शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2016

और कोई रास्ता भी नहीं - (लघु कथा) - सुशील शर्मा

image

और कोई रास्ता भी नहीं (लघु कथा)

सुशील शर्मा

रामेती कुम्हारिन का भट्टा शहर के एक कोने में था। दीये भट्टे में पक रहे थे। उन धुएं की लकीरों में रामेती और उसके पति रतिराम के चेहरे पर चिंता की लकीरें स्पष्ट दिखाई दे रहीं थी।

पिछली दीवाली का दर्द और डर अभी तक मन में समाया था। पिछली दीवाली पर रतिराम ने बैंक से कर्ज लेकर खूब सारे दीये और दीवाली के अन्य सामान बनाये थे। आशा थी दीये खूब बिकेंगे खूब लक्ष्मी बरसेंगी। पति रतिराम बेटी मुनिया बेटा धन्नू और वह स्वयं दीये बेचने के लिए निकले बाजार में दुकानें लगाई ठेले पर फेरी लगाई परंतु किसी ने भी उनके दीये नहीं ख़रीदे। उनके बाजू वाली दुकान से चीनी दीये धड़ाधड़ बिक रहे थे। उनकी लागत एवं मुनाफे को मिलाकर उससे बहुत कम कीमत पर सुन्दर चीनी दीये लोगों के मन को भा रहे थे।

"बाजार में चीनी सामानों की बाढ़ आ रही है झालर दीये रंगबिरंगी मालाएं पिन से लेकर हवाई जहाज तक तो चीन से आकर बिक रहे हैं। "रतिराम ने ठेले से दीये उतारते हुए कहा।

रुआंसी मुनिया रामेती से पूछने लगी "माँ क्या अब हमारे दीये नहीं बिकेंगे,मैंने कितनी मेहनत से बनाये थे माँ,लोग हमारे दिए क्यों नहीं खरीद रहे हैं?"

रामेती क्या जवाब देती उसे तो खुद नहीं सूझ रहा था क़ि वह क्या करे।

धन्नू कहने लगा "माँ अब क्या में नहीं पढ़ पाउँगा ,पिताजी बैंक का कर्ज कैसे चुकाएंगे?हम साल भर क्या खाएंगे।

रामेती की आँखों में आंसू झिलमिला रहे थे। रतिराम भाव विहीन आँगन में फैले दीयों को देख रहा था।

अचानक मुनियाँ की आवाज़ से उसकी तन्द्रा टूटी"माँ इस दीवाली पर मैं नए कपडे लूँगी"

"और मैं खूब सारे फटाके " उधर से धन्नू चिल्लाया।

हाँ माँ वहाँ चाइना की सेल लगी है सब चीजें सस्ती मिल रही हैं" धन्नू ने आशा भरी निगाहों से रामेती को देखा।

"हां बेटा चलेंगे हम चाइना सेल में सस्ती चीजें खरीदने और कोई रास्ता भी तो नहीं है। " रामेती दोनों को दिलासा देते हुए अपने भट्टे की ओर बढ़ गई।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------