-------------------

आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

कहानी / औरत / जयश्री जाजू

औरत

image
"आज फिर वहीं किटकिट | रोज की ऐसी जिल्लत से तो भगवान तू मुझे अपने पास क्यों नहीं बुला लेता ? आखिर तेरे दर पर तो मेरे लिए कोई जगह होगी |"
इस तरह की बातें रचना रोज ही सोचती है | जब कभी उसके साथ घर-परिवार का सदस्य  कुछ कह दे वह किसी और दुनिया में चली जाती है | नितांत अकेली, रोती रहेगी और अपने आपको कोसती रहेगी | उसके दुःख में वह किसी को शामिल करना भी नहीं चाहती | वह सोचती है यदि किसी को कुछ बता दिया तो लोग उसके बारे में क्या सोचेंगे | यही न कि रचना की कोई वैल्यू नहीं करता | खैर किसी तरह  उसने अपनी आदतानुसार पांच छ: घंटे भगवान् की मूर्ति के पास बैठ कर खुद को ,पति को कोसती रही | थोड़ा मन शांत हुआ तो अपने कमरे में जाकर सो गई | भला आँखों में नींद भी कहाँ थी उसे अपनी बीती जिन्दगी याद आने लगी और वह अपने आप से ही बतियाने लगती है |


           जब माँ की कोख से मेरा  जन्म हुआ तो माँ के द्वारा ही बताया हुआ याद करती है कि उसे कोई पसंद नहीं करता था , जब वह रोती थी तो कोई उसे पुचकारता नहीं था | थोड़ी बड़ी हुई बस घर के एक कोने में बैठी रहती थी | कोई रोती का टुकड़ा दे देता उसे चबाती रहती | ये सब बातें उसे अन्दर से तोड़ देती थी | उसका जुर्म क्या है -- लड़की होना | घर में सब ने लडके की कामना  की और उसका आ जाना | इसमें उसकी क्या गलती थी ?


           जब मुझे थोड़ी  समझ आई तो मैंने अपने आपको बिलकुल ही अकेला पाया | मैं अन्तर्मुखी बन गई | मैं अपने आपसे बात करती और भगवान के चित्रों को देखकर उनसे बात करती | मेरी बहन हमेशा अपनी सहेलियों के बीच रहती और मैं उसके पीछे किन्तु वह पसंद नहीं करती थी मेरा इस तरह उसके पीछे आना | मेरी बहन को  मेरी दादी,दादा,पिताजी,घर -बस्ती परिवार के अन्य लोग सभी उसे पसंद करते उसे प्यार से खाना खिलाते उसका प्रत्येक कार्य करते और जब मैं कुछ कहती तो मुझे झिड़क कर दूर कर देते | बचपन से ही किसी के साथ अपनी बात कह पाऊं इतनी हिम्मत ही नहीं रही क्योंकि जब कभी मैं बोलती मुझे चुप करा दिया जाता |


          धीरे धीरे मैं तरुण हुई ,लेकिन मुझमें कोई बदलाव नहीं आया क्योंकि मेरे प्रति माहौल जो नहीं बदला | मेरी पढाई भी बस ठीक ठाक हुई | घर की जिम्मेदारी संभालती हुई, घर के छोटे-छोटे काम करते हुए कब मैंने अपने ऊपर सभी काम की जिम्मेदारी ली पता नहीं चला किन्तु इस चीज से किसी को कोई अंतर न पड़ा न पड़ने वाला था |


          लोग घर में ताने देने लगे कि बड़ी लड़की को कब तक घर में बिठाकर रखोगे तब घर वालों को सुधि हुई उन्होंने मेरी शादी करा दी | मैं भी सपने बुनने लगी कि चलो कम से कम अब मेरा पति मुझे समझेगा | स्वप्न तो शादी के बाद टूटा | ससुराल में भी मुझे किसी से बोलने की अनुमति नहीं थी | बस काम और बचा खुचा खाना | मेरे तथाकथित स्वामी उन्हें मेरे से कोई सहनुभूति नहीं थी बस मैं उनकी माँ को, परिवार के सदस्य को खुश रखुं तो मैं ठीक वरना ...... आगे क्या बताऊँ | मेरे पति  की माँ खुश होना जानती ही नहीं थी | जब देखो तब वह कमियाँ निकालने में जुटी रहती | और मौका तलाशती कि कब अपने बेटे से मुझे पिटवाए |


           समय कब रुकता है वह भी अपने गति से आगे बढ़ता जाता है | मैं भी माँ बनी नन्हा मुन्ना मेरे जीवन में भी आया | उसके सहारे मैंने अपने दिन काटने शुरू किए | मेरे जीवन में बच्चे के कारण बहार आई और मैं सुधबुध खोकर उनको बड़ा करने में लग गई | अब मेरे सामने सिर्फ एक ही लक्ष्य कि जो काम मैं न कर पाई उसे मैं बेटे के जरिये करूँ | मेरी बड़ी ख्वाहिश थी कि पढूँ किन्तु मैं नहीं पढ़ पाई, उस ख्वाब को मैं बेटे के माध्यम से पूरा करना चाह रही थी | और मैं कर भी रही थी |


            बेटा जवान हो गया, पति ने तो कभी मुझे सम्मान दिया नहीं किन्तु बेटे से जरूर मैं सम्मान पाने की आशा रखती थी | मेरा ये सपना तब टुटा जब मैंने अपने बेटे से कुछ पूछना चाह रही थी,मैं उससे बात करना चाह रही थी और उसका अनजान बनना मुझे अन्दर तक तोड़ गया |


       किस पर भरोसा करें, जन्म देने वाले माता-पिता पर,जीवन भर साथ निभाने वाले साथी पर या अपनी कोख से पैदा  की हुई औलाद पर | सच में किसी ने क्या खूब कहा --"हाय औरत तेरी यही कहानी, आँचल में दूध और आँखों में पानी |"


              धन्यवाद
जयश्री जाजू

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.