विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

गणेश चतुर्थी विशेष आलेख / गणाध्यक्ष के प्रतीक हैं श्री गणपतिजी / गजानंद प्रसाद देवांगन

image

भारत में गणतंत्र शासन प्रणाली पहली बार नहीं है । इसके पूर्व भी हमारे भारत ने समृद्ध और विकासशील गणतंत्र राष्ट्र के रूप में उभरकर , विश्व का अनेकों बार मार्गदशन किया है । पौराणिक आख्यानों और ऐतिहासिक तथ्यात्मक विवेचनाओं के अध्ययन करने पर पता चलता है कि भारत विश्व राष्ट्र संघ का अध्यक्ष भी रहा है । आज भारत सहित विश्व के कई गणराज्यों , उपनिवेशों और अधिनायकवादी राज्यों में अस्थिरता , अशांति और घोर निराशा व्याप्त है । कारण कमोवेश सभी को ज्ञात है । पतितोन्मुखी विश्व को विनाश से बचाया जा सकता है । इसके लिये स्वार्थ पटुता से उबरकर , कर्तव्यनिष्ठा को प्रमाणित करना होगा । व्यक्तिनिष्ठ महत्वाकांक्षा से मुक्त रहकर आम लोगों को कुंठा और निराशा से उबारने के लिये भागीरथी प्रयास करने पड़ेंगे सभी को ।

धर्म के दुरूपयोग और राजनीति के अपराधीकरण से बचने और राष्ट्र को बचाने के लिये , गणतंत्र राष्ट्र के नायक लोग गणाध्यक्ष के गुण , कर्म , स्वभाव , स्वरूप और हेतु को यथार्थ रूप में जानकर उसका पालन भी करें । तभी वे अपने दायित्वों का त्रुटिरहित और सफलतापूर्वक निर्वहन कर सकते हैं । अभिप्राय है राजनीतिज्ञों की राष्ट्रीय नीति कैसी होनी चाहिये ? अनुकरणार्थ उन्हे इसके एक रोल माडल अर्थात नमूने की आवश्यकता है । मेरी जानकारी के अनुसार गणाध्यक्ष श्रीगणपति जी से श्रेष्ठ कोई दूसरा आदर्श उदाहरण नही है , गणतंत्र के लिये । जो गणाध्यक्ष निर्वाचित होता है उसमें जिन जिन गुणों की आवश्यकता होती है , वह सब गणपति जी में समाविष्ट है ।

गणाध्यक्ष के प्रतीक हैं श्री गणपति जी । इनका आचरण , क्रियाकलाप और लीला आदि गणाध्यक्षों अर्थात राजनैतिक लोगों के लिये उनके नेतृत्व क्षमता को बढ़ाने के लिये लोकहितकारी आचार संहिता है । श्री गणपतिजी को समझने के लिये उनका सांगोपांग वर्णन पूर्णतया प्रासंगिक होगा , किंतु अपारचरितानाम हैं श्री गणपति जी । इसलिये उनका सूत्रात्मक और प्रतीकात्मक संक्षिप्त विवेचन ही संभव , उचित और उपयोगी होगा ।

विशिष्ट बुद्धिमान , बहुश्रुत सारग्रही , निष्पक्ष न्यायकर्ता , सूक्ष्मदर्शी , दूरदर्शी , शाश्वत प्रतिष्ठित व्यवहार , परमार्थ का समन्वयक , वाणी का अंत:प्रयोक्ता , भावग्रही , हृदयवान , क्रियाशील , अभय बल , ऐश्वर्य आनंद प्रदाता , गम्भीर रहस्यवान कुशल राजनैतिज्ञ , अपराजित योद्धा , रिद्धि सिद्धि दायक , तर्काधिपति , जनप्रियनाम आदि अगणित गुणों से युक्त हैं श्री गणेश जी ।

शुक्ल यजुर्वेद के 23/19 के अनुसार “ गणानां त्वा गणपति “ , गणपति का अर्थ उदबोधन सूत्रात्मक मंत्र है । दरअसल गण शब्द समूह का वाचक है । समूहों के स्वामी होने वाले परम शक्तिवान को गणपति कहते हैं ।

“ गणयंते बुद्धयते ते गणा:” सम्पूर्ण दृश्यवान गण है और उसका जो अभिज्ञान है – वही गणपति है ।

ज्ञानार्थवाचकों गश्च , पश्च निर्वाणवाचक: ।

त्योरीश पर ब्रम्ह , गणेश प्रणम्यहम ।

व्याकरण शास्त्र के अनुसार “ अस्टौ विनायक: “ गणपति है । मतलब छ्न्द शास्त्र में आठ गण है – यगण , मगण , तगण , रगण , जगण , भगण , नगण , सगण , आदि जो कुछ गणना में आता है अर्थात जो दृश्यमान है और जो दृष्टिगोचर भी नही होता ऐसे भाव , सम्वेदना और स्थितियों के भी पति होने से वे गणपति हैं ।

गणपति का दार्शनिक ,तात्विक और मीमांसक अर्थ कुछ इस प्रकार भी है । श्री गणपति जी सत – चित – आनंद तीनों से विभूषित हैं । वे सत्ता , ज्ञान, सुख तीनों के रक्षक हैं । वे जागृत , स्वप्न , सुषुप्ति तीनों से तुरीय हैं । परा - पश्यंति – मध्यमा और बैखरी वाणी में दृष्टिगोचर होते हैं । श्री गणपति जी पृथ्वी – अंतरिक्ष – स्वर्ग तीनों के स्वामी एवं देव – मानव - दानव गण के पति होने से गणपति हैं ।

भारतीय संस्कृति और उत्सव , निबंध में स्व. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी जी ने गणपति जी के बारह प्रसिद्ध नामों की व्याख्या उनके स्वरूप एवं गुणों की गरिमा के साथ किया है , वह दृष्टव्य है – सबसे पहले गणेश जी के लिये “ सुमुख ” शब्द का प्रयोग किया गया है । सुमुख का अर्थ होता – वह व्यक्ति जिसका मुख सुंदर हो । गणेश जी की जो मूर्ति बनायी जाती है उसे देखकर कोई भी यह नही कह सकता कि वे सुमुख हैं । तब उनके लिये इस शब्द का प्रयोग क्यों किया गया । बात यह है कि सुमुख का यथार्थ सौंदर्य , आकृति में नहीं , प्रकृति और वचन में है । सत्य , प्रिय और मनोहारी सुनने वालों के लिये हितकारी और भविष्य में भी श्रेष्ठ फल प्रदान कराने वाली वाणी बोलने वाला मुख , सुंदर अर्थात सुमुख माना जाता है । गणेश जी इन्हीं अर्थों में सुमुख हैं । अभिप्राय है कि गणतंत्र के अध्यक्ष के लिये जो गुण सबसे अधिक जरूरी है , वह है – उसमें उत्तम वाणी का सच्चा वैभव होना चाहिये । मधुर वचन के साथ वाणी में सत्यता और पटुता भी आवश्यक है ।

गणपति का दूसरा नाम है एकदंत । निष्पक्ष न्यायकारी की नीति और अनुशासन से ही राष्ट्र की व्यवस्था स्थिर रहती है ।लोक प्रसिद्ध कहावत है कि जिसके खाने के दांत और दिखाने के दांत और होते हैं – ऐसे पक्षधर मुखिया के द्वारा अन्याय ही होता है । तात्पर्य यह कि पक्षपात रहित नीति रखने के लिये यह आवश्यक है कि जो अध्यक्ष हो उसे एकदंत अर्थात निष्पक्ष होना चाहिये ।

गणेश जी का तीसरा नाम कपिल है । गणेश जी उत्साह की लालिमा से युक्त हैं । जिनमें उत्साह की दीप्ति रहती है , उनके मुख पर सदैव लालिमा रहती है । निस्तेज व्यक्ति का मुख पीला पड़ जाता है । कर्तव्यनिष्ठ गणाध्यक्ष के लिये यह आवश्यक है कि उसमें उत्साह की स्फूर्ति हो ।

श्री गणेश जी गजकर्णक अर्थात हाथी के बड़े बड़े सूप जैसे कान वाले हैं । बड़े कान का अभिप्राय है सबकी बातें सुनने वाला और सूप जैसे आकृति का संकेत है – “ सार सार को गहि रहियो थोथा दई उड़ाय “ जो थोड़े ही लोगों की बातें सुनते व बिना विचार किये मान लेते हैं ऐसे लोग कान के कच्चे होते हैं । गणाध्यक्ष को चाहिये कि वह सभी लोगों की बातें सुनें और सार सार बातों को ग्रहण करे ।

श्री गणेश जी लम्बोदर हैं , जिसका अर्थ है बड़ा पेट वाला । बड़ा पेट का मतलब है सबकी बातें सुनकर पचा लेने वाला । एक की बात सुनकर तुरंत दूसरों से कह दे वह लम्बोदर नही हो सकता । जो उथली पेट वाला है , उनसे अपनी बात कहना लोग उचित नही समझते । सबकी बातों को सुन समझकर , धारण और व्यक्त करने के गुण वाला व्यक्ति ही गणाध्यक्ष होता है ।

कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी धैर्यवान और अत्याचारियों के दमन के लिये शक्तिमान ऐसे रौद्र रूप वाले श्री गणेश जी अदभुत तेज के कारण विकट भी हैं । विषम परिस्थितियों में भी धीरज न छोड़े , जिनसे दुष्ट लोग सतर्क एवं सज्जन लोग स्वतंत्र रहकर कार्य करें , गणतंत्र का अध्यक्ष ऐसे विकटगुणों से युक्त होता है ।

विघ्नोंको दूर करने में समर्थ होने से और सबके कार्य निर्विघ्न सम्पन्न करा देने वाले देवता होने के से गणेश जी विघ्नहर्ता हैं , जिनके स्वाभाव और प्रभाव के कारण , बिना किसी अड़चन के रचनात्मक कार्य करने में प्रजा सफल रहती है , वही गणतंत्र का अध्यक्ष होता है ।

राष्ट्र में सुख – समृद्धि का अर्थ यह है कि , सभी लोग अपने अपने घरों में भरपेट खाते पीते व सुखपूर्वक निवास करते हैं । किसी भी नगर में प्रवेश करते समय यदि हम देखते हैं कि सबके रसोई घर से धुआं निकल रहा है , तब स्पष्ट रूप से जान लेते हैं कि सभी घर रसोई बन रही है । मतलब यह कि सभी लोग समृद्धावस्था जीवन व्यतीत कर रहे हैं । विवेक मूर्ति श्री गणेश जी का नाम धूमकेतु इन्हीं अर्थॉं में समझा जाना चाहिये । जिनके राष्ट्र में सभी घरों में रसोई बनती रही हो , ऐसा गणाध्यक्ष गौरध्वज को धारण करने वाले होते हैं ।

गणानां पतिं: गणपति: अर्थात गणों के पति ही गणपति हैं , जो दृश्य और अदृश्य दोनों हैं , जिस पर सबकी जवाबदारी है और जो उस दायित्व और स्वामित्व का निर्वाह करने में पूर्णरूपेण सक्षम है वह व्यक्ति गणपति होता है ।

लेखक – गजानंद प्रसाद देवांगन , छुरा

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget