रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

व्यंग्य के बहाने / अनूप शुक्ल

SHARE:

हाल ही में "व्यंग्य और साहित्य में मठाधीशी" पर एक दिलचस्प बहस हुई. लीजिए आप भी कूदिए! - अनूप शुक्ल बीते कल 08:03 पूर्वाह्न बज...

हाल ही में "व्यंग्य और साहित्य में मठाधीशी" पर एक दिलचस्प बहस हुई. लीजिए आप भी कूदिए! -

image

अनूप शुक्ल

बीते कल 08:03 पूर्वाह्न बजे · 

clip_image001[4]

व्यंग्य के बहाने
----------------
"अनूप शुक्ल कहते हैं कि कोई मठाधीशी नहीं है| हँसी आती है उनकी सीमित ज्ञान और अनुभव पर आधारित मान्यताओं पर| अरे, लिखने से पहले किसी भी अच्छे लेखक से पूछकर तो देख लेते| मसलन सुशील सिद्धार्थ से ही| जिन्होंने अपनी जगह बना तो ली, अगर वैसा कहा जा सके तो, पर कितने अवरोधों और उपेक्षाओं से पार पाने के बाद!"

यह बात सुरेश कांत जी ने अपनी 2 सितम्बर की एक पोस्ट में ’प्रभात खबर’ में छपा एक लेख साझा करते हुये कही (पोस्ट का लिंक यह रहाhttps://www.facebook.com/profile.php…)

मैंने जो लिखा था वह यह था :

" आज की तारीख में छपने, छपाने, पाठकों तक पहुंचने की जैसी सुविधा है उसके चलते मठाधीशी जैसी स्थिति कत्तई सम्भव नहीं है। अगर किसी के पास लिखने का हुनर है तो उसको छापने के अनगिनत मंच हैं। अगर कोई अच्छा लिखता है तो वह किसी ने किसी तरीके से देर-सबेर लोगों तक पहुंचता ही है। कोई भी खलीफ़ा किसी को अपने पाठकों तक पहुंचने से रोक नहीं सकता। किसी की मठाधीशी नहीं चल सकती आज के समय में किसी भी विधा में। लोग अपने-अपने ग्रुप बनाकर अपने पसंदीदा की तारीफ़ करें, अपने पसंदीदा को देवता बनाकर पूजें वह बात अलग है। संविधान भी अनुमति देता है अपने हिसाब से पूजा पाठ के लिये। "

सुरेश जी की पोस्ट पर मैंने टिप्पणी करते हुये लिखा था कि इस बात पर फ़िर कभी लिखूंगा।

सुरेश जी ने हमारी बात को सीमित ज्ञान और अनुभव पर आधारित मान्यता बताते हुये किसी अच्छे लेखक से पूछने की सलाह दी। मसलन सुशील सिद्धार्थ से ही। सुशील सिद्धार्थ को ’मसलन’ हम भी अच्छा लेखक मानते हैं लेकिन फ़ेसबुक पर उन्होंने हमको ब्लाक कर रखा है क्योंकि हमने एक लेख में ज्ञान जी (जिनको सुशील जी व्यंग्य लेखन में देवता मानते हैं) एक लेख पर उनके लेख के विपरीत टिप्पणी की थी। तो उनसे कैसे पूछे?

यह तो खैर मजे लेने की बात हुई। आज सुशील जी से बात हुई व्हाट्सएप पर तो उन्होंने सुरेश जी बात को उनका बड़प्पन बताया, सुरेश जी के लिये नमस्कार पठाया और उनकी बात को विचारणीय बताया।मठाधीशी बहुत दिन चली। नामवर सिंह, कालिया, राजेन्द्र यादव, कमलेश्वर की बहुत चली। आज भी किसी न किसी रूप में जारी है। ये रूप इतने स्थूल नहीं हैं जितने हम समझ रहे हैं। इसके पहले उन्होंने यह भी कहा -आज, यह कहा आपने तो सोशल मीडिया आने के बाद कम हुई है (मठाधीशी)

हमारी बात आज के ही संदर्भ में थी। आज सोशल मीडिया में हर व्यक्ति को यह सुविधा है कि वह अपना लिखा हुआ कूड़ा या कालजयी लेखन दुनिया भर में पहुंचा सकता है। किसी संपादक की कृपा का मोहताज नहीं है कोई। अखबारों, पत्रिकाओं में छपना आज भी अच्छा लगता है लेकिन अगर लिखा अच्छा है तो अखबार चुराकर छापेंगे।

हम अपने अनुभव से जो जानते हैं वह यह है कि आज के समय में अगर कोई अच्छा लिखता है तो उसके लिखे को सामने आने से कोई रोक नहीं सकता। किसी को अगर लगता है कि उसकी मठाधीशी चल रही है तो वह भरम में ही होगा। हाँ, लाभ के पद पर कोई है तो उपकृत करने का धंधा करते हुए तात्कालिक फायदे कोई किसी को भले पहुंचा सकता हो। कोई किसी की किताबें छपवा दे, कोई किसी को इनाम दिलवा दे, कोई किसी को महान घोषित करा दे, कोई किसी की कृति को महानतम बता दे।

इसके उलट किसी के बारे में प्रायोजित नकारात्मक प्रचार भी किया जा सकता है। किसी कृति को खराब बताते हुए उसकी ऐसी-तैसी कर सकता है कोई। जैसी 'हम न मरब' की व्यंग्य यात्रा में छपे लेख में की गयी। पर इससे उस कृति का कुछ बिगड़ता कुछ नहीं। उलटे प्रचार ही होता है। हमने जब उस लेख के बारे में पढ़ा तो किताब मंगवाई। उसको पढ़ा। उसके बारे में लिखा। फिर कल वह लेख मंगवाया। लेख और किताब दोनों पढ़ने के बाद यही लगा कि लेख एकांगी है। वह केवल गालियों पर केंद्रित है। उपन्यास , बावजूद तमाम गालियों के, बेहतरीन उपन्यास है। व्यंग्य या फिर उपन्यास के इतिहास वह उपन्यास कहाँ रखा जाएगा यह समय बताएगा।

मठाधीशी इनाम लेने- देने में हो सकती है। ज्यादा समय जो जिस विधा में रहा और पहले आने के चलते अपनी प्रतिभा या जुगाड़ से इनाम कमेटियों में घुस गया वह अपने पसंद के लोगों को इनाम-विनाम दिलवा सकता है। यह भी कर सकता है कोई कि किसी को 5 लाख इनाम दिलाने में किसी ने सहयोग किया इसके बाद टिप के रूप में 5 लाख इनाम पाने वाले ने इनाम दिलाने वाले को 1 लाख रूपये का इनाम अपनी माता-पिता के नाम ट्रस्ट बनाकर दिला दिया। 4 चार तो बचा लिए। यह काम लोग जितने गुपचुप तरीके से और मासूमियत से करते हैं लोगों को उतनी ही तेजी से इनका पता चलता है। लेकिन इस तरह के काम तो जीवन के हर क्षेत्र में हो रहे हैं। बेचारा व्यंग्यकार ही क्यों इनसे वंचित रहे।

मठाधीशी का हल्ला कुछ आदतन भी मचाया जाता है। शायद यह लगता है कि बिना विरोध हुए प्रसिद्धि नहीं मिलती इसलिए लोगों के विरोध कम उपेक्षा को लोग बढ़ाचढ़ाकर प्रचारित करते हैं। स्यापा करते हैं। दो चार लोगों के विरोध को 'इंट्रीगेट करके' पूरे जहां का विरोध बताते हैं। कुछ ऐसा जैसा गीतकार उपेन्द्र जी बताते हैं:

'माना जीवन में बहुत-बहुत तम है
लेकिन तम से ज्यादा तम का मातम है।'

मेरा अपना अनुभव है कि अगर आज कोई बढ़िया लिखता है तो उसके लेखन को कोई सामने आने रोक नहीं सकता है। हो सकता है दुर्भावनावश कोई उपेक्षा करे या विपरीत विचार व्यक्त करे लेकिन अगर कोई अच्छा लिखता है तो लोग उसके लेखन तक अवश्य पहुंचेंगे। कोई इसको रोक नहीं सकता। पाठक जिक्र करते हैं, लेखक बताते हैं कि फलाने का लिखा पढ़ो।

आज के समय लेखन का लोगों तक पहुंचना आसान है। रांची में छपा 'प्रभात खबर' में छपा मुंबई वाले और मुंबई में छपे नवभारत टाइम्स का कालम न्यूयार्क में छपने के फ़ौरन बाद पढ़ा जा सकता है। कोई अच्छा लिखता है तो उसके लिंक वायरल होते हैं। परसाई जी के उद्धरण हमने पोस्ट किये तो सैकड़ों लोगों ने साझा किये। अच्छे लेखन सुगन्ध की तरह अपने आप फैलता है। उसको बहुत दिनों तक दबाया नहीं जा सकता। वह लोगों तक पहुंचेगी ही। देर भले हो जाए पहुंचने में लेकिन पहुंचेगी जरूर।

बाकियों के अनुभव पता नहीं कैसे रहे होंगे लेकिन मुझे तो यही लगता है कि आज के समय में लेखन के क्षेत्र में किसी की मठाधीशी चल नहीं सकती। जो कभी मठाधीश रहे भी होंगे उनके हाल आज के संचार के युग में रागदरबारी के दूरबीन सिंह सरीखे ही होते जाएंगे।

यह मेरा मानना है। अपने अनुभव और विश्वास के आधार पर। कोई मठाधीशी लेखन और खासकर व्यंग्य लेखन के क्षेत्र में चल नहीँ सकती।

आपका क्या मानना है?

 

टिप्पणियाँ

clip_image002[4]

संतोष त्रिवेदी अफ़सोस की बात यह कि अब मठाधीशी में भी कम्पटीशन मचा हुआ है।जिनसे बहुत उम्मीदें थीं,वे व्यंग्य के केजरीवाल निकल गए।कोई कितना गिर रहा है,यह हमारी समस्या नहीं,उसकी प्रतिभा का कमाल है।आगे-आगे देखिए, होता है क्या! अभी तो साहित्य में घटियागीरी के उच्चतम मानदंड स्थापित होने हैं।

 

clip_image003[14]

अनूप शुक्ल हरेक का अपना नजरिया होता है। वैसे जब जीवन के अन्य क्षेत्रों में फ़िसलपट्टी लगी हुई है तो साहित्य बेचारे ने क्या गुनाह किया है जो यहां पतन की सुविधा न हो ! :)

 

clip_image004[4]

Nirmal Gupta व्यंग्य के केजरीवाल तो कोई नहीं वीभत्स रस के प्रणेता अनेक हैं।

 

clip_image005[6]

Arvind Tiwari सुलझी हुई पोस्ट बायस्ड को आईना दिखाने वाली।पर यह गलत है की आपसे हम सहमत न हों तो आप हमें अन्फ्रेंड कर दें।रविन्द्र नाथ त्यगी ने एक बार कहा था ज्ञान चतुर्वेदी प्रायः बहुत अच्छा लिखते हैं लेकिन कभी कभी बहुत ख़राब लिखते हैं।वाल्टेयर ने कहा है हो सकता है मै...और देखें

 

clip_image003[15]

अनूप शुक्ल असल में लिखने-पढने की दुनिया में जो लोग छपने-छपाने वाले हलके से संबंधित रहे हैं उनको सोशल मीडिया को बैपरना सीखना बाकी है। यहां संबंध बड़े-छोटे या जूनियर-सीनियर जूनियर के नहीं चलते। यहां संबंध बराबरी के होते हैं। होंगे आप खलीफ़ा अपने क्षेत्र के लेकिन यहां दोस्ती में मामला बराबरी का रहता है। असहमति होने पर अनफ़्रेंड करना, ब्लाक करना बचकानापन है। लेकिन यह सीखने में समय लगता है। किसी लेखक को देवता बनाकर प्रचारित करना और उस लेखक का इस पर मौन रहना । नंदन जी की कविता पंक्ति अनायास याद आती है:
"बड़े से बड़े हादसे पर
समरस बने रहना
सिर्फ देखना और कुछ न कहना
ओह कितनी बड़ी सज़ा है
ऐसा ईश्वर बनकर रहना!"
बाकी किसी लेखक की किसी से तुलना करना भी बहुत ठीक नहीं लगता। परसाई जी से मेरी समझ में किसी और व्यंग्य लेखक की तुलना परसाई जी और उस लेखक के साथ भी अन्याय है। परसाई जी के लेखन की संवेदना बहुत विराट है। वे लेखन के अलावा शिक्षक भी थे। उन्होंने अपने समय जो किया वह आज किसी और के बस की बात भी नहीं। ’रागदरबारी’ के बारे में आपकी बात से सहमत ! :)
ज्ञानजी के बारे में त्यागी जी ने जो कहा वे कह सकते हैं। हमें अभी उनको और अच्छे से पढ़ना है। अफ़सोस त्यागी जी से मिलने का सुयोग न मिला। :)

 

clip_image006[8]

Arvind Tiwari मैं दो बार मिला।पत्र व्यवहार भी रहा।9 मई को उनका जन्मदिन भूल गया क्योंकि पत्नो मरणासन्न थी।फ़िर कभी लिखूँगा।

 

clip_image007[4]

Surendra Mohan Sharma मुझे तो साहित्य और विशेषकर व्यंग में समूहवाद की तुक ही समझ नहीं आती ।
समूहवाद ही मठाधीशी को जन्म देता है ।

2 · बीते कल 10:04 पूर्वाह्न बजे

clip_image008[6]

Ramesh Tiwari होंगे आप खलीफा अपने क्षेत्र के लेकिन यहाँ दोस्ती में मामला बराबरी का रहता है। मैं इतना ही पढ़कर आनंदित हूँ । कभी-कभी किसी मित्र की भाषा में अशालीनता या गाली-गलौज हो तो उनको चेतावनी देकर पाँच मिनट का समय देता हूँ। सुधार कर लें तो बेहतर अन्यथा बताते हुए अमित्र करता हूँ। ब्लॉक करने लायक मित्र तो हम बनाते ही नहीं हैं । यह सार्वजनिक मंच है, हमें भाषा भी सबकी मर्यादाओं को ध्यान रखकर ही प्रयोग करनी होगी । आपके ये विचार स्थायी महत्व रखते हैं । इन्हें सँभाले रखिए, बाद में पुस्तकाकार छपवाइएगा तो अच्छा रहेगा । सन 97-98 में मठ और मठाधीशी पर हमारी भी खूब बहस होती थी, मित्रों का कहना था - मठों से टकराते-टकराते तुम अपना मठ बना लोगे । मुझे आज भी वे पंक्तियाँ रास्ता दिखाती हैं । अब तो सब पढ़ें सब बढ़ें का जमाना है । लेकिन कोई पढ़ने को राजी नहीं है, सब दूसरों को पढ़ाना चाहते हैं। नमन आपको ।

 

clip_image006[9]

Arvind Tiwari तिवारी जी ये अभी शुरु हुआ है।त्यगी जी ज्ञान जी से वरिष्ठ थे मगर ज्ञान जी के जबरदस्त फेन थे।आज किसी वरिष्ठ को फेन होते देखा है।त्यागी जी ने अपने व्यंग्य सन्ग्रह के फ्लैप पर ज्ञान जी से लिखवाया।अब संभव नहीं।वैसे ऐसी पोस्ट द्रोपदी का चीर तब बनती हैं जब कोई अन्य इसकी प्रतिक्रिया में पोस्ट डालता है।

1 · बीते कल 11:40 पूर्वाह्न बजे

clip_image005[7]

Arvind Tiwari इनाम की मठाधीशी अपनों को उपकृत करने तक है।लेन देन का मामला थोडा दूर है साहित्य से।

 

clip_image003[16]

अनूप शुक्ल हां लेकिन ऐसे किस्से भी सुनने में आये हैं जैसा मैने लिखा! ठेके पर भी काम शुरु हो गया है ! :)

 

clip_image006[10]

Arvind Tiwari मामला क्या है फ़ोन पर तफ़सील से।

2 · बीते कल 09:44 पूर्वाह्न बजे

clip_image009[4]

D.d. Mishra बडी ही सही सीख आपने दीहै लेखको के लिए उम्मीद है यह लिखने का उत्साह दिलाए गी

 

clip_image003[17]

अनूप शुक्ल धन्यवाद ! :)

 

 

clip_image010[6]

Nirmal Gupta बेहतरीन.सिलसिलेवार लिखते रहें अनूप जी.

 

clip_image003[18]

अनूप शुक्ल धन्यवाद ! कोशिश करते रहेंगे। :)

 

clip_image011[4]

Anup Srivastava बेहतरीन
विचारणीय

1 · बीते कल 08:24 पूर्वाह्न बजे

clip_image003[19]

अनूप शुक्ल आभार ! करिये विचार ! :)

 

clip_image010[7]

Nirmal Gupta व्यंग्य के बहाने स्वघोषित धूमकेतुओं पर भी थोड़ी रौशनी डाल दें।व्यंग्य में बहुतेरे आत्ममुग्ध लोग है इस श्रेणी के।

6 · बीते कल 09:55 पूर्वाह्न बजे

clip_image008[7]

Ramesh Tiwari हाहाहाहाहा....यानी लट्ठ बजवाए बिना रहोगे नहीं आप निर्मल भाई ! मेरा दूर से ही प्रणाम।

 

clip_image012[4]

ALok Khare :)

 

clip_image013[6]

ALok Khare vyang lekhan apne naam ke sath hi vivadit hota hai, mane ki kisi par kataksh karna, aur vivad par vivaad na honge to kis par honge! jitna vivaad hoga vunag utna hi unchai ko prapt hoga, unchai se matlab vunag ke playan se nhi hai hamara :)

1 · बीते कल 11:17 पूर्वाह्न बजे

clip_image014[4]

Pradeep Shukla " मठाधीश " शब्द का प्रयोग सबसे ज्यादा व्यंग्य विधा में ही क्यों होता है? यह एक शोध का विषय हो सकता है. इस पर पी एच डी की पूरी थीसिस लिखने के सामर्थ्यवान लोग भले कम हों, लेकिन एम फ़िल का मसाला तो लोगों के पास है ही. मसलन सबसे पहले ' मठाधीश ' शब्द किसने प्रयोग किया? पहले यह शब्द किसी औपचारिक गोष्ठी में उच्चारा गया या राह चलते किसी ठुल्ले ने गली के किसी टपोरी गैंग के लीडर को मठाधीश कह कर सम्मानित किया. मेरी तरह निठल्ले लोग चाहें तो शोध प्रश्नों की पूँछ बढ़ा सकते हैं जो किसी गुरुघंटाल मठाधीश को विधिवत लगाई जा सकती है.

1 · 22 घंटे

clip_image015[4]

Anshuman Agnihotri यह व्यंगकारों की आपसी बहस है, बढिया घटिया के मापदंड स्था पित करती हुई .
सबलिखा पढ़ा ठीक , पर लंबी बहस , हमारे जैसे बुद्धि के बउओं के किस काम की ?
मै नहीं आता इस बहस में , बड़े बड़े मैमथ हाथियों के बीच घुस कर गन्ने खाने ! पिच्ची हो जाऊंगा !

 

clip_image016[4]

गौतम राजरिशी बहुत सही आलेख देव । दरअसल मठाधीशी की सफलता को लेकर बस दो ही लोग आश्वस्त हैं... एक तो ख़ुद ही मठाधीश साब और दूजे उनका बैग उठाने वाले चेले चपाटे ।

 

clip_image017[4]

Nisha Shukla मैं न साहित्यकार हूँ न लेखक न व्यंगकार,अदना सी पाठक हूँ मगर महसूस करती हूँ लिखनेवाले घोर दंभी होते हैं.. एक दुसरे को दम भर ख़ारिज करते हैं!

 

clip_image018[4]

Vimlesh Chandra सचमुच में आप के लेखन को कोई मठाधीश दबा नहीं सकता। आप का नाम अब मठाधीश से भी बढ़ कर है इसे कोई झुठला नहीं सकता। व्यंग्यकारों की पहली पंक्ति में पहले खड़े होते है आप। मल्टीस्किल्ड प्रतिभा कूटकूट कर भरी है आप में दिखता है साफ।

 

clip_image019[4]

एम.एम. चन्द्रा मेरा अपना अनुभव है कि अगर आज कोई बढ़िया लिखता है तो उसके लेखन को कोई सामने आने रोक नहीं सकता है।

 

clip_image020[4]

Suresh Sahani सर!मठाधीशी तो है।कहीं व्यक्त तो कहीं अव्यक्त ।अब आप कट्टे के दम पर कर रहे हैं।

 

clip_image013[7]

ALok Khare ek dam badhiya charcha, sehmati ke sath

---

व्यंग्य के बहाने शीर्षक से अनूप शुक्ल ने दो आलेख और लिखे हैं.

व्यंग्य के बहाने - 1

 

व्यंग्य लेखन के बारे में अक्सर छुटपुट चर्चायें होती रहती हैं। लोग अपने अनुभव के हिसाब से बयान जारी करते रहते हैं। शिकवा, शिकायतें, तारीफ़, शाबासी भी चलती ही रहती है। कभी-कभी लम्बी चर्चा भी होती रहती है। कुछ बातें जो अक्सर सुनने में आती रहती हैं:

१. व्यंग्य संक्रमण के दौर से गुजर रहा है।
२. व्यंग्य में मठाधीशों का कब्जा है।
३. नये-नये लोग लिखने वाले आते जा रहे हैं।
४. नये लोगों को लिखना नहीं आता, उनको जबर्दस्ती उछाला जाता है।
५.पुराने लोग नये लोगों को तवज्जो नहीं देते।
६. नये लोग पुरानों की इज्जत नहीं करते।

इसी तरह की और भी बातें उछलती रहती हैं। समय-समय पर। खासकर किसी इनाम की घोषणा के समय। जिसको इनाम मिलता है, वह बेचारा टाइप हो जाता है। सामने तारीफ़ होती है, पीछे से तारीफ़ को संतुलित करने के लिये जबर खिल्ली उड़ाई जाती कि इसको भी इनाम मिल गया, इसको तो लिखना भी नहीं आता, अब तो भगवान ही मालिक है व्यंग्य का। कुछ नाम ऐसे भी हैं जिनको कोई भी पुरस्कार मिलता है तो कहा जाता है इनाम सम्मानित हुआ है इनको सम्मानित करने से। वह बात अलग है कि उनके भी किस्से चलते हैं कि कैसे इनाम जुगाड़ा गया, क्या समझौते हुये। लेकिन इनाम की छोडिये- इनाम तो हमेशा छंटे हुये लोगों को मिलता है।

सबसे पहले बात मठाधीशी की। आज की तारीख में छपने, छपाने, पाठकों तक पहुंचने की जैसी सुविधा है उसके चलते मठाधीशी जैसी स्थिति कत्तई सम्भव नहीं है। अगर किसी के पास लिखने का हुनर है तो उसको छापने के अनगिनत मंच हैं। अगर कोई अच्छा लिखता है तो वह किसी ने किसी तरीके से देर-सबेर लोगों तक पहुंचता ही है। कोई भी खलीफ़ा किसी को अपने पाठकों तक पहुंचने से रोक नहीं सकता। किसी की मठाधीशी नहीं चल सकती आज के समय में किसी भी विधा में। लोग अपने-अपने ग्रुप बनाकर अपने पसंदीदा की तारीफ़ करें, अपने पसंदीदा को देवता बनाकर पूजें वह बात अलग है। संविधान भी अनुमति देता है अपने हिसाब से पूजा पाठ के लिये।

-आगे भी लिखा जाये क्या ? :)

 

 

व्यंग्य के बहाने -2
-----------------------
कल सुबह व्यंग्य पर कुछ लिखना शुरू किया था। पूरा नहीं हुआ तो सोचा बाद में लिखेंगे। सेव करके छोड़ दिया। दोपहर को लंच में जब समय मिला तो जित्ता लिखा था वो पोस्ट कर दिया। उसके बाद समय ही नहीं मिला। मिला भी तो हमारे रोजनामचे ने झटक लिया। व्यंग्य की बात किनारे धरी रह गयी। अब जब सुबह समय मिला, आधे घण्टे का, तो वो सारे आइडिया फूट लिए जो कल हल्ला मचा रहे थे कि हमारे ऊपर लिखो, हमारे ऊपर लिखो।

आजकल का अधिकांश व्यंग्य शायद इसी अंदाज में लिखा जा रहा है। न भी लिखा जा रहा हो तो हम तो ऐसा ही सोचते हैं। जैसा हम करते हैं वैसा ही तो दूसरों के बारे में सोचेंगे न।

अधिकतर व्यंग्य लेखक नौकरी पेशा वाले हैं, दिन में कब्बी समय मिला तो लिख मारा। कहीं भेज दिया। छप गया तो ठीक। वर्ना कल फिर देखा जाएगा। जो लोग नियमित लिख लेते हैं, छप भी जाते हैं वे वास्तव में 'व्यंग्य ऋषि' हैं। अपनी तपस्या मन लगाकर करते हैं। उनमें से ज्यादातर तपस्या का वरदान भी हासिल करके ही रहते हैं।

आज प्रकाशन के इतने अवसर हैं कि हर शहर में सैकड़ों तो व्यंग्य लिखने वाले होंगे। उनके व्यंग्य संग्रह नहीं आए, अख़बारों में नहीं छपे यह अलग बात होगी। अख़बार, पत्रिकाओं में छपने के लिए नियमित लेखन, नियमित भेजन और काम भर का धैर्य चाहिए होता है। अख़बार में जो भी छापने वाले होते हैं वे नियमित कॉलम वालों के अलावा पलटकर बताते नहीं हैं कि लेख छाप रहे हैं कि नहीं। आखिरी समय तक अपने पत्ते नहीं खोलते कि आपका लेख छापेंगे कि नहीं।

जब सैंकड़ों लोग लिख रहे हों और उनमें से कुछ अच्छा भी लिख रहे हों तो बाद चलने पर व्यंग्य लेखन की बात दो-तीन चार लोगों तक सीमित कर देने वाली बात 'हमारी सूर-सूर, तुलसी-शशि उडगन केशव दास' वाली परम्परा का हिस्सा है।

दो तीन नाम गिनाकर उनको व्यंग्य का पर्याय बताना अपने यहां की 'कुंजी परम्परा' का प्रसार है। इम्तहान में पास होने के लिए किताब पढ़ने की जरूरत नहीँ बस इनको पढ़ लो, पास हो जाओगे। इसीतरह लेखन को भी दो तीन नामों तक सीमित करके बाकी सब को 'उडगन' में शामिल कर दिया जाता है। अब जुगनुओं के नाम तो होते नहीं, सो जिनको सूरज नाम मिल गया उनको ही चमकने वाला बता दिया गया। नया जो आएगा इस दुनिया में वह भी इन्हीं कुंजियों से पढ़ेगा।

मेरी समझ में साहित्य हो या जीवन का कोई भी क्षेत्र हो उसमें कभी अकेले का सम्पूर्ण योगदान नहीँ होता। जो शीर्ष पर है उसके अलावा भी अनगिन लोग उस क्षेत्र में शामिल होते हैं। जिनका जिक्र सरलीकरण और समयाभाव में नहीं हो पाता होगा।

गंगोत्री और अमरकण्टक के उदाहरण से मुझे अक्सर याद आता है। नर्मदा जब अमरकंटक से निकलती है तो बहुत पतली धार होती है, एकदम घर के पानी के नल सरीखी। लेकिन आगे चलकर जब सौंदर्य की नदी बनती है। यह सौंदर्य सामूहिकता का सौंन्दर्य होता है। अमरकंटक से निकली एक पतली धार को सौंदर्य की नदी बनाने में रास्ते में मिलने वाले अनगिनत जलस्रोत सहयोग करते हैं। केवल अमरकंटक के पानी से नर्मदा जीवनदायी नदी नहीं बनती। अनगिनत जलस्रोतों का सहयोग उसमें होता , नाम भले ही केवल अमरकंटक का ही होता हो। बाकी लोगों का नाम लोग जान भी नहीं जानते हैं।

लेकिन दुनिया में संतुलन का सिद्धांत हमेशा काम करता है। जिनका अच्छा काम होता है वह कभी न कभी सामने आता है। खराब काम जो कभी बहुत उछलता कूदता रहता होगा समय उसमें उसमें अपनी पिन चुभाता रहता है।

साहित्य का क्षेत्र भी जीवन से अलग नहीं है। कुछ क्या बहुत कुछ खराब लेखन सामने हल्ला मचाता है और बहुत कुछ अच्छा सामने नहीँ आ पाता। लेकिन कभी-कभी न कभी अच्छे तक लोग पहुँचते ही हैं। समय बहुत बड़ा संतुलनकारी तत्व है।

यह सब बातें बिना किसी तारतम्य के ऐसे ही। किसी और से ज्यादा अपने लिये।

बाकी फिर कभी। लिखें कि नहीं ?

COMMENTS

BLOGGER
---*---

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$count=6$page=1$va=0$au=0

विज्ञापन --**--

|कथा-कहानी_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts$s=200

|हास्य-व्यंग्य_$type=blogging$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|लोककथाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|लघुकथाएँ_$type=list$au=0$count=5$com=0$page=1$src=random-posts

|काव्य जगत_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|बच्चों के लिए रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|विविधा_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3793,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,326,ईबुक,182,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2744,कहानी,2069,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,484,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,87,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,326,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,48,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,224,लघुकथा,806,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1882,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,637,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,676,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,52,साहित्यिक गतिविधियाँ,181,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,52,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: व्यंग्य के बहाने / अनूप शुक्ल
व्यंग्य के बहाने / अनूप शुक्ल
https://lh3.googleusercontent.com/-kuPZsX4DXyk/V9EXv4ncbnI/AAAAAAAAv74/bXTp4AAdmPY/image_thumb.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-kuPZsX4DXyk/V9EXv4ncbnI/AAAAAAAAv74/bXTp4AAdmPY/s72-c/image_thumb.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/09/blog-post_8.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/09/blog-post_8.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ