रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

ककड़ी के चोरों को फाँसी || प्रचलित लोककथनों पर आधारित-लम्बी तेवरी--तेवर-शतक || -रमेशराज

साझा करें:

  ककड़ी के चोरों  को फाँसी || प्रचलित लोककथनों पर आधारित-लम्बी तेवरी--तेवर-शतक || -रमेशराज ...................................................

image 

ककड़ी के चोरों  को फाँसी
|| प्रचलित लोककथनों पर आधारित-लम्बी तेवरी--तेवर-शतक ||
-रमेशराज

........................................................................................

+हर तेवर ‘लोकोक्ति’ सुहाये, शब्दों के भीतर तूफान
अपने घर को फूंक तमाशा हुए देखने हम तैयार, क्या समझे!! 1

+दही जमेगा, घी निकलेगा, जब ले लेगा दूध उफान
लिये बाल्टी ‘लोककथन’ की काढ़ें हम गइया की धार , क्या समझे!! 2

+भानुमती का जैसे कुनबा चना मटर सँग गेंहू धान 
कुछ चुन, कुछ गढ़ ‘नयी कहावत’ ‘तेवर-शतक’ किया तैयार, क्या समझे!!

+‘फैलुन-फैलुन फा’ के बदले हम लाये ‘आल्हा की तान’ 
हर तेवर दो-दो तुकांत-क्रम जिनमें दिखे दुधारी  मार, क्या समझे!! 4

+क्रन्दन को कहना आलिंगन होगा लोगों को आसान
उसे ग़ज़ल हम कैसे कह दें जिसमें भालों की बौछार, क्या समझे!! 5

+निकले सर पर कफन बाँधकर फौलादी सीने को तान
लिख पाये इसलिए तेवरी अपने ‘सोचों’ में अंगार, क्या समझे!! 6

+मुँह गाली देता है लेकिन थप्पड़ खाय विचारा कान
कोई पापी दण्ड किसी को, माँ कपूत का भरे उधार, क्या समझे!! 7

+हम कोल्हू के बैल सरीखे लिये अमिट अब पांव थकान 
खुर टूटे अरु दांत गिरे सब, कंधे बोझे को लाचार, क्या समझे!! 8

+काले अक्षर भैंस बराबर जुटे साक्षरता अभियान
मंन्त्री बनकर मार रहे हैं पढ़े-लिखों को जूते चार, क्या समझे!! 10

+हम महान हैं इसीलिए तो अपनी है हर बहस महान
हम कर रहे ब्याह से पहले यारो गौने पर तकरार, क्या समझे!! 11

+ब्रह्मचारियों का अनशन से बढ़ता मान और सम्मान 
आलू सौ बच्चों का भालू क्या समझेगा इसका सार, क्या समझे!! 9

+खुद को नहीं सिर्फ औरों को अपने हैं सारे व्याख्यान
नाइन पाँव सभी के धोती खुद के पाँव मैल-अम्बार, क्या समझे!! 12

+तर्कहीन बहसों के बदले ज्ञानी से बस पाओ ज्ञान
किसी तरह से भला नहीं है चलते बैल मारना आर, क्या समझे!! 13

+सौ-सौ चूहे खाय बिलइया अब चाहे गंगा-स्नान
अब हर एक लुटेरे पर है ‘दानवीर’ का भूत सवार, क्या समझे!! 14

+करे न रक्षा वो औरों की थर-थर जिसके काँपें प्रान
चून माँगकर पेट भरे जो, वो क्या भात भरेगा यार, क्या समझे!! 15

+उल्टे चलन जगत के देखे नीरस मिले आज रसखान
भरे समन्दर घोंघा प्यासा, प्रेम-बीच पसरी तकरार, क्या समझे!! 16

+हम सुख को सुख तब ही मानें अधरों तक आये मुस्कान
माह न जाड़ा, पूस न जाड़ा, तब जाड़ा जब शीत बयार, क्या समझे!! 17

+घुटना घुटने को झुकता है, दयावान को ही दुःख-ज्ञान
घर आये बेटे की मइया आँत टोहती नजर उतार, क्या समझे!! 18

+अभी न दाँत दूध के टूटे, बेटा सबके काटे कान
बचपन में ही दीख रहे हैं सुत के पाँव महल के पार, क्या समझे!! 19

+पढ़े-लिखे को कहा फारसी, क्या पण्डित को ज्योतिष-ज्ञान?
पैनी तो पत्थर में पैनी, क्या तैरा को नदिया-पार, क्या समझे!! 20

+लोग हँसें रख हाथ मुखों पर नंगे के सुनकर व्याख्यान
फाँके सतुआ लेकिन बोले ‘मथुरा में करना भण्डार’, क्या समझे!! 21

+सबको राह बताते फिरते जो हैं राहों से अन्जान
कूँए के मेंढ़क समझाते मिले हमें सागर का सार, क्या समझे!! 22

+पाँवों में जब काँटे टूटे तो आया जूतों का ध्यान
आग लगी तो कुंआ खोदने झटपट दौड़ा यह संसार, क्या समझे!! 23

+घर के भीतर धम्मक-धम्मा मीयाँ-बीबी कठिन निभान
धरी लुगइया कभी न करियो, करियो ठीक-ठिकानेदार, क्या समझे!! 24

+अपना खाना और कमाना, अपनी ढपली-अपनी तान
अपने ही रँग रँगे हुए सब, अब समूह का त्याग विचार, क्या समझे!! 25

+टूटी दाढ़ बुढ़ापा आया, टाँग कापतीं, बहरे कान
गये जवानी फीका लगता सारा का सारा संसार, क्या समझे!! 26

+नंग चोर छिनरा ज्वानी के करें बुढ़ापे ईश्वर-ध्यान
सारे पाजी बनते काजी वृद्ध अवस्था सोच-विचार, क्या समझे!! 27

+पाँव न जानें कान पकड़ना, पकड़ें सदा हाथ ही कान
काँटे को झट सुई निकाले, हाथ न ली जाये तलवार, क्या समझे!! 28

+नोटों-भरी अटैची यारो देख विहँसता पुष्प समान
नेता हो पानी से पतला हर दल बहने को तैयार, क्या समझे!! 30

+बिन बादल के कौंधे बिजली, आसमान से गिरे फुहार, क्या समझे!! 31

+जयचंदों ने करीं बधिक की सारी तरकीबें आसान
चिडि़याएँ दाने को देखें, नहीं जाल पर करें विचार, क्या समझे!! 32

+मंत्री बचे, लुटे सब जनता, रखे पुलिस बस इतना ध्यान
खड़े देखते ट्रेन-डकैती गार्ड सिपाही थानेदार, क्या समझे!! 33

+बलशाली को अति बलशाली पल में दिखता बाप समान
देख शिकारी फौरन भागे, कुंजर-जंगल का सरदार, क्या समझे!! 34

+केवल अधिकारों की बातें खुदगर्जी इस युग की शान
खाने को तो शेर सरीखे और कमाने अजगरदार, क्या समझे!! 35

+दुःखी नाक की पीर न पूछें होकर नाक पड़ोसी कान
सने हुए हाथों के यारो पाँव बने कब धोबनहार, क्या समझे!! 36

+लुटें गोपियाँ उसके सम्मुख वो ही अर्जुन वही कमान
समय-समय के फेर बाज पै झपट करे है बगुला वार, क्या समझे!! 37

+राजनीति में नकटे-बूचे लुच्चे-छिनरे नंग महान
देखा जिन्हें चाटते तलुवे, बने फिरें वे अति खुद्दार, क्या समझे!! 38

+साथ भला कुण्डी-किबाड़ का, ज्ञानी के सँग बुद्धि महान
विष ही घोलेगा जीवन में यारो मधुशाला का यार, क्या समझे!! 39

+औरों के धन को डकारकर ऐंठे उजले भृकुटी तान
उजलों से कंजरिया अच्छी लौटा देती लिया उधार, क्या समझे!! 40

+खाते वाले चलन न होते करुणा और दया की खान
बिन मतलब के चिरी अँगुरिया क्यों कर मूतन लगा सुनार, क्या समझे!! 41

+हर पल वाद-विवाद मिलेगा भौंडे़ राग-बेसुरी तान
जिस घर भी हों तेरह चूल्हे, नहीं मिलेगा उस घर प्यार, क्या समझे!! 42

+यही सोच शोषण जनता का नेता करता सरल विधान
नीबू और आम के मसके फूट पड़े पल में रस-धार, क्या समझे!! 43

+देख दरोगा पूरा तोले दाँत निपोरि सभी सामान
वही कहावत पुनः सिद्ध है-‘बनिया होय दबे का यार’, क्या समझे!! 44

+हम महान हैं तभी हमारे होते सारे प्रश्न महान
बाल कटाते पूछ रहे हैं-‘सर के ऊपर कितने बार’, क्या समझे!! 45

+हल्का करने हेतु काम को जगह-जगह बाँटें विद्वान
सर पर बोझ, पिराये गर्दन, कंधों पर लो उसे उतार, क्या समझे!! 46

+बहरा कहे सुनायी देता, अंधा जग का करे बखान
राग-ताल जो गीत न जाने, घूम रहा है लिये सितार, क्या समझे!! 47

+न्योते बामन खायें ना छूता पिफरे पाँव जिजमान
ऐरे-गैरे लोग श्रा में ले आया पण्डित मक्कार, क्या समझे!! 48

+माँ तो मरे धीय को निश-दिन, मरती धीय धींगरा-शान
और उदार बाप के घर में लूट-निपुण है पुत्र अपार, क्या समझे!! 49

+साधु उसे परसाद थमाये जो थाली में डाले दान
अंधा बाँट रहा रेवडि़याँ अपनों को दे बारम्बार, क्या समझे!! 50

+पागल होकर मति का अंधा आँख सहारे ढूंढे़ कान
नगर ढिंढोरा कंधे छोरा सूझे नहीं सही उपचार, क्या समझे!! 51

+समझदार उसको ही मानो करता युक्ति राह आसान
पल-पल हुक्का पीने वाला गाड़े भूभर में अंगार, क्या समझे!! 52

+कर अपमान खिलाये खाना रख आगे पूड़ी पकवान
गूलर के फल भीतर भुनगा इसका मीठापन बेकार, क्या समझे!! 53

+मूरख करता रोज कमायी खाते जिसको चतुर सुजान
संग चूतिया यूँ ही डोलें, चंट शिकारी करे शिकार, क्या समझे!! 54

+साधु चलायें चकलाघर अब, योगी को है भोग महान
जेठ संग भागे द्वौरानी आज हुआ ऐसा संसार, क्या समझे!! 55

+मन पर दुःख का यदि साया हो तो मुख से गायब मुस्कान
सर के ऊपर बोझ रखो तो पहुँचे तुरत पाँव तक भार, क्या समझे!! 56

+बढ़े हुए नाखून, बाल दाढ़ी के होते बोझ समान
इन्हें काटना ही चतुराई, बढ़ी मूँछ का कर सत्कार, क्या समझे!! 57

+बूट पहनकर राह चलो तो काँटे करें राह आसान
केवल भगतसिंह की भाषा सुनती है बहरी सरकार, क्या समझे!! 58

+क्रान्तिकारियों की तलवारें फिर से करें रक्त-स्नान
‘तिलक’ 'सुभाष' सरीखे नेता फिर भारत में हों तैयार, क्या समझे!! 59

+बेटी माँगे महल-दुमहले, कूटे बाप गैर के धान
माँ तो पीसत-पीसत हारी, पूत बने है साहूकार, क्या समझे!! 60

+उल्टी दिशा पालकी जानी, गलत नहीं यारो अनुमान
छिनरे नेताओं के कंधे जनता की डोली का भार, क्या समझे!! 61

+मन-मन भाये मूड़ हिलाये देख समोसा या मिष्ठान
बिन चुपड़ी रोटी रखवाये, खा रसगुल्ला दिल-बीमार, क्या समझे!! 62

+नेता रोये बिन कुर्सी के, वैश्या रोइ बुढ़ापा जान
रोइ सियासत बिन शकुनी के, खेती रोये बिन जलधार, क्या समझे!! 63

+टंगी मार बढ़े आगे जो उसको भी न राह आसान
खाई खोदे जो औरों को उसको कूप मिले तैयार, क्या समझे!! 64

+ढोंगी के भाड़े के टट्टू घोषित करते फिरें महान
बिन परमारथ बिना ज्ञान के नकली संत आज तैयार, क्या समझे!! 65

+गद्दी उतरे नेताजी का काग-कूकरे जैसा मान
चार दिनों की रहे चाँदनी फिर छाये जीवन अँधियार, क्या समझे!! 66

+हों बलहीन नियति के आगे अच्छे से अच्छे बलवान
शेर, भेडि़या, हाथी, मानुष सब झेंलें मच्छर की मार, क्या समझे!! 67

+नेता सत्ता रहते फूफा चमचों के सँग चढ़े विमान
सत्ता के जाते ही उससे आँख चुरायें तावेदार, क्या समझे!! 68

+तब तक ही कुहराम नहीं है छुपी हुई है जब तक म्यान
अगर खोल से बाहर निकली चमक उठेगी झट तलवार, क्या समझे!! 69

+पढ़कर अमरीका आये हो भेद-भाव पर अब भी ध्यान!
पानी पीकर जाति पूछना अब तो छोड़ो मेरे यार, क्या समझे!! 70

+क्षत्री वो जो करे निछावर निर्बल के हित अपने प्रान
जो क्षत्री हो रण से भागे उसके जीवन को धिक्कार, क्या समझे!! 71

+जिस घर बाप शराबी होगा सुत भी करे सुरा का पान
चूहे जाए मिट्टी खोदें मान लीजिए आखिरकार, क्या समझे!! 72

+थोथे वर्ण-जाति पर करता मूरख तू किसलिए गुमान
सब ही बने चाम के इस जग, सबकी भइया जाति चमार, क्या समझे!! 73

+अपनी-अपनी जड़ें त्यागना कभी नहीं होगा आसान
रोटी-बेटी जाति बीच ही सब देते हैं विविध प्रकार, क्या समझे!! 74

+युद्ध और व्यवसाय रहे हैं किस युग यारो एक विधान?
वणिक-पुत्र के हाथ न शोभित होते तीर और तलवार, क्या समझे!! 75

+केवल काँव-काँव ही बोलें, काँव-काँव जिनको आसान
काग पींजरे पढ़ वेदों को कैसे लेंगे बुद्धि सुधार, क्या समझे!! 76

+दूध मलाई चट कर जाये चढि़ कुर्सी सत्ता का श्वान
नोच रही बिल्ली-सी जनता खम्बे को होकर लाचार, क्या समझे!! 77

+समझदार घर रार न पाले लखि तिय को लाये मुस्कान
घर की खाँड़ किरकिरी लागे गुड़ पड़ोस में चखें गँवार, क्या समझे!! 78

+एक अपाहिज लोकपाल को लाने पर इन सबका ध्यान
गूगों के मुखिया बहरे हैं, अंधों के काने सरदार, क्या समझे!! 79

+अपने हाथ खुरपिया भारी राह चलत में देति थकान
पर-कंधे पै रखा फावड़ा लगे बीजना के सम भार, क्या समझे!! 80

+पीये छाछ मारकर फूकें दूधजले की यह पहचान
रस्सी देखि सांप का काटा करता भारी चीख-पुकार, क्या समझे!! 81

+जने-जने का मनुआ राखत वैश्या है अब बाँझ समान
हास-दान देने वाले के नैनों मिले अश्रु की धार, क्या समझे!! 82

+लोकतंत्र में बने हुए हैं अंधे सब कानून महान
चित भी इसकी पट भी इसकी, सब कहते इसको सरकार, क्या समझे!! 83

+जितकी ब्यार उतई बरसाऔ गेंहू ज्वार बाजरा धान
पत्थर में कूआ के खोदे कब मिलती पानी की धार, क्या समझे!! 84

+कालेधन का करे आकलन अफसर बैठि बीच दालान
मंत्री के सुत बता रहे हैं सोलह चौके होते चार, क्या समझे!! 85

+सज्जन पास बैठकर आता मन उदारता-भरा विधान
पानी पीजे छनि-छानि के, गुरु बनाइये सोच-विचार, क्या समझे!! 86

+लोग देखते खड़े तमाशा, बढ़े न कोई मुट्ठी तान
निबलहिं अगर धींगरा मारै रोबन देई नहीं मक्कार, क्या समझे!! 87

+गूँगे-बहरे करें सभाएँ अहंकार जिनमें अभिमान
नकटे-बूचे सबसे ऊँचे दें सज्जन की लाज उतार, क्या समझे!! 88

+नाम वसंत किन्तु है पतझर, जल के भीतर रेगिस्तान
बस बाहर की चमक-दमक है, बेर रखे गुठली का भार, क्या समझे!! 89

+बाप बिना क्या बेटी शादी, माँ बिन पले नहीं सन्तान
भइया बिना सनूना सूना, बिना धार चाकू बेकार, क्या समझे!! 90

+तीन लोक से लीला न्यारी रोम जले ‘नीरो’ अन्जान
मस्तराम मस्ती में बस्ती फुँकी देख खुश होत अपार, क्या समझे!! 91

+भूल टैंट अपने नैनों के काने के अधरों मुस्कान
आसमान पर थूक रहे हैं सब के सब बौने किरदार, क्या समझे!! 92

+खुद को कहे सती-सावित्री  नगर-वधू-सा जिसका मान
उछल रही है चलनी जिसके भीतर देखे छेद हजार, क्या समझे!! 93

+आगे कूबर पीछे कूबर पर बाजे सुन्दर धनवान
मैराथन दौड़ों में देखा लूले-लँगड़ों का सत्कार, क्या समझे!! 94

+तीन बुलाये तेरह आये सब का रसगुल्लों पर ध्यान
टेड़ा बहुत निभाना दावत घड़ा चीकने रिश्तेदार, क्या समझे!! 95

+उनका करे क्रोध भी मंगल जो होते हैं साधु-समान
बादल गरजे, दामिनि दमके, किन्तु करे जल की बौछार, क्या समझे!! 96

+बनता सिलकर तन की शोभा, कैंची से कुछ कटकर थान
सन सड़कर रस्सी बन जाता, बाती जल करती उजियार, क्या समझे!! 97

+पानी लाओ चाय पिलाओ और रखो आगे मिष्ठान
कौन नहीं अफसर खुश होता इस युग लखि नोटों में भार, क्या समझे !! ९८

+बूँद-बूँद से घड़ा भरे है, पल-पल बढ़ते हो उत्थान
रत्ती-रत्ती के जोड़े से इक दिन बँधता हाथी द्वार, क्या समझे!! 99

+मजबूरी का नाम शुक्रिया अच्छी लगे बेसुरी तान
पतरी-मोटी कौन देखता मक्का की रोटी को यार, क्या समझे!! 100

+कूआ से घर तक जाना भी भरि मटका अति कष्ट समान
गंजी पनिहारिन के सर पर रखी ईंडुरी काँटेदार, क्या समझे!! 101

+दाँत न देखो उस गइया के जिसको किया गया हो दान
झट सौ बार परखिए लेकिन आयीं तोपें शस्त्रागार, क्या समझे!! 102

+कपड़े की दूकान कोयला-राख बेचना कब आसान
साथ-साथ कब होता यारो इत्र-हींग का कारोबार, क्या समझे!! 103

+चोरों से घर की रखवाली करवाना मूरखपन मान
छोड़ा जाय चटोरी कुतिया बूते नहीं जलेबी-थार, क्या समझे!! 104

+एक पंथ दो काज बनावै होती वो हर चीज महान
रई न केवल छाछ निकारे घी को भी सँग देति निकार, क्या समझे!! 105

+फटे दूध के बीच जमामन डाल दही मिलता नहिं मान
तेल नहीं बालू से निकले मथो भले ही सौ-सौ बार, क्या समझे!! 106

+कंड़ा-पाथन भाग गयी झट घर में आये जब मेहमान
चाय कराह-कराह बनाये घर में मीयाँ तावेदार, क्या समझे!! 107

+ककड़ी के चोरों को फाँसी, देशद्रोहियो का सम्मान
‘सत्यमेव जयते’ के नारे लिख-लिख मगन होय सरकार, क्या समझे!! 108

+पेटू मरे पेट की खातिर, नामी देतु नाम पर जान
धरती ऊसर चाहे सूखा, संत चाहता सुख संसार, क्या समझे!! 109

+भूखे को रोटी की चाहत, नेता चाहे सत्ता-शान
धूप माँगता है खरबूजा, माँगे आम मेह की धार, क्या समझे!! 110

+बना दिया माहौल सभी ने नयी बहू को नर्क समान
ननद-जिठानी चरें मखाने, जच्चारानी पतली दार, क्या समझे!! 111

+नंग किराये पर रहता है किन्तु महल का करे बखान
बिना चून के सौ-सौ रोटी ऐसे होती हैं तैयार, क्या समझे!! 112

+एक-एक मिल होते ग्यारह, सभी काम होते आसान
एक हाथ से बँधे न पगड़ी, एक हाथ ताली नहिं यार, क्या समझे!! 113

+सड़क नहीं कमरे आलिंगन होता नैतिक, पाता मान
नाक दिखे आंखों का काजल तो देता है मन को भार, क्या समझे!! 114

+घोड़े से गिर शान न जाती, नज़र गिरे से जाती शान
जो सर देता सच की खातिर, माना जाता वह सरदार, क्या समझे!! 115

+केवल कोरे समझोतों से क्या सुधरेगा पाकिस्तान
बिन आदेश मुल्क पै भारी सेना के अच्छे हथियार, क्या समझे!! 116
......................................................................................................

+रमेशराज, 15\109, ईसानगर , अलीगढ-२०२००१
Mob.-9634551630

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

---***---

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=1$au=0

|कथा-कहानी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|लघुकथा_$type=complex$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|संस्मरण_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$va=1$com=0$s=200$src=random

|लोककथा_$type=blogging$au=0$count=5$page=1$com=0$va=1$src=random

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3822,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2762,कहानी,2094,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,234,लघुकथा,816,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,307,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1905,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,642,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,685,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,66,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: ककड़ी के चोरों को फाँसी || प्रचलित लोककथनों पर आधारित-लम्बी तेवरी--तेवर-शतक || -रमेशराज
ककड़ी के चोरों को फाँसी || प्रचलित लोककथनों पर आधारित-लम्बी तेवरी--तेवर-शतक || -रमेशराज
https://lh3.googleusercontent.com/-acYhdnelV6w/V7lBgcerh_I/AAAAAAAAvkE/_EVtt3kraxM/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-acYhdnelV6w/V7lBgcerh_I/AAAAAAAAvkE/_EVtt3kraxM/s72-c/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/08/blog-post_21.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/08/blog-post_21.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ