शब्द संधान / इक बंगला बने न्यारा / डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

भारत में कई भाषाएँ बोली जाती हैं। मराठी, गुजराती, तमिल, तेलगू, हिन्दी आदि। एक भाषा बंगला भी है। लेकिन जब सहगल ‘इक बंगला बने न्यारा’ गाते हैं तो स्पष्ट ही उनका आशय बंगला (या ‘बांगला’) भाषा से नहीं है। फिर ये शब्द,”बंगला” निवास (घर/मकान) का अर्थ कैसे देने लग गया? भाषा “घर” कैसे बन गई?

माना की हर घर बंगला नहीं होता। बंगला एक विशेष प्रकार का घर है। इसके ऊपर कोई मंजिल नहीं होती, इकहरा होता है और इसकी छत पर खपरैल होती है या फिर यह फूस या छप्पर से ढका रहता है। घर के सामने खुला स्थान भी रहता ही है। ऐसे मकान पहले सिर्फ बंगाल में ही बनाते थे। जब अँगरेज़ भारतवर्ष आए तो उन्हें सबसे ज्यादह तकलीफ यहाँ पड़ने वाली सड़ी गरमी से हुई। इससे निजात पाने के लिए उन्हें शायद ऐसे ही घरों की ज़रूरत थी। उन्होंने बंगाल में ऐसे घर देखे। बस, फिर क्या था। सारे हिन्दुस्तान में उन्होंने अपने रहने के लिए ऐसे ही घर बनवाना शुरू कर दिए। तेज़ गरमी नें ये राहत पहुंचाने वाले मकान थे।

कहा जाता है कि इस प्रकार के भवन मुग़ल बादशाहों को भी बहुत पसंद थे। वे ख़ास तौर पर अपनी बेगमों के लिए इसी तरह के बंगाली-महल बनवाते थे।

अंगरेजों ने भारत में अपने रहने के लिए ऐसे आवासों को न केवल प्राथमिकता दी बल्कि बंगाल में प्रचलित ऐसे भवनों को ‘बैंगलो’ नाम भी दिया। वे भारत में जहां भी गए, ऐसे भवनों का प्रचार भी करते गए। अब ‘बैंगलो’ हिन्दी में “बंगला” बन गया है। हर जगह एक मंजिला और खुले शानदार भवनों के लिए अब इसी शब्द का प्रयोग होने लगा है। बंगला शब्द ने इस तरह अर्थ विस्तार पाया। यह शब्द केवल एक ख़ास भाषा के ही लिए नहीं बल्कि एक ख़ास तरह के भवन के लिए भी प्रयुक्त होने लगा। हर किसी की यह ख्वाहिश रहती है कि रहने के लिए, “इक बंगला बने न्यारा”।

-डा. सुरेन्द्र वर्मा

१०/१ सर्कुलर रोड, इलाहाबाद – २११००१ (मो)९६२१२२२७७८

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.