मंगलवार, 23 अगस्त 2016

दुःस्वप्न / कविता / मोहन वर्मा

image

ऐसा अक्सर ही होता है
रात देर गए मैं सो नहीं पाता हूँ
घर से बाहर निकल आता हूँ
सांय-सांय करते अँधियारे में दूर तलक
मृतप्राय सड़क चुपचाप लेटी है
अचानक कहीं से एक मोटर कार आ खड़ी होती है
कुछ धुँधली परछाइयाँ
चार दलित युवकों को नंगा कर
बाँध रही हैं उनको पीछे जंजीरों से
और बाकी परछाइयाँ
गऊ चमड़े से बनी पेटी से
उन पर कर रहीं हैं वार
मैं इन परछाइयों को पहचानता हूँ, जानता हूँ
कल ही तो इन्होंने एक बूढ़े आदमी को मार डाला था
उसके फ्रिज़ में रखा था मांस, कौन जाने किस का था 
रेंगती हुयी मोटर कार घसीट रही है युवकों को
और मैं नंगे पाँव दौड़ रहा हूँ उनके पीछे
परन्तु घर्र-घर्र करती मोटर कार तुरन्त अदृश्य हो जाती है।

मैं अभी ठीक से साँस भी नहीं ले पाया हूँ
तूफान की तरह आती हुयी एक बस
फुर्र से मेरी बग़ल से निकल जाती है
और फेंक जाती है सड़क पर
दो अधमरे शव
एक युवक, एक युवती का
सड़क उनके खून से भर जाती है
रक्त का दरिया बन जाती है
वे लोथड़े बन कभी डूबते हैं, कभी उभरते हैं
मैं तैर कर उन तक पहुँचने की कोशिश करता हूँ 
मगर उस रक्त के सागर में
नीचे और नीचे डूबता चला जाता हूँ।

ऐसा अक्सर ही होता है
रात देर गए मैं सो नहीं पाता हूँ
घर से बाहर निकल आता हूँ
ऊजड़ खेत पटे पड़े हैं
युद्ध पीड़ित सीरियन शरणार्थियों से
जो भारी कदम धरते
किसी आश्रय की तलाश में बढ़ रहे हैं आगे
और मैं एक घायल बालक को बांहों में थामे
रेंग रहा हूँ उनके बीच आगे और आगे।

ऐसा अक्सर ही होता है
रात देर गए मैं सो नहीं पाता हूँ
घर से बाहर निकल आता हूँ
भागता रहता हूँ
भाएँ-भाएँ करती तंग गलियों में
कोई भी तो नहीं है कहीं
सिवाय एक ड्रोन के
जो तेज़ी से कर रहा है मेरा पीछा
मैं जानता हूँ - उनके लिए मैं एक ख़तरा हूँ
आरोप है -
भड़काने वाली बातें जो करता हूँ
ठायं-ठायं एक साथ दाग़ी जाती हैं बंदूकें  
पर मैं मरने वाला कहाँ हूँ
पहाड़ की चोटी पर अविचल खड़ा हूँ।

ऐसा अक्सर ही होता है
रात देर गए मैं सो नहीं पाता हूँ। 

...................................................................................................................

बद्री वर्मा (मोहन वर्मा)
प्रोफेसर एमेरिटस, मैथेमेटिक्स डिपार्टमेंट, यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन, फॉक्स वैली, अमेरिका                                                    टेलीफोन: (920) 731-0834
फैक्स: (920) 832-2674
Email: bvarma@uwc.edu
1478 Midway Road, Menasha WI 54952-1297

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------