रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

प्राची - सितम्बर 2016 : लघुकथाएँ

लघुकथा

ठिठोली

देवेन्द्र कुमार मिश्रा


चाय की दुकान पर काम करता 8-9 साल का लड़का. छोटी उम्र, मोटी अक्ल. दुकान में भीड़-भाड़ थी. मालिक को ठिठोली सूझी. उसने लड़के से पूछा, ‘‘क्यों रे कितने बाप का?’’
लड़का बेचारा क्या जाने, क्या समझे? चुप रहा. परन्तु ऐसे मजाक पर वहां बैठे तमाम लोगों की निगाहें लड़के के ऊपर चिपक गयीं. मालिक ने एक लात मारते हुए फिर पूछा, ‘‘क्यों रे, कितने बाप का, एक या दस?’’
लड़के ने घबराकर कह दिया, ‘‘दस!’’ सभी हंस पड़े. लड़का भी सबको हंसते देख हल्के से हंस पड़ा.
सम्पर्कः पाटनी कॉलोनी, भरत नगर, चन्दनगांव, छिन्दवाड़ा-480001 (म.प्र.) मोः 9425405022

लघुकथा

गाय की अंतिम क्रिया

राकेश भ्रमर


उस देश के लोग बहुत धार्मिक थे. उन दिनों गौ रक्षा को लेकर देश में धार्मिक उन्माद बहुत उफान पर था.
पिछले दिनों देश के एक प्रदेश में कुछ व्यक्तियों को इसलिए सरेआम डण्डों से मारा-पीटा गया, क्योंकि वह गाय की खाल उतार रहे थे. मरे हुए जानवरों की खाल निकालना उनका पुश्तैनी कर्म था. इसके बावजूद गौ रक्षकों ने उनको बेरहमी से पीटा. इस बात को लेकर प्रदेश में बवाल मच गया. देश की संसद में भी हंगामा हुआ.
इसी बीच प्रदेश के एक गांव में पंडित जी की गाय बीमार पड़ गयी. बहुत इलाज कराने के बावजूद वह नहीं बची और मर गयी. पंडितजी स्वयं उसे उठाकर नहीं फेंक सकते थे, अतः वह रामदास रैदास के घर गए. उससे मृत गाय को उठाकर गांव से बाहर फेंकने के लिए कहा. वह तैयार हो गया, परन्तु उसी समय रामदास का बेटा वहां आ गया. वह शहर में पढ़ता था और देश के हालात से अवगत था.
मामला समझकर पंडितजी से बोला, ‘‘पंडितजी, एक बात बताइए, आप गाय को क्या मानते हैं?’’
पंडित जी पहले तो चौंके, फिर संभलकर बोले, ‘‘गाय हमारी माता है.’’
‘‘गाय आपकी माता है, तो आप स्वयं उसका दाह-संस्कार क्यों नहीं करते?’’
‘‘क्या मतलब?’’ पंडित जी हैरान रह गये.
‘‘मतलब बहुत साफ है. गाय आपकी मां है, तो उसकी अंतिम क्रिया आप ही करेंगे. हम क्यों करेंगे? आप लोगों ने जगह-जगह गौ रक्षक समितियां खोल रखी हैं. फिर मृत गाय को उठाने के लिए हमारे पास क्यों आए हैं? वह आपकी माता है, आप ही उसे उठाइए...फेंकिए या जलाइए. हम आपकी माता को क्यों हाथ लगाएं. आप कहते हैं कि हम लोगों की छाया पड़ने मात्र से आप अपवित्र हो जाते हैं. तब अगर हम आपकी माता को छुएंगे, तो क्या पाप के भागी नहीं बनेंगे. आप अपने हाथों अपनी माता का अंतिम संस्कार करके उसे स्वर्ग भेजिए और हमें नर्क जाने से बचाइए.’’
पंडितजी के पास कोई उत्तर नहीं था. वह पिटा हुआ-सा मुंह लेकर घर लौट आए.

एक टिप्पणी भेजें

आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 09 अक्टूबर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget