रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

गरीबी पर चिंतन / व्यंग्य / यशवंत कोठारी

बिल गेट्स ने कहा है कि गरीब राष्ट्र कम हो रहे हैं, लेकिन गरीबी बढ़ रही है. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बुश ने कहा है कि हम ने गरीबी के ख़िलाफ़ युद्ध छेड़ा और गरीबी जीत गयी. भारत में बहस गरीबी पर नहीं गरीबी रेखा पर हो रही है . योजना आयोग का नया रूप नीति आयोग इस बात पर ही दो साल से चर्चा कर रहा है , नए आयोग अध्यक्ष भारत की गरीबी को अमरीकी चश्मे से देख रहे हैं. उन को नहीं मालूम कि भारत में गरीबी के मापदंड वे नहीं हो सकते जो अमेरिका में हैं. गरीबी नहीं हटा सको तो गरीब को हटा दो, उसे फुटपाथ से हटाओ, उसे झोपडी से हटाओ , उसे कच्ची बस्ती से हटाओ , उसे शहरों से हटाओ , उसे जनपथ व् संसद मार्ग से हटा दो.

नीति आयोग गरीब और गरीबी पर रोज़ नई परिभाषा बनाता है , जो सत्ता के तो अनुकूल होती है ,मगर गरीब के अनुकूल नहीं होती. गरीब को सोचने समझने का कोई अधिकार नहीं सरकार कहे सो सही . रोटी तक नसीब नहीं . एक वक्त की रोटी के भी लाले हैं लेकिन सरकार माने तो. शहर में रहने वाला अलग, गाँव में रहने वाला अलग तरह का गरीब, दोनों मिल कर अमीर. होना तो यह चाहिए कि सरकार अमीरी रेखा तय करे, उसके नीचे के सब गरीब. सब को मदद मिले, सब को रोटी कपडा मकान मिले . लेकिन बुद्धिजीवी गरीबी पर बहस करते हैं ,सेमिनार करते हैं ससुरी गरीबी बढ़ती जाती है और अमीरों की अट्टालिकाएं भी बढ़ती जाती हैं . खुद जिओ गरीब को जीने मत दो. चलो भागो यहाँ से, तुम गरीब भिखारी तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई यहां तक आने की ?

हुजूर मैंने तो आपको वोट दिया था. तो कौन सा अहसान कर दिया , किसी न किसी को तो वोट देने ही थे. नाग नाथ को नहीं देते तो सांप नाथ को देते. गरीब के ख़िलाफ़ सभी सत्ताएं एक ही होती हैं प्यारे . इतिहास में केवल राजा , महाराजा, नवाब , बेगमों का जिक्र होता हैं आम आदमी , गरीब भिखारी को इतिहासकार नहीं पहचानते .

गरीबी रेखा की जाँच करने वाले जानते हैं यह रेखा कभी भी बड़ी हो सकती है , कभी भी छोटी हो सकती है , कभी भी मिटाई जा सकती है कभी भी बनाई जा सकती है .

अमीरी व गरीबी के बीच में एक दीवार है, एक समुद्र है जिसे लांघा नहीं जा सकता . नीति आयोग रोज़ नए नए प्रस्ताव बनता है ये प्रस्ताव सरकार में चक्करगिन्नी होते रहते हैं . उनके लिए गरीबी एक लतीफा , जोक है , जिसे सचिवालय में सुनाया जाता हैं , गाया जाता है और गरीब व् गरीबी वहीँ रहती हैं जहाँ वे थे .

००००००००००

यशवंत कोठारी, ८६, लक्ष्मी नगर , ब्रह्मपुरी

जयपुर

मो-०९४१४४६१२०७

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget