयं को दोषी मानते थे.


शाम को जब गायत्री लौटी तो उन्होंने दिल्ली जाने के विषय में उससे बात की.
"तुम्हें तो पता है कि मेरा स्वास्थ्य इन दिनों ठीक नहीं है. मेरा जाना तो कठिन होगा. तुम चली जाती तो अच्छा होता."
कुछ देर सोचने के बाद गायत्री बोली "आप तो जानते हैं ना पापा अब मेरा कहीं भी आने जाने का मन नहीं करता."
शर्माजी कुछ गंभीर स्वर में बोले "तेरी पीड़ा समझता हूँ बेटी. पर ऐसे कब तक चलेगा. बीते को भुला कर आगे बढ़ना ही समझदारी है. तुम जाओगी तो तुम्हारा मन भी बहल जाएगा और उन्हें भी खुशी मिलेगी."
कुछ क्षण रुक कर बोले "बाकी तुम्हारी इच्छा. मैं ज़ोर नहीं दूंगा."


गायत्री अपने कमरे में आ गई. वह अपने पिता की बात पर विचार करने लगी. टंडन अंकल ने सदैव उसे बेटी की तरह माना था. उनके अच्छे पारिवारिक संबंध थे. यदि पापा नहीं जा सकते तो उसे ही जाना चाहिए. बहुत सोच विचार के बाद वह जाने को तैयार हो गई.


गायत्री को देख सभी बहुत प्रसन्न हुए. खासकर रुची वह दौड़ कर उसके गले लग गई. आज रुची की हल्दी की रस्म थी. सभी रस्में टंडनजी के फार्महाउस में हो रही थीं. काफी चहल पहल थी. एक लंबे अर्से के बाद गायत्री ऐसे माहौल में आई थी. धीरे धीरे अपने आप को इस माहौल में ढाल रही थी.
शादी के दिन सभी बारात का स्वागत करने के लिए तैयार हो रहे थे. गायत्री भी मौके के अनुसार तैयार हुई. बारात सही समय पर आ गई. बारातियों में एक चेहरे ने गायत्री का ध्यान अपनी ओर खींच लिया. उसने भी गायत्री को देख लिया. दोनों एक दूसरे को पहचान गए. लेकिन उस समय बात कर पाना संभव नहीं था.
उस चेहरे को देख गायत्री अतीत में चली गई.


वैभव से पहली बार वह अपनी बुआ के घर मिली थी. गायत्री ने कुछ ही दिन पहले अपना एम बी ए समाप्त किया था. वह नौकरी ढूंढ़ रही थी. कुछ दिनों की छुट्टियां बिताने वह बुआ के यहाँ गई थी.
वैभव बुआ के पड़ोस में रहता था. अक्सर शाम को वह बुआ के घर आ जाता था. दोनों खूब बात करते थे. वैभव को एक बड़ी कंपनी में नौकरी मिल गई थी. बस कुछ ही दिनों में ज्वाइन करने वाला था.
धीरे धीरे दोनों के बीच नज़दीकियां बढ़ने लगीं. वैभव का झुकाव कुछ अधिक था. बुआ उनके बीच पनपते प्रेम को महसूस कर रही थीं. वह जानती थीं कि उनके भाई गायत्री के लिए योग्य वर ढूंढ़ रहे हैं. वैभव हर लिहाज़ से गायत्री के योग्य था. अतः उन्होंने इस विषय में अपने भाई से बात की. लग रहा था जैसे सब कुछ ठीक है रिश्ते में कोई अड़चन नहीं होगी.


गायत्री अपने घर वापस आ गई. वैभव के नौकरी ज्वाइन कर लेने के बाद दोनों परिवारों ने रिश्ते की बात आगे बढ़ाई. लेकिन पहले ही कदम पर व्यवधान पड़ गया. शर्माजी ग्रह नक्षत्रों में बहुत विश्वास रखते थे. उनका मानना था कि कुंडली का मिलान किए बिना विवाह नहीं किया जाना चाहिए. वैभव के घर वालों ने मिलान करने के लिए कुंडली दे दी. किंतु दोनों की कुंडली का सही मेल नहीं हुआ. शर्माजी ने रिश्ते से इंकार कर दिया. सब ने समझाने का प्रयास किया किंतु वह नहीं माने. गायत्री यूं तो वैभव से विवाह करना चाहती थी किंतु अपने पिता का विरोध करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई. उसकी चुप्पी से वैभव बहुत आहत हुआ. उनका रिश्ता नहीं हो सका. वैभव को कंपनी की ओर से विदेश जाने का मौका मिला. वह चला गया. उसके बाद उसकी कोई खबर नहीं मिली.


इसी बीच शर्माजी ने गायत्री के लिए एक लड़का ढूंढ़ लिया. दोनों की कुंडली बहुत अच्छी तरह से मिली थी. दोनों का धूम धाम से विवाह हो गया.
कुंडली सही प्रकार से मिलने के बावजूद आकाश और गायत्री के बीच का रिश्ता कभी सही नहीं रहा. उसने कभी भी गायत्री को पत्नी का सम्मान नहीं दिया. अक्सर उसे प्रताड़ित करता रहता था. गायत्री ने रिश्ते को बचाए रखने का हर संभव प्रयास किया किंतु कुछ सही नहीं हुआ. तीन साल के असफल प्रयास के बाद गायत्री ने हार मान ली. दोनों का तलाक हो गया.
गायत्री अपने मायके चली आई. उसने एक एम बी ए कॉलेज में पढ़ाना आरंभ कर दिया. जो दुख झेला था उसके कारण उसने स्वयं को बाहरी दुनिया से काट कर एक दायरे में कैद कर लिया.
सभी लोग खाना खा रहे थे. किसी ने उससे भी खाना खाने के लिए कहा. उसने देखा तो सामने वैभव था.


"क्या हम साथ में खाना खा सकते है." वैभव ने पूछा.
गायत्री ने हामी में सर हिला दिया. दोनों एक एकांत टेबल पर खाने के लिए बैठ गए. कुछ देर शांत रहने के बाद वैभव बोला "कुछ दिन पहले घर गया था. बुआ जी से तुम्हारे बारे में पता चला. मुझे दुख हुआ."
एक बार फिर दोनों शांत हो गए. इस बार गायत्री ने कहा "मेरी छोड़ो अपनी बताओ. आजकल कहाँ हो."
"छह महीने पहले इंडिया वापस आया. आजकल दिल्ली में ही हूँ. दूल्हे का बड़ा भाई मेरे अच्छे मित्रों में है. उसने ज़िद की तो बारात में आ गया."
"घर संसार कैसा चल रहा है." गायत्री ने कुछ सकुचाते हुए पूछा.


वैभव उसकी तरफ देख कर हल्के से मुस्कुराया और बोला "घर संसार बसा ही नहीं. जिससे मन मिला था उससे कुंडली नहीं मिल पाई. फिर किसी से मन ही नहीं मिला."
गायत्री ने वैभव की तरफ देखा. उसकी आंखों में अफसोस झलक रहा था. कुछ देर और दोनों बातें करते रहे. दोनों ने एक दूसरे से मोबाइल नंबर ले लिया. वैभव बारात के साथ विदा हो गया तथा गायत्री भी अपने घर चली गई.
दोनों फोन तथा सोशल एकांउट के माध्यम से एक दूसरे के संपर्क में रहते थे. गायत्री अब पहले की तरह प्रसन्न रहने लगी थी. धीरे धीरे उसने लोगों से मिलना जुलना भी आरंभ कर दिया था. उसमें आए इस बदलाव से शर्माजी बहुत खुश थे.
इस प्रकार तीन माह बीत गए. एक दिन गायत्री अपने सोशल एकांउट पर वैभव से चैट कर रही थी. वैभव का एक मैसेज पढ़कर वह चौंक गई.
'क्या हम हमेशा इसी तरह दूर रह कर बातें करेंगे. हम एक नहीं हो सकते.'
मैसेज पढ़कर गायत्री सोच में पड़ गई. कुछ क्षणों बाद उसने लिखा
'तुम आकर पापा से बात करो.'
वैभव का जवाब आया
'मैं आउंगा, लेकिन इस बार तुम मेरे साथ खड़ी होगी ना.'


गायत्री ने फौरन लिखा 'हाँ'.
वैभव ने लिखा 'इस रविवार को आउंगा.'
गायत्री वैभव की प्रतीक्षा करने लगी. उसने शर्माजी को इस बारे में कुछ भी नहीं बताया था. वह चाहती थी कि जब वैभव बात करे तो वह उसका साथ दे.
रविवार को जब वैभव उनसे मिलने आया तो अचानक ही उसे देख कर वह चौंक गए. गायत्री भी वहाँ आकर बैठ गई. अपने हाथ जोड़ कर वैभव बोला "मैं जानता हूँ कि हमारी कुंडलियां मेल नहीं खातीं किंतु अपनी और गायत्री की खुशी के लिए मैं आपसे हमारे विवाह की अनुमति चाहता हूँ."


गायत्री जाकर उसके बगल में खड़ी हो गई.
शर्माजी बिना कुछ बोले भीतर चले गए. वैभव और गायत्री असमंजस में थे कि उनका निर्णय क्या होगा. कुछ देर बाद शर्माजी बाहर आए. उनके हाथ में पूजा की थाली थी. उन्होंने वैभव को तिलक लगाया और चांदी की गणपति प्रतिमा उसके हाथ में रख कर बोले "तुम दोनों का मेल तो ईश्वर ने तय किया है. अब दोबारा उसकी इच्छा के विरुद्ध नहीं जाउंगा."
वैभव ने उनके पांव छुए और गायत्री उनके गले से लग गई.

 

परिचय
नाम - आशीष कुमार त्रिवेदी

जन्म तिथि - 7-11-1974

शिक्षा - B .COM [1994]

पेशा- प्राइवेट टयूटर

अपने आस पास के वातावरण को देख कर मेरे भीतर जो भाव उठते हैं उन्हें लघु कथाओं एवं लेख के माध्यम से व्यक्त करता हूँ।

C -2072 इंदिरा नगर

लखनऊ-226016

E-MAIL OMANAND.1994@GMAIL.COM

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

अति सुंदर रचना.
कहानी को मार्मिक बना दिया आपने..
शायद कुछ अंश ही काल्पनिक है...

आभार,
अयंगर.

वाह..
कहानी वास्तविक हो या
काल्पनिक
है तो अंधविश्वास को ताोड़ती कहानी
इसे पढ़कर लोगोंं की दकियानूसी छूट जाएगी
सादर

आपकी प्रतिक्रिया का आभार

आपकी प्रतिक्रिया का आभार

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget