रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

ललिता भाटिया की लघुकथाएँ - ममता की डोर

image

ममता की डोर 

माँ बिस्तर  पर अंतिम साँसे  ले रही थी आँखे बेटे की इंतज़ार में खुली थी । तभी उन के देवर मोबाईल पर फोन आया । उस के चेहरे के बदलते रंग देख माँ सब समझ गई एक जोर की हिचकी ली ममता की डोर टूट गई  । तभी देवर बोला : भाभी रूपं नहीं आ रहा उसे किसी काम से डलास    पर ये सब सुनने के लिए माँ वहां नहीं थी । 

 

जो बोले कुण्डी खोले 

रात का समय था खाने के बाद सारा परिवार अपने २ काम में व्यस्त था । पतिदेव अपने व्यापार का लेखा जोखा देख रहे थे बेटा  दोस्तों के साथ चैट  कर रहा था बेटी फेसबूक पर बिज़ी थी और पत्नी सास बहु वाला सीरयल देख रही थी और दूसरे कमरे में बूढ़ी सास खांस २ कर बेदम हो रही थी । खुद उठ कर दवाई ले नहीं प् रही थी । बुडिया कि जोरदार खांसी से सब अंदर ही अंदर चिड़  रहे थे पर बोला कोई नहीं । जो बोले कुण्डी खोले । उसे ही बुडिया को दवाई देने जाना पड़ेगा । और इस समय अपना काम छोड़ने का मूड किसी का भी नहीं था । बुढ़िया कि खांसी लगातार बढ़ती जा रही थी । 

Lalta Bhatia 

Rohtak

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

सुन्दर रचनायें.

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget