रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

सीमा असीम की 4 कविताएँ



ओ आसमां
जब धरा तुझे लगाती है आवाज
क्या उसकी आवाज़ तुझ तक नहीं पहुँचती
धरा की एक एक धडकन तेरा ही नाम लेती है
क्या तेरा एक बार भी दिल नहीं धडकता
उसकी आँखों से बहते हैं बिरह में प्रेम अश्रु
क्या तेरी एक बार भी आँख नम नहीं होती
ओ आसमां तू सच बताना
क्या तेरा प्यार झूठा था
दिखावा था
आज बस इतना सा सच बता दे
हाँ अपनी धरा को सच बता दे !!




सो जाएँ रातें

सो जाएँ रातें
सपनें जागते रहे
मुस्कुराएँ प्रेम में
या कभी रोने लगें
इच्छाशक्ति चिड़ियों सी
आकाश में भरें ऊँची उड़ानें
कभी बालकनी में आकर चहचहानें लगें
न कोई नियमों का बंधन हो
न किसी भेद का डर
जबसे प्रेम को जाना
कोई ईश्वरीय शक्ति मनप्राण में
बस गयी
जीवन में सच्चे प्रेम को पाना
मुश्किल तो है
पर नेकनीयत से मिल ही जाता है !!

तुम आओगे
जब कभी तुम आओगे
तब दिखाउंगी तुम्हें
वे सब चीजें
जिन में खोजती थी तुम्हें
वे रातें तो वापस नही आ सकती
लेकिन उनकी यादें
जो मैंने सहेज रक्खी हैं
तकिये के गीलेपन में
बिस्तर की चादर पर
बदलता है सबकुछ धीरे से
हो जाता आडम्बर हीन और आदिम
मेरा घने जंगल में
तब्दील हो जाने से पहले
आ जाओ तुम
एक बार !!


ओ बदरा
ओ मतवारे बदरा
जब तुम आओगे
गुनगुनाते
झूमते
चले आओगे
हिमालय से निकलती झीलों से
संचित जल भरकर
सूरज से तपाई धरती पर
वो शीतल शीतल जल बरसाओगे
तब देखना फूल खिलखिला देंगे
कलियाँ मुस्कुरा देंगी
पशु पक्षी
खुश होंगे
पेड़ पौधे
हरिया जायेंगे
सुगन्धित मधुर वयार बहने लगेगी
सूना सूना सा पड़ा घर आँगन
खुशियों से भर कर चहक उठेगा
ओ पागल बदरा
ओ आवारा बदरा
जब तुम घिर घिर आओगे
बिजुरी चमकाओगे
गरज गरज के
घुमड़ घुमड़ के
काले काले अम्बर से
पानी बरसाओगे
तब मेरा मन
ख़ुशी से झूम उठेगा
मैं अपनी बाहें फैलाकर
उस पावन जल से
अपनी पवित्र आत्मा तक
खुद को भिगो लुंगी
आसमान में टिकी
व्याकुल सी गड़ी नजरें
तुम्हें देख तृप्त हो
ख़ुशी से चमक उठेंगी
टूट जायेगा अधरों का मौन
एक नया राग गुनगुना उठूंगी
ओ बदरा
ओ मेरे प्यारे बदरा
तुम आओगे
जब तुम घिर घिर आओगे !

परिचय

कविता कहानी के क्षेत्र में सीमा असीम सक्सेना का एक जाना पहचाना नाम है ! इनकी अभी तक दो कहानी संग्रह व दो कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं ! इनकी कहानियां कवितायेँ कथादेश, परिकथा, कथाक्रम अमर उजाला, दैनिक जागरण आदि में प्रकाशित हुई हैं, इसके साथ ही दूरदर्शन आकाशवाणी व सेमिनार में भी समय समय पर अपने कार्यक्रम, वार्ता आदि देती रहती हैं!
सीमा असीम सक्सेना
0945606469
Seema4094@gmail.com
विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget