रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

हिन्दी में अनेक ऐसे आलोचक हुए, जिन्होंने कविता के परिदृश्य को प्रदूषित किया है - दिविक रमेश

साझा करें:

साक्षात्कार हिन्दी में अनेक ऐसे आलोचक हुए, जिन्होंने कविता के परिदृश्य को प्रदूषित किया है 20वीं शताब्दी के आठवें दशक में अपने पहले ह...

image

साक्षात्कार

हिन्दी में अनेक ऐसे आलोचक हुए, जिन्होंने कविता के परिदृश्य को प्रदूषित किया है

20वीं शताब्दी के आठवें दशक में अपने पहले ही कविता-संग्रह ‘रास्ते के बीच’ से चर्चित हो जाने वाले आज के सुप्रतिष्ठित दिविक रमेश रमेश कवि बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं। 38 वर्ष की आयु में ही ‘रास्ते के बीच’ और ‘खुली आँखों में आकाश’ जैसी अपनी साहित्यिक कृतियों पर सोवियत लैंड नेहरू अवॉर्ड पुरस्कार पाने वाले ये पहले कवि हैं। आपने 17-18 वर्षों तक दूरदर्शन के विविध कार्यक्रमों का संचालन किया। 1994 से 1997 तक दक्षिण कोरिया में अतिथि प्रोफेसर के रूप में कार्य किया, जहां इन्होंने साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में कितने ही कीर्तिमान स्थापित किए वहां के जन-जीवन और वहां की संस्कृति और साहित्य का गहरा परिचय लेने का प्रयत्न किया। कोरियाई भाषा में अनूदित-प्रकाशित हिन्दी का पहले संग्रह के रूप में इनकी कविताओं का संग्रह ‘से दल अइ ग्योल हान’ अर्थात् चिड़िया का ब्याह आया। इनके द्वारा चयनित और साहित्य अकादमी से प्रकाशित हिन्दी में अनूदित कोरियाई प्राचीन और आधुनिक कविताओं का संग्रह ‘कोरियाई कविता-यात्रा’ भी ऐतिहासिक दृष्टि से हिन्दी ही नहीं, किसी भी भारतीय भाषा में अपने ढंग का पहला संग्रह है। साथ ही, इनके द्वारा तैयार किए गए कोरियाई बाल कविताओं और कोरियाई लोक कथाओं के संग्रह भी सामने आए। अभी हाल में ही इनका नया कविता-संग्रह ‘वहाँ पानी नहीं है’ बोधि प्रकाशन से आया है। वीणा भाटिया और मनोज कुमार झा ने इनसे साहित्य से जुड़े विविध मुद्दों पर विस्तार से बातचीत की है। प्रस्तुत है कुछ प्रमुख बातें।

प्र. समकालीन कविता के परिदृश्य पर कुछ कहें।

उ. समकालीन कविता का परिदृश्य काफी बहुमुखी और विविधतापूर्ण है। वस्तुत: हिन्दी कविता का संसार या क्षितिज बहुत फैलाव लिए हुए है। एक ओर देश की धरती पर हिन्दी और हिन्दीतर प्रदेशों में रची गई अथवा रची जा रही कविता है तो दूसरी ओर देश के बाहर प्रवासी और भारतवंशी कवियों के द्वारा सम्भव कविता है। रूप और शैलियों की दृष्टि से भी देखें तो हिन्दी कविता को समृद्ध पाएँगे। यहाँ काव्य नाटक और लम्बी कविताएँ भी हैं और ग़ज़ल, गीत और छन्दोबद्ध रचनाएँ भी खूब लिखी जा रही हैं। समकालीन कविता सक्षम एवं सकारात्मक दृष्टि से संपन्न कविता है, जिसने एक ओर नकारात्मकता या निषेध से मुक्ति दिलाई है तो दूसरी ओर गहरी मानवीय संवेदना से कविता को समृद्ध किया है। अपनी भूमि को सांस्कृतिक मूल्यों, स्थानीयता, देसीपन और लोकधर्मिता, स्थितियों की गहरी पहचान, अधिक यथार्थ, ठोस और प्रामाणिक चरित्र, मानवीय सत्ता और आत्मीय संबधों-रिश्तों की गरमाहट से लहलहा दिया है। मुख्यधारा की राजनीतिपरक समकालीन कविताओं पर भी दृष्टि डालें तो पाएंगे कि ये कविताएं नारेबाजी से तो दूर हैं ही, नारेनुमा तक नहीं हैं। ये तो गहरी संवेदनाओं से युक्त, भाषा और कलात्मक क्षमताओं से भरपूर एवं संयमित हैं। यहां काव्य-मुद्राओं एवं चमत्कारों के लिए कोई स्थान नहीं है। इन कविताओं ने सहजता का वरण किया है। प्रेम की कविताओं में भी ललक और जिज्ञासा है। रोमांटिक भावुकता के स्थान पर आत्मीय लगाव है। वस्तुत: यह कविता-अकविता के निषेधवाद से तो कोसों दूर आगे की कविता है ही-लगभग उसकी प्रतिद्वन्द्वी जैसी-धूमिल की लटकेबाजी और रेहटरिक को भी छोड़कर चली है। हां, प्रभाव इनका ज़रूर धीरे-धीरे गया है। समकालीन कविता की एक महिमामय उपलब्धि त्रिलोचन की कविता को इसके परिदृश्य में सशक्त पहचान मिलना भी है।

प्र. आप मूलत: कवि हैं। लेकिन कविता के साथ आपने आलोचना के क्षेत्र में भी काम किया है। आपकी पीढ़ी में ऐसे कम ही कवि हैं। कवि के लिए आलोचना-कर्म की ज़रूरत क्यों और किस हद तक है?

उ. आपने ठीक कहा। मैं भी खुद को मूलत: कवि ही मानता हूं। जहां तक मेरा प्रश्न है, मेरा आलोचना कर्म प्राय: स्वत:स्फूर्त न होकर अन्यों (पत्र-पत्रिकाएं, संस्थाएं) के अनुरोध पर लिखा कार्य अधिक है, भले ही आज आलोचना की मेरी चार पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हों। पेशे से प्राध्यापक रहा हूं। इस कारण भी लेख आदि लिखने की प्रेरणा मिलती रही। मेरी पीढ़ी के कुछ कवियों ने भी इस कर्म को किया है। यूं कवियों द्वारा आलोचना करने की हिन्दी में शुरुआत छायावाद से देखी जा सकती है। जब कवियों को आलोचक की आलोचना में उठा-पटक और पूर्वग्रह की राजनीति दिखायी देती है तथा जानबूझकर किसी प्रवृत्ति अथवा कुछ कवियों पर कुठाराघात किया लगता है तो फिर उन्हें अथवा उनमें से कुछ को इस क्षेत्र में भी सामने आना ही पड़ता है। नए कवियों में अनेक अच्छी आलोचना के लिए भी पहचाने जाते हैं, जैसे शमशेर, मुक्तिबोध आदि। तारसप्तक अपने प्रकाशन वर्ष से तीन वर्ष तक एक समीक्षा तक को तराशता रहा। आखिर कवि शमशेर बहादुर सिंह ने उसकी पहली समीक्षा की। कहानी के क्षेत्र में कमलेश्वर, मोहन राकेश, राजेन्द्र यादव आदि को अपने समय के मान्य अर्थात प्रभावशाली बन चुके आलोचकों की भरपूर उपेक्षा सहनी पड़ी थी। मैंने व्यक्तिगत रूप से भी अनुभव किया है कि हिन्दी में विशुद्ध किस्म के अनेक ऐसे आलोचक हुए हैं, जिन्होंने कविता के परिदृश्य को भरपूर ढंग से प्रदूषित किया है। यह अलग बात है कि उनके पास अनेक कारणों से (जिनमें साहित्येतर भी सम्मिलित हैं) साहित्य में पाठ्यक्रमों में रचनाएं लगवाने, प्रतिष्ठित पुरस्कारों को दिलवाने, पुस्तकों को बिकवाने, पत्र-पत्रिकाओं में सुर्खियों में लाने आदि के रूप में प्रभावशाली हस्तक्षेप करने की ताकत रही है। इस कारण अनेक अच्छे, लेकिन उनकी गुटवादिता के संविधान को न मानने वाले कवियों को हलाल करने की भी भरपूर कोशिशें हुई हैं। विडम्बना यह भी है कि जिन कवियों की पताकाएं ऐसे आलोचकों द्वारा (बहुत बार योग्यता से ऊपर) फहरायी गई हैं, उनमें से बहुतेरे स्वभाव से उनके जैसा ही व्यवहार करते पाए जाते हैं। ऐसी स्थिति में कुछ कवियों को आलोचना के क्षेत्र में भी उतरना पड़ा हो तो वह गैरजरूरी होते हुए भी स्वाभाविक कहा जाना चाहिए। यहां मैं उन तथाकथित कवियों या उनके दलों को बचाना नहीं चाहता जो हथकंडे के रूप में आलोचना कर्म को अपने प्रचार के लिए काम में लाने का काम करते हैं। वे बहुत दिन चलते नहीं।

प्र. आलोचना का उद्देश्य क्या है ? यह काव्य का अनुशीलन, कविता के स्रोतों और कवि की रचना-भूमि की तलाश है या महज़ कविता और कवि को अच्छा-बुरा साबित करने का उपक्रम ? क्या हिन्दी आलोचना में फ़तवेबाज़ी जैसी प्रवृत्ति रही है ?

उ. उत्तर यूं आपके प्रश्न में ही छिपा है। वस्तुत: आलोचक एक कुशल गाइड की तरह होता है। मसलन, एक गाइड जब कोई ऐतिहासिक इमारत दिखा रहा होता है तो वह अपनी खास तैयारी और सूक्ष्म दृष्टि की बदौलत ऐसी-ऐसी बुनावटों की ओर ध्यान दिलाता है कि इमारत का सौन्दर्य चौगुना होकर हमारे सामने प्रस्तुत हो जाता है। कई बार तो हम चौंक जाते हैं। सोचने लगते हैं कि वे हमें क्यों नहीं दिखीं। कविता के वास्तविक सौन्दर्य की परतें खोलना और उनके प्रति पाठकों का आत्मीय भाव जगाना एक उचित आलोचक का धर्म होता है। लेकिन आप मुझसे खरी-खरी बात की अपेक्षा कर रहे हैं तो कह दूं कि दुर्भाग्य से स्वतंत्रता के बाद के अधिकांश आलोचक (इनमें कुछ कवि या रचनाकार-आलोचक भी हैं) धीरे-धीरे ’मेरे-तेरे’ के चक्कर में पड़ते चले गए और आलोचना को अविश्वसनीयता की ओर धकेलने में लगे रहे। आज जब कि लोकप्रिय संस्कृति के उपादान छाए हुए हैं और पाठकों तक सीधी पहुँच आसान हुई है, तो ऐसे आलोचकों की दयनीय स्थिति कोई भी देख सकता है। लेकिन दिक्कत यह है कि जो आलोचक नहीं हैं, रचनाकार हैं, उनमें से भी बहुत से ऐसे ही कुकर्मों के कारण दयनीय बनने की कतार में हैं, भले ही सम्प्रति अपने शातिराना अन्दाज के कारण चमकते नजर आ रहे हों। मैं आपकी बात से सहमत हूं कि आलोचना का अधिकांश फतवेबाजी, अच्छा-बुरा (बल्कि ऊंचा-नीचा) साबित करने की प्रवृत्ति और इनसे भी आगे बढ़कर कुछ अच्छे रचनाकारों की हत्या करने की साजिश से ग्रसित नजर आता है। यही उन जैसे आत्ममुग्ध और अहंकारी आलोचकों का गन्दा उद्देश्य भी है। तो भी आप जैसे अध्येताओं की एक बड़ी संख्या उपलब्ध है जो ऐसे आलोचकों की राह के अवरोधक बन चुके हैं और उन्हें ललकारने की हिम्मत रखते हैं।

प्र. क्या हिन्दी में आलोचना का कोई सिंडिकेट है, जिसका काम कवियों को प्रमोट करना, उन्हें स्थापित करना और तंत्र के साथ जोड़ना रहा है ?

उ. जी हाँ । कुछ संकेत तो मेरी पहले कही गई बातों से भी मिल सकता है। विस्तार से क्या कहूं। अधिक दुखदायी तो हिप्पोक्रेसी है। कोई आपको अपना प्रिय कवि कहेगा, कोई दो आदमियों के बीच

कभी-कभार आपकी कविताओं की प्रशंसा भी कर देगा, लेकिन जहां -जहां ( साहित्यिक चर्चाओं, पुरस्कारों, पाठ्य पुस्तकों , संपदित संकलनों, कुछ खास (नामी ) बना दी गई पत्र -पत्रिकाओं आदि के क्षेत्र में ) आपके कवि नाम को रेखांकित होना चाहिए, वहां-वहां से गायब कर या करवाता रहेगा । और अपने पट्ठों को रेखांकित या प्रमोट करने कराने में जी-जान लगा देगा। रेखांकित हुए ऐसे धन्य कवियों में से अनेक उनके सुर में सुर मिलाकर गौरवान्वित भी होते रहते हैं। यह काम सिंडिकेट की तरह भी किया जाता है। अब इससे अधिक मुँह न खुलवाएं, नहीं तो मुझे जो जिनसे मिला है, उनकी हेठी होने का अर्थ उभरने लगेगा जो मैं कतई नहीं चाहता ।

प्र. आपकी दृष्टि में वे कौन-से आलोचक हैं जिन्होंने समकालीन हिन्दी कविता की सम्यक विवेचना की हो।

उ. देखिए, यदि कहा जाए कि हमारे समय में भी अनेक समझदार और विद्वान आलोचक हुए हैं तो यह कहना सही ही होगा । लेकिन यह भी उतना ही सच है कि अधिकांश प्रभावशाली ऐसे आलोचकों ने राग-द्वेष का प्रदूषण भी फैलाया है। कई कवियों का इतना नुकसान करने का प्रयत्न किया गया कि मरम्मत करने में बहुत समय लग जाएगा। इधर अरुण होता, जितेंद्र श्रीवास्तव, अजय नावरिया , गोपेश्वर सिंह, शम्भु गुप्त आदि में सम्यक विवेचना के स्वर अधिक उभरे नजर आ रहे हैं। इनमें से कुछ कवि-लेखक भी हैं। अपने निजी मूल्यांकन के स्थान पर बहुतायत उन लोगों की है, जो चले आ रहे बहाव में बह कर ही धन्य होते रहते हैं। और हाँ, कभी अज्ञेय ने लिखा था, शायद भोपाल से निकलने वाली कलावार्ता में कि नामवर जी एक समझदार आलोचक हैं, वे रचना की ताकत समझ लेते हैं, लेकिन उसे अभिव्यक्त करते समय गड़बड़ कर देते हैं। अच्छी बात यह है कि बाद के नामवर जी ने अज्ञेय की कविता पर अपनी पूर्व की धारणा को बदला है ।

प्र. प्राय: ऐसा कहा जाता है कि समकालीन हिन्दी कविता की आलोचना अभी तक प्रसंशा-निंदा तक ही सीमित है, उसमें काव्य को समग्र रूप में समझने की कोई दृष्टि सामने नहीं आई है। क्या यह सच है ?

उ. सम्पूर्ण हिंदी कविता की आलोचना के संदर्भ में तो यह पूर्ण सत्य नहीं कहा जा सकता। सीमाओं के बावजूद रामचंद्र शुक्ल, नगेंद्र , हजारी प्रसाद द्विवेदी, रामविलास शर्मा, शिवदान सिंह चौहान, देवी शंकर अवस्थी, निर्मला जैन, विश्वनाथप्रसाद तिवारी जैसे आलोचकों के अवदान का महत्त्व समझना ही होगा। कुछ संदर्भों में नामवर जी का भी। कवि-आलोचकों में शमशेर बहादुर सिंह, मुक्तिबोध आदि की आलोचना कर्म का महत्त्व स्वीकारना होगा। अधिक गड़बड़ बाद में आने वाले तथा कथित आलोचकों में मिलती है। नामवर सिंह के बाद किसे कद्दावर आलोचक मानें, खोजना पड़ेगा। मिल जाए तो गनीमत। अपने ढंग से अज्ञेय ने भी अपने संपादन कर्म के माध्यम से गड़बड़ कम नहीं की।

प्र. आपकी कविताओं में लोक-जीवन प्रमुखता से आता रहा है। शुरुआती कविताओं के साथ बाद की कविताओं में और फिलहाल आपकी जो कविताएँ आ रही हैं, उनमें भी लोक-जीवन के विविध रूपों, उसके संघर्षों और विडम्बनाओं की अभिव्यक्ति हुई है। साथ ही, आपकी कविताएँ टाइप्ड नहीं हैं, यानी उनमें विविधता है। क्या हिन्दी कविता में अभी भी लोक को स्वीकृति मिलना बाकी है ?

उ. आपके प्रति हार्दिक आभारी हूँ कि आपने मेरी कविता की एक विशिष्ट समझ का परिचय दिया है। स्पष्ट है कि आपने मेरी कविताओं को गम्भीरता से पढ़ा है। इस खूबी को केदारनाथ सिंह ने भी उजागर किया था और कितने ही दूसरे उन विद्वानों ने, जिन्होंने मेरी कविताएं पढ़ कर उन पर लिखा है, उन्होंने भी इस विशेषता को उजागर किया है। असल में त्रिलोचन ने रचना में लोक से हर स्तर पर ताकत लेने का महत्त्व समझाया था, खासकर तब जब वे मेरे दूसरे कविता संग्रह ‘खुली आँखों में आकाश’ के लिए कविताओं का चयन कर रहे थे। मेरी चुनी हुई कविताओं के संग्रह ‘गेहूँ घर आया है’ पर एक चर्चा गोष्ठी में नामवर जी ने मेरी लोक भाव और भाषा से लैस एक कविता की प्रशंसा करते हुए उसका पूरा पाठ किया था। मेरे पिताजी अच्छे-खासे लोकगायक थे। वहां से भी गुण आया होगा

प्र. धूमिल और उस समय के कुछ अन्य कवियों की कविताओं में विशुद्ध जुमलेबाजी भी है। बाद के कुछ युवा प्रगतिशील कवियों में भी यह प्रवृत्ति दिखाई पड़ती है। कविता में जुमलेबाजी को प्रतिष्ठा कैसे मिली ?

उ. इस विषय पर मैंने काफी सोचा और लिखा है । मुझे अकविता के स्वर बड़बोलेपन से ग्रस्त लगे हैं, जैसे धूमिल के भी उनके विद्रोह के स्वर, कई बार रेहट्रिक हो जाने की कारण अनावश्यक लगे हैं, इसीलिए मैंने उसे छोड़ा है। साथ ही, ‘निषेध’ मात्र भी हमारी पीढ़ी के अधिकांश कवियों को रास नहीं आया। इसीलिए स्वयं मैंने अपने सम्पादन में बाद की कविताओं के कविता संग्रह का नाम ‘निषेध के बाद’ रखा था जो सितम्बर 1981 में प्रकाशित हुआ था। आपने ठीक कहा कि जुमलेबाजी प्रगतिशील कवियों में भी देखने को मिलती रही है। दूसरे शब्दों में, इसे उद्धरणीय पंक्तियों का समावेश करने वाला कहा जा सकता है । इसके शिकार कई जाने -माने कवि तक दिख जाएंगे। सधारण स्तर के पाठकों को ऐसी उक्तियां आकर्षित भी करती हैं। और कवि इससे गदगद भी होते हैं।

प्र. कविता की भाषा, कवि और आलोचक के विषय में आपकी क्या मान्यता है ?

उ. कविता की भाषा कुछ तो कवि के पास सहज रूप में उपलब्ध होती है , कुछ अभ्यास से कवि अपनी भाषा के रूप में सुधार भी लाता है । कविता की भाषा जब-जब मुझे जड़ाऊ लगी है, मैं उससे बिदका हूं । हर कवि के पास अपनी कविता की भाषा -शैली का ठाठ होता है, लेकिन वह उजागर नहीं प्रतीत होना चाहिए। हमारी पीढ़ी और आगे की पीढ़ी की कविता में भाषा की दृष्टि से भी स्थानिकता मिलती है। मेरे लिए यह स्थानिकता तभी ग्राह्य है, जब वह कविता में खपी हुई नजर आए, आयातित अथवा सप्रयास ना लगे । मुझे जातीय तौर पर खपे हुए अन्य भाषाओं के शब्दों पर भी कोई आपत्ति नहीं है। भाषा में लोक और जन (बिम्ब, प्रतीक , मुहावरे आदि से युक्त ) भाषा से बहुत ताकत ली जा सकती है। दलित, आदिवासी और स्त्री विमर्श के तहत रची गई अक्की कविताओं से इस बात को समझा जा सकता है। त्रिलोचन से भी सीख सकते हैं। हाँ, यह ध्यान रखना होगा कि लोक या जन भाषा हूबहू कविता की भाषा नहीं होती, उसमें कवि की कुछ न कुछ सर्जना भी होती है।

प्र. त्रिलोचन के साथ आपके आत्मीय संबंध रहे। आपने उनके बारे में लिखा भी है। आपको उनकी जो सबसे प्रिय कविता लगती हो, उसके बारे में बताएं और साथ ही कोई जीवन-प्रसंग भी।

उ. बेशक त्रिलोचन जी से मेरे घने और अत्यंत आत्मीय संबंध रहे हैं। उनसे मैंने बहुत कुछ सीखा है। बात 26.5.78 की है। किसी काम से शमशेर जी के मॉडल टाउन वाले घर में गया हुआ था। शमशेर जी से मेरा घनिष्ठ परिचय 1975-76 में हुआ था। उस समय वे मेरी पहली पुस्तक ‘रास्ते के बीच’ के लिए कविताओं का चयन कर रहे थे। चयन-प्रक्रिया काफी लम्बी चल रही थी। इस दौरान शमशेर जी से साहित्य और-साहित्य जगत के बारे में काफी जानकारी मिली थी। बातचीत में वे कई बार त्रिलोचन, नागार्जुन तथा केदारनाथ अग्रवाल का भी ज़िक्र करते थे। त्रिलोचन का नाम तब तक मैंने सुना भर ही था। उनके सम्बन्ध में कोई ख़ास जानकारी नहीं थी। मुझे ‘दिगन्त’ हाथ लग गई और मैंने उसे पढ़ा। फ़्री वर्स में लिखने और पढ़ने वाला तथा अपने ही प्रारम्भिक गीतों और तुक़बन्दियों को ‘आउटडेटेड’ मानने वाला मैं ‘दिगन्त’ को पूरा पढ़ तो गया, लेकिन उसकी कविताओं से प्रभावित न हो सका। मुझे वे अनुभव को कहने वाली पुराने ढंग की अनु्शासन-बद्ध कविताएं लगी थीं। शमशेर की प्रशंसा से मैं ताल-मेल नहीं बैठा पा रहा था। मैं काफी परेशान हो उठा था। एक दिन मैंने बातचीत में शमशेर जी से कह ही तो दिया कि त्रिलोचन जी की कविताओं ने मुझे आकर्षित नहीं किया। उन्होंने कहा कि निराला के बाद त्रिलोचन का नाम सबसे ऊपर जाएगा। इस कवि का अभी मूल्यांकन होना है। मैं समझ गया था कि शमशेर जी त्रिलोचन की कविताओं को ज्यादा गम्भीरता, मेहनत और समझ के साथ पढ़ने की सलाह दे रहे थे।

प्र. हर बड़ा साहित्यकार बच्चों के लिए ज़रूर लिखता है। आपकी पीढ़ी के कवियों में सम्भवत: आप अकेले हैं इस क्षेत्र में काम करने वाले। आपने बच्चों के लिए काफी लिखा है, कविताओं से लेकर नाटकों तक। साथ ही कोरियाई बाल साहित्य का अनुवाद भी किया। बाल साहित्य के सामने अभी क्या चुनौतियाँ हैं, कुछ इस पर बताएँ।

उ. आपने उचित ही कहा । आप बाल साहित्य के क्षेत्र में मेरे काम से इतना परिचित हैं और आपने इतनी बड़ी प्रशंसा की बात कही, इसके लिए कृतज्ञ हूं। मेरी पीढ़ी के किसी एक आध कवि ने लिखा भी है तो वह नगण्य-सा ही है। हाँ, महादेवी वर्मा, सुभद्राकुमारी चौहान, दिनकर, बच्चन, भवानी प्रसाद मिश्र, सोहनलाल द्विवेदी , भारत भूषण अग्रवाल, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, प्रयाग शुक्ल आदि कवियों ने लिखा है, किसी ने कम किसी ने ज्यादा । गजलों के साथ शेरजंग फर्ग और बालस्वरूप राही ने लिखा है। बाल गद्य साहित्य में भी प्रेमचंद, विष्णु प्रभाकर, अमृतलाल नागर, मोहन राकेश आदि के नाम लिए जा सकते हैं। हिंदी के बाल साहित्य की स्थिति पहले काफी मजबूत हुई है, लेकिन चुनौतियां तो कई बाकी हैं। विस्तार से जानने के लिए तो मैं हाल ही में प्रकाशन विभाग, भारत सरकार से प्रकाशित अपनी पुस्तक ‘हिंदी बाल साहित्य कुछ पड़ाव’ पढ़ने की सलाह दे सकता हूं।

प्र. लेखकों के संगठन और राजनीतिक दलों से उनके जुड़ाव या कहें कि प्रतिबद्धता को लेकर आपका क्या मत है ?

उ. मैं स्वयं लेखकों के संगठनों से जुड़ा रहा हूं। राजीव सक्सेना और भीष्म साहनी के जामाने में पीडब्ल्यूए में सक्रिय भी रहा हूं। लेकिन बाद में अनेक कारणों से सक्रिय नहीं रह सका। प्रतिबद्धता तो किसी दर्शन या विचारधारा के प्रति होती है। राजनीतिक दलों को लेखक संगठनों पर हावी नहीं होने देना चाहिए। लेखक संगठन या लेखक राजनीतिक दलों की तरह अटकलों को नहीं अपना सकता।

प्र. कहा जा रहा है कि मीडिया अब पूरी तरह सत्ता-अभिमुख हो गया है। पहले भी मीडिया संस्थान पूँजीवादी घरानों द्वारा ही संचालित थे, लेकिन स्थितियाँ भिन्न थीं। 'दिनमान', 'धर्मुयुग', 'सारिका' जैसी पत्रिकाएँ इन्हीं संस्थानों से निकलती थीं। अब जो गिरावट आई, उसके मूल में क्या कारण हो सकते हैं ?

उ. एक शब्द में कहूं तो बाजारवाद । कितने ही चैनलों में जैसे समाचार तक कलाबाजियां करते हुए दिखाए जाते हैं, वह मुझे फूहड़ ही अधिक लगता है। अब तो पैसा कमाऊ विज्ञापन

किसी भी समाचार या कार्यक्रम से ऊपर हैं। कितनी ही महत्त्वपूर्ण बात क्यों न हो, ब्रेक लेने से अधिक महत्त्वपूर्ण नहीं होती। पक्षपात भी सजग दर्शक या पाठक ना भांप जाते हों, ऐसा नहीं है। पूँजी ही नहीं, राजनीतिक गलियारों के सत्ता भोग भी आज के मीडिया के लिए कम महत्त्व नहीं रखते। बालकृष्ण भट्ट या प्रतापनारायण मिश्र के जमाने की बातें छोड़िए।

दिविक रमेश

बी -295, सेक्टर -20, नोएडा -201301

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3843,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2786,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,834,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,7,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1921,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: हिन्दी में अनेक ऐसे आलोचक हुए, जिन्होंने कविता के परिदृश्य को प्रदूषित किया है - दिविक रमेश
हिन्दी में अनेक ऐसे आलोचक हुए, जिन्होंने कविता के परिदृश्य को प्रदूषित किया है - दिविक रमेश
https://lh3.googleusercontent.com/-K3EX_EgCHno/WCAzT_FIY8I/AAAAAAAAw80/6BA7xkqQjmQ/image_thumb%25255B2%25255D.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-K3EX_EgCHno/WCAzT_FIY8I/AAAAAAAAw80/6BA7xkqQjmQ/s72-c/image_thumb%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/11/blog-post_7.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/11/blog-post_7.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ