आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

शालिनी मुखरैया की दो लघुकथाएँ

दो लघु कथाएं

01़ अंतर

"बधाई हो बहनजी - बिटिया का रिश्ता तय हो गया" सरोज ने पड़ोस की शर्माइन को बधाई दी ।

शर्माइन बहुत खुश थीं - आखिर उनके मन से बहुत भारी बोझ जो उतर गया था। वह बड़े हर्ष से सरोज को बिटिया की ससुराल वालों के बारे में बता रहीं थीं।

"बड़े ही खुले विचारों वाली ससुराल मिली है हमारी गुड़िया को" शर्माइन की ऑखों में संतोष की चमक थी।" वरना मैं तो परेशान थी कि न जाने कैसे लोग होंगे।" "किसी प्रकार का कोई बंधन नहीं है - हमारी गुड़िया के तो भाग्य ही खुल गये ।"

"जैसा चाहो वैसे रहो - चाहे साड़ी पहनो या सलवार सूट किसी भी प्रकार की कोई पाबंदी नहीं है । यहाँ तक कि जींस टॉप भी पहन सकती है ।"

"सच में बहुत अच्छा ससुराल मिला है" शर्माइन अपनी रौ में बोलती जा रहीं थीं ।

सरोज हैरान हो कर कभी शर्माइन का चेहरा देख रही थी तो कभी दरवाज़े के पीछे घूँघट की ओट में झांकती हुई बहू का चेहरा देख रही थी जिसकी आँखों में छिपा दर्द वह महसूस कर पा रही थी

…………………………………………………………………………………………………………………………………

02। कंजूसी

"न जाने कितनी बार समझाया है जरा दीये में घी कम डाला कर। जब देखो मंदिर का दीया पूरा भरता है आखिर कितनी मंहगाई का जमाना है । पता नहीं है इसे कि आखिर कितनी मेहनत से पैसा कमाया जाता है" गुप्ता जी अपने पुत्र पर गुस्सा हो रहे थे ।

"अरे भगवान का दीया ही तो जलाना है - उसके लिये इतना मंहगा घी बर्बाद करने की क्या ज़रूरत है"

"खाना लगा दूँ क्या" गुप्ता जी की पत्नी ने पूछा

"ले आओ - बहुत जोरों की भूख लगी है" । गुप्ताजी की पत्नी भोजन की थाली ले कर आयीं तो गुप्ता जी थाली में कम घी की रोटी देख कर बिफर गये।

"क्या सूखी रोटी ले कर आयी हो - मुझे बीमार समझ रखा है क्या"

"जाओ अच्छे से घी में तर रोटी ले कर आओ" गुप्ता जी पत्नी पर दहाड़े।

गुप्ता जी का पुत्र इस अंतर को समझने की कोशिश कर रहा था कि जिस भगवान की कृपा से आज

वह लोग घी से चुपड़ी रोटी खा रहे हैं तो उसकी पूजा के लिये इतनी कंजूसी क्यों ………………

शालिनी मुखरैया विशेष सहायक

मेडिकल रोड - अलीगढ़

03।09।2016

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.