रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

जन्मदिन का तोहफा / बाल कहानी / आशीष कुमार त्रिवेदी

image
नकुल ने अपना गुल्लक खोला और अपनी जमा पूंजी को गिना. अभी भी बहुत पैसे इकट्ठे करने हैं. पिछले तीन महीनों से वह पैसे बचा रहा था. आइसक्रीम चॉकलेट्स की अपनी इच्छा को दबाकर सारी पॉकेटमनी जमा कर देता था. इस बीच पड़े अपने जन्मदिन पर कपड़ों के लिए मिले पैसे भी उसने खर्च नहीं किए.

घर में सभी जानते थे कि वह पैसे बचा रहा है पर क्यों यह एक रहस्य था. वह किसी को कुछ नहीं बताता था. घर वाले यह सोच कर खुश थे कि इसी बहाने बचत की आदत पड़ रही है.

नकुल पढ़ने लिखने में बहुत होशियार था. सदैव अच्छे अंक लाता था. उसे यदि कोई टक्कर दे पाता था तो वह था उसका बेस्ट फ्रेंड संजीव. संजीव भी एक मेधावी छात्र था. नकुल और उसके बीच एक स्वस्थ प्रतियोगिता चलती थी कि देखें इस बार कौन कक्षा में प्रथम आता है. दोनों में आपस में बहुत प्रेम था.

हलांकि दोनों के परिवारों की आर्थिक स्थिति में बहुत फ़र्क था. नकुल के माता पिता दोनों बहुत अच्छा कमाते थे. उसके घर में किसी चीज़ की कमी नहीं थी. जबकि संजीव के पिता एक छोटी सी दुकान चलाते थे. घर में प्रायः पैसों का अभाव रहता था. संजीव पढ़ने में अच्छा था इसीलिए उसकी फीस माफ थी तथा उसे छात्रवृत्ति भी मिलती थी. इसी कारण उसकी पढ़ाई चल पा रही थी.

नकुल सोच रहा था कि अभी भी करीब डेढ़ हजार रुपये कम हैं उनकी व्यवस्था कैसे करूँ. बहुत सोचने पर भी कुछ सूझ नहीं रहा था. समय भी अधिक नहीं बचा था.

अगले दिन जब वह स्कूल गया तो पता चला कि स्कूल में फेट होने वाली है. इसमें छात्र अपनी स्टॉल लगा सकते हैं. स्कूल को निश्चित राशि देने के बाद जो लाभ होगा वह उस छात्र का होगा. नकुल को बची हुई राशि एकत्र करने का रास्ता सूझ गया.

नकुल एक अच्छा चित्रकार था. उसने कई पुरस्कार भी जीते थे. उसके पास वॉटरकलर से बनाए कई चित्र थे. आने वाले क्रिसमस व नए साल के लिए उसने कुछ कार्ड्स तथा चित्र और बना लिए. फेट में उसकी स्टॉल सबके आकर्षण का केंद्र रही. उसे अच्छा मुनाफा हुआ.

स्कूल टूर के लिए पैसे जमा करने के लिए अब दो ही दिन बचे थे. लगभग सभी लोग पैसा जमा करा चुके थे. संजीव के पिता के पास इतने पैसे नहीं थे अतः वह टूर पर नहीं जा रहा था.

नकुल संजीव के पिता को साथ लेकर क्लास टीचर से मिला और टूर के लिए पैसे जमा करा दिए.
नकुल जानता था कि संजीव भी टूर पर जाना चाहता था लेकिन घर की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण कुछ कह नहीं पा रहा था. नकुल भी अपने मित्र के बिना नहीं जाना चाहता था. अतः अब तक उसने भी पैसे जमा नहीं किए थे. वह स्वयं अपने मित्र की सहायता करना चाहता था. अतः पैसे बचा रहा था. पर्याप्त धन जमा हो जाने पर वह संजीव के पिता से मिला और उन्हें इस बात के लिए मना लिया कि वह संजीव के टूर के पैसे स्वयं देगा. अपने मम्मी पापा को जब उसने यह बात बताई तो उन्होंने भी उसका समर्थन किया. नकुल ने संजीव के पिता से कहा कि वह यह बात अभी उससे ना बताएं. सभी को 10 जनवरी को टूर पर निकलना था. उस दिन संजीव की सालगिरह थी. अतः अचानक उसे यह बात बता कर खुश कर देंगे.

नकुल टूर पर जाने की तैयारी करने लगा. संजीव के माता पिता भी चुपचाप उसके जाने की तैयारी करने लगे.
10 तारीख को नकुल सुबह सुबह संजीव को बर्थडे की मुबारक बाद देने पहुँचा. संजीव ने भी टूर पर जाने के लिए उसे बधाई दी और कहा कि वह उसके लिए टूर की अच्छी अच्छी तस्वीरें खींच कर लाए. 

नकुल ने कहा कि ऐसा नहीं हो सकता क्योंकि उसके बिना वह भी टूर पर नहीं जाएगा. संजीव ने समझाया कि अब तो यह बिल्कुल भी संभव नहीं. अतः वह टूर पर जाए और लौटकर अपने अनुभव उसे बताए.

नकुल तथा संजीव के पिता ने उसे सारी बात बता दी. सुनकर संजीव की आंखें भर आईं और उसने नकुल को गले से लगा लिया.

परिचय
नाम - आशीष कुमार त्रिवेदी

जन्म तिथि - 7-11-1974
शिक्षा - B .COM [1994]
पेशा- प्राइवेट ट्यूटर
अपने आस पास के वातावरण को देख कर मेरे भीतर जो भाव उठते हैं उन्हें लघु कथाओं एवं लेख के माध्यम से व्यक्त करता हूँ।
C -2072 इंदिरा नगर
लखनऊ-226016







एक टिप्पणी भेजें

आशीष जी,

बहुत ही सुंदर चित्रण किया है आप ने कथा में.. धन्यवाद.

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget