कृष्ण की पीड़ा / (लघु काव्य नाटिका ) / सुशील कुमार शर्मा

image

 

कृष्ण की पीड़ा


सुशील कुमार शर्मा

(लघु काव्य नाटिका )
बात उस समय की है जब महाभारत के पश्चात कृष्ण द्वारिका लौटे थे। बहुत उदास रहने लगे रुक्मणी ,सत्यभामा आदि सभी रानियों ने उनकी उदासी का कारन पूछा लेकिन कृष्ण नहीं बोले। रुक्मणी जी समझ गईं की कृष्ण के मन में अनंत वेदना है और उस वेदना का एक मात्र उपाय राधाजी हैं। उन्होंने मुस्कुराते हुए कृष्ण से पूछा क्यों न राधा को कुछ दिन मेहमानी के लिए यंहा बुला लिया जाए। कृष्ण रुक्मणी की और कृतज्ञता से मुड़े और हलकी सी मुस्कराहट में अपनी स्वीकृति देते हुए वह से चले गए। रुक्मणी जी के आमंत्रण पर राधाजी द्वारका आईं यह संवाद उसी समय का है।

           राधा का प्रश्न
कितने वर्षों बाद द्वारकाधीश आज ये घडी आयी।
सुख स्वर्ग भरे महलों में कैसे तुम को राधा याद आयी ?

           कृष्ण की मनुहार
मत कहो द्वारकाधीश मैं तो तुम्हारा कान्हा हूँ।
क्यों समझ रही हो मुझे पराया मैं तो जाना माना हूँ।

जब से बिछुड़ा तुम सब से हे राधे मुझे विश्रांति नहीं।
हर दम दौड़ा भागा हूँ राधे मुझे किंचित शांति नहीं।

               राधा के उलाहने
क्यों होगी शांति तुम्हे कान्हा जब से तुम द्वारकाधीश बने।
गोकुल वृन्दावन को विसरा राजनीति के आधीश बने।

वंशी भूले ,यमुना भूले ,भूले गोकुल के ग्वालों को।
प्रेम पगी राधा भूले भूले ब्रज के मतवालो को।

अब बहुत दूर जाकर बोलो कान्हा कैसे लौटोगे।
जो दर्द दिया ब्रज वनिताओं को बोलो कैसे मेटोगे।

एक समय था उठा गोवर्धन ब्रजमंडल की तुमने रक्षा की थी।
एक समय था अर्जुन को  गीता में लड़ने की शिक्षा दी थी।

एक समय था ब्रज मंडल में तुम सबके प्यारे प्यारे थे।
एक समय था जब हम सब तुम पर वारे वारे थे।

कैसे कृष्ण महाभारत का कोई हिस्सा हो सकता है ?
कैसे कृष्ण प्रेम के बदले युद्ध ज्ञान को दे सकता है ?

प्रेम शून्य होकर अब क्यों तुम प्रेम जगाने आये हो।
भूल चुके तुम जिन गलियों को क्यों अपनाने आये हो।

मैं तो प्रेम पगी जोगन सी सदा तुम्हारे साथ प्रिये।
तुम विसराओ या रूठ के जाओ मैं बोलूंगी सत्य प्रिये।

                 कृष्ण का दर्द
सत्य कहा प्रिय राधे तुमने मैंने जीवन मूल्यों को त्यागा है।
लेकिन न किंचित सुख में रहा ये कान्हा तुम्हारा अभागा है।

विषम परिस्थितियों ने मुझ कान्हा को कूटनीति है सिखलाई।
पर तुम्हारे इस प्रिय अबोध को राजनीति कभी नहीं भाईं।

लेकिन न किंचित सुख पाया इन भव्य स्वर्ग से महलों में।
बिसर न पाया वह सुख जो मिला था गोकुल की गलियों में।

भूला नहीं आज तक हूँ मैं वह आनंदित रास प्रिये।
जीवन की आपा धापी में वे यादें सुगन्धित पास प्रिये।

नन्द यशोदा और ब्रज वालों का ऋण कैसे चुका पाऊंगा ?
कौन सा मुख लेकर उनके सम्मुख मैं जा पाउँगा ?

कई बार छोड़ कर राजपाट आने का मन करता है।
लेकिन कर्तव्यों के पालन में सौ बार ये मन मरता है।

मेरी विषम विवशताओं का  आज आंकलन तुम करो प्रिये।
अपराध बोध से ग्रसित इस ह्रदय दंश को तुम हरो  प्रिये।

          राधा का प्रेम लेपन

कान्हा से तुम कृष्ण बने फिर तुम बने द्वारकाधीश।
भक्तों के तुम भगवन प्यारे मेरे हो आधीश।

इस अपराध बोध से निकलो तुम सबके प्रिय हो बनवारी।
भक्तों के तुम तारण कर्ता राधा तुम पर वारि वारि।

सौ जन्मों के वियोग को सह लूंगी  कान्हा प्यारे।
एक पल तेरा संग मिले जो मेरे हों बारे न्यारे।

टिप्पणियाँ

  1. "श्री कृष्ण की पीड़ा" में भगवन और राधा जी की अंतर्मन की भावनाओ का बहुत ही सुन्दर चित्रण..सादर प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.