रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

“तभी बिखेरे बाती नूर” {लम्बी तेवरी-तेवर पच्चीसी } +रमेशराज

 

“तभी बिखेरे बाती नूर”
{लम्बी तेवरी-तेवर पच्चीसी }
+रमेशराज
------------------------------------------
छुपे नहीं तेरी पहचान, इतना मान
चाहे रूप बदल प्यारे । 1

तुझमें बढ़ा घृणा का भाव, भारी ताव
अंगारों में जल प्यारे । 2

सज्जन को करता गुमराह, भरकर डाह
क्यों घूमे बन खल प्यारे । 3

बहुत जिया तू जल के बीच, आँखें मींच
अब आयेगा थल प्यारे । 4

सच्चाई से तू है दूर, छलिया-क्रूर
निर्मल बनता मल प्यारे । 5

तभी बिखेरे बाती नूर, ये दस्तूर
मोम सरीखा गल प्यारे । 6

दुःखदर्दों से किसकी मुक्ति? कोई युक्ति??
क्या होना है कल प्यारे? 7

अब तू जिस संकट के बीच, भारी कीच
थोड़ा-बहुत निकल प्यारे । 8

रैंग, हुआ जो पाँव विहीन, बनकर दीन
सर्प सरीखा चल प्यारे । 9

जग में उल्टे-सीधे काम, ओ बदनाम
क्यों करता है छल प्यारे । 10

बहे पसीना गर्मी खूब, झुलसी दूब
अब तो पंखा झल प्यारे । 11

अब होना सारा तम भंग, दीखे रंग
सूरज रहा निकल प्यारे । 12

भले लगें तुझको बाजार, मेरे यार
चल सिक्कों में ढल प्यारे । 13

होना तुझे अन्ततः ढेर, मेरे शेर
अब तू खूब उछल प्यारे । 14

फिर करना ठंडक महसूस, अरे खडूस
थोड़ा अभी उबल प्यारे । 15

अगर नहीं करनी बरसात, ये क्या बात?
क्यों बनता बादल प्यारे । 16

कौन रहा यह पागल बोल, पेड़ टटोल
“फूल नहीं है फल प्यारे “। 17

हम बोलेंगे नहीं कठोर, तुझको चोर
पहले तनिक पिघल प्यारे । 18

बनता फिरता है सुकरात, बिन औकात
ले अब जरा गरल प्यारे । 19

जिसमें दिखें खुशी के रंग, उठें तरंग
कब आया वो पल प्यारे । 20

लोग आज गड्ढों को पाट, आकर हाट
दीख रहे समतल प्यारे । 22

आने दे थोड़ी-सी धूप, ओ स्तूप
क्यों तू बना महल प्यारे । 23

अपने मन को किये अधीर, लेकर पीर
डोल न बन पागल प्यारे । 24

दो छंदों में! फिर भी शे’र, देर-सबेर
ये भी रूप ग़ज़ल प्यारे?? 25
------------------------------------------------------------------
+रमेशराज,15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
Mo.-9634551630  

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget