शनिवार, 22 अक्तूबर 2016

हरमिंदर सिंह का पहला उपन्यास - एच आर डायरीज़ प्रकाशित

हरमिंदर सिंह का पहला उपन्यास हाल ही में प्रकाशित हुआ है. यह पहली बार है कि हिंदी में एच.आर. विभाग (Human Resource Deptt.) पर एक कहानी इस तरह बुनी गयी है. पाठक खुद को शुरू से आखिर तक उससे दूर नहीं होने देंगे.  जो युवा नौकरी करने की शुरुआत में हैं या कर रहे हैं, उन्हें यह जरुर पढ़नी चाहिये. यह कहानी हर नौकरीपेशा को अपनी-सी लगेगी.

पात्र युवा हैं, और संवाद छोटे हैं, जो आजकल कम ही देखने को मिलते हैं. युवाओं की यह कहानी आपको अधिकतर गुदगुदाती रहेगी, कई जगह भावनात्मक क्षण भी आयेंगे.

पाठकों को इसके नायक नायिका - विजय और तारा आपको बेहद पसंद आएंगे.


एच.आर. डायरीज़ का सारांश :
कुछ नौजवान जिन्होंने नयी दुनिया में कदम रखा, उलझ गये दौड़-भाग के पाटों में. जिंदगी की पेचीदगियों को उन्होंने अपनी तरह से हल करने की कोशिश की. अनेक रोचक मोड़ आते गये. वे हंसे, रोये, घबराये, लेकिन रुके नहीं. आखिर में उन्होंने पाया कि नौकरी करना कोई बच्चों का खेल नहीं! उनकी जिंदगी का एक हिस्सा उनसे हर बार सवाल करता है कि यह दौड़ यूं ही क्यों चल रही है? हमें क्यों लगता है कि हम एक जगह बंधे हुए हैं? क्या यह हमारी नियति है?



image

HR Diaries is Available here :

1. Flipkart : http://bit.ly/2ectVkc

2. Amazon : http://amzn.to/2dW46XO

3. Rediff Books : http://bit.ly/2ec75OT

4. Pustakmandi : http://bit.ly/2dUJfaz

जल्द एच.आर. डायरीज़ हर बुकस्टोर पर उपलब्ध होगी.
यदि आप उपन्यासकार से कुछ कहना चाहते हैं, तो इस नंबर पर उनसे कभी भी संपर्क कर सकते हैं : 7417558927

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------