रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

सावन की कविताएँ

image

अर्जुन सिंह नेगी

ऋतु सावन की

मेघ जल बरसा रहे

धरती की अग्न मिटा रहे

कलि कलि मुस्का रही

किसान ख़ुशी से झूम रहे

अपने खेतों को चूम रहे

पशुओं की आवाज आ रही

इन्द्रधनुष की छटा देखो

काली काली घटा देखो

हवा कोना कोना महका रही

वर्षा की चर चर लगी

मेंढकों की टर टर लगी

कोयल भी गीत गा रही

बादलों की गर्जन कहीं दूर

नाच रहे वन में मयूर

प्रकृति स्वयं को सजा रही

ऋतु सावन की सुहानी है

ये ऋतुओं की रानी है

‘अर्जुन’ को अत्यंत भा रही

अर्जुन सिंह नेगी

नारायण निवास, ग्राम व डाकघर कटगाँव

तहसील निचार जिला किन्नौर (हि० प्र०)

--------------------------------..

प्रिया देवांगन "प्रियू"

रिमझिम रिमझिम गिरता पानी

clip_image001
******************
रिमझिम रिमझिम गिरता पानी
छमछम नाचे गुड़िया रानी
चमक रही है चमचम बिजली
छिप गईं है प्यारी तितली
घनघोर घटा बादल में छाई
सबके मन में खुशियाँ लाई
नाच रहे हैं वन में मोर
चातक पपीहा करते शोर
चारों तरफ हरियाली छाई
सब किसान के मन को भाई
************************
रचना
प्रिया देवांगन "प्रियू"
गोपीबंद पारा पंडरिया
जिला -- कबीरधाम  ( छ ग )
मो नं -- 7697282458
Email -- priyadewangan1997@gmail.com

---------------..

राकेश रौशन

प्रेम का मौसम

clip_image002
बहे पवन पुरवाई सिहर-सिहर बदन
सिहर जाती है!
हो कौन सा देश बसे प्रियतम मेरे
बहुत याद तुम्हारी आती है!

नदिया नाले घाट टटोले
बंद दिल के दरवाजे खोले!
बंजारे की जीवन बन गई
आह निकलती पर जुबां ना बोले!
लोग कहे बौराना हो गई
देख-देख मुस्काती है
हो कौन सा - - - - -

बसंत गई बीत गई अदरा
ग्रीष्म बीती बीत गई बदरा!
बारह मास छः ऋतु बीती
रंगोली गीली छोर दी भीती!
हमें भी आस है तुम आओगे
ऐसा सब समझाती है
हो कौन सा - - - - -

नीर पराई हो गई मेरी
किसे साथ अब कहूं!
बिस्तर छुट्टी बिरह में तेरे
तुम ही बताओ अब कैसे रहूं!
सौतन बन गई रात हमारी
नींद कहां अब आती है
हो कौन सा देश - - - - -

राकेश रौशन  ( मनेर पोस्ट ऑफिस पटना )

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

बहुत सुन्दर नवांकुर की सावनी कविताएँ ..
प्रस्तुति हेतु आभार

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget