आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

कृष्णमय कविताएँ : कृष्णजन्माष्टमी विशेष कविताएँ

image

 

कृष्ण तुम पर क्या लिखूं !

सुशील शर्मा

कृष्ण तुम पर क्या लिखूं !कितना लिखूं !

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

 

प्रेम का सागर लिखूं !या चेतना का चिंतन लिंखू !

प्रीति की गागर लिखूं या आत्मा का मंथन लिंखू !

 

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

ज्ञानियों का गुंथन लिखूं या गाय का ग्वाला लिखूं !

 

कंस के लिए विष लिखूं या भक्तों का अमृत प्याला लिखूं।

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

 

पृथ्वी का मानव लिखूं या निर्लिप्त योगश्वर लिखूं।

चेतना चिंतक लिखूं या संतृप्त देवेश्वर लिखूं।

 

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

जेल में जन्मा लिखूं या गोकुल का पलना लिखूं।

 

देवकी की गोदी लिखूं या यशोदा का ललना लिखूं।

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

 

गोपियों का प्रिय लिखूं या राधा का प्रियतम लिखूं।

रुक्मणी का श्री लिखूं या सत्यभामा का श्रीतम लिखूं।

 

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

देवकी का नंदन लिखूं या यशोदा का लाल लिखूं।

 

वासुदेव का तनय लिखूं या नन्द का गोपाल लिखूं।

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

 

नदियों सा बहता लिखूं या सागर सा गहरा लिखूं।

झरनों सा झरता लिखूं या प्रकृति का चेहरा लिखूं।

 

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

आत्मतत्व चिंतन लिखूं या प्राणेश्वर परमात्मा लिखूं।

 

स्थिर चित्त योगी लिखूं या यताति सर्वात्मा लिखूं।

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

 

कृष्ण तुम पर क्या लिखूं !कितना लिखूं !

रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिंखू !

---

 

जन्माष्टमी हाइकु

सपना मांगलिक


1
ह्रदय टीस
क्यों बने तुम कान्हा
द्वारकाधीश।


2
चराऊँ गैया
दाऊ माखन खायो
मैं नहीं मैया।


3
बहाने झूठे
बनावे नटखट
ज्यों मैया रूठे।


4
सब झूठे हैं
तू नहीं जग पाला
मेरो है लाला।


5
बात सुने न
नटवर नागर
छीने गागर।


6
मुकुट मोर
मुख दधि लपेटे
माखन चोर।


7
बृज गलिन
राह तकती गोपी
मुख मलिन।


सपना मांगलिक
आगरा

टिप्पणियाँ

  1. श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर "क्या लिखू" कविता अद्भुत है..अपरिभाषित श्रीकृष्ण की जय हो...सादर बंदन

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.